Skip to main content

राहुल गांधी ने अमेठी की जनता को छलने का ही काम किया : गोपाल प्रसाद

अमेठी के सांसद राहुल गांधी के जाति, धर्म ,उनकी कंपनी के साथ-साथ सांसद आदर्श ग्राम योजना की उपलब्धि, उनके सांसद निधि का ब्यौरा, नेशनल हेराल्ड केस का विवरण,उनके द्वारा बनाए गए सेल्फ हेल्प ग्रुप का विवरण, सेल्फ हेल्प ग्रुप को राजीव गांधी फाउंडेशन द्वारा दिया गया वित्तीय मदद, राजीव गांधी फाउंडेशन को दान देने वाली संस्थाएं (राजीव गांधी फाउंडेशन के डोनर) राजीव गांधी फाउंडेशन को अब तक प्राप्त हुए डोनेशन के बारे मेंजानना चाहती है। इस संबंध मेँ पारदर्शिता क्यों नहीं है?क्या जनता के कर का पैसा भ्रष्टाचार करने वाले अधिकारियों, उससे नेटवर्क से जुड़े लोगों, राजीव गांधी फाउंडेशन के पास जाती रहेगी और देश की जनता मूकदर्शक होकर देखती रहेगी? आजादी की लड़ाई लड़ने का दावा करनेवाली कांग्रेस पार्टी एवं उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से मैं मांग करता हूँ कि सबसे पहले राजीवगांधी फाउंडेशन जितने ऑडिट रिपोर्ट हुए हैं, उसेसार्वजनिक किए जाने चाहिए। राहुल गांधी की माताश्री और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी जी की तमाम विदेशी यात्रा सार्वजनिक क्यों नहीं की जाती? विदेश यात्राका खर्च, विदेश मेँ जहां-हां गई एवं जिसलिए गई, यह अमेठी की जनता के साथ साथ देश की जनता जानना चाहती है॰ सोनिया गांधी को कौन सी बीमारी है, यह  देश की जनता जाना चाहती है। राहुल एवं सोनिया गांधी को दोहरी नागरिकता, राहुल गांधी और राहुल पाउलो में क्या अंतर है, के बारे मेँ जनता को स्पष्ट जानकारी दीजिए।
                    इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी के साथ-साथ राहुल गांधी, प्रियंका वाड्रा, रॉबर्ट वाड्रा के जितने बैंक अकाउंट हैं, उनके बारे में जानकारी सार्वजनिक करें। क्या उनके अकाउंट के अतिरिक्त उनके बैंक अकाउंट विशेष बैंकों में भी है? यह एफिडेविट के माध्यम से सार्वजनिक किया जाना चाहिए। बोफोर्स कांड के संदर्भ में विकिलीक्स द्वारा गांधी परिवार के ऊपर जो रिपोर्ट छपी है,के बारे मेँ राहुल गांधी जी को श्वेत पत्र जारी किए जाने की आवश्यकता है। उनकी सारी सच्चाईयों  का रहस्य देश के सामने में आना चाहिए। रॉबर्ट वाड्रा की आईटी कंपनी स्टरलाइट की धोखाधड़ी को देशहित में जनता के समक्ष आना चाहिए। सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी कहते हैं कि हमारे रॉबर्ट वाड्रा साहब ने कोई नियम नहीं तोड़ा है औरसरकारी नियमों का पालन किया है। तो कृपया करके राहुल गांधी जी विशेष रूप से अमेठी की जनता को यह जरूर बताएं, जिस  सूत्र और फार्मूले के द्वारा रॉबर्ट वाड्रा जी ने अकूत संपत्ति जमा की है। यह राज अमेठी की जनता को यदि बता देते हैं तो अमेठी के बेरोजगार युवकों के ऊपर में यह बहुत बड़ा कृपा होगा मैं इसके साथ- साथयह भी जानना चाहता हूं कि श्रीमती प्रियंका गांधी की जो शिमला वाली कोठी है, उसको डायनामाइट से क्यों उड़ाया गया था? देश के पर्यावरणविद,राजनीतिज्ञ एवं सामाजिक कार्यकर्तागण पर्यावरण की इस आपूरणीय क्षति पर चुप क्यों रहे, इसकी जाच कर कार्यवाही क्यों नहीं की गई?  भाजपा सरकार के समय में राहुल गांधी की विदेश यात्रा के दौरान वहां की इंटेलिजेंस और पुलिस द्वारा राहुल गांधीको से घंटा तक डिटेन करके नहीं छोड़ा जा रहा था,सोनिया गांधी जी के अनुरोध करने पर तत्कालीन प्रधानमंत्री सरी अटलविहारी बाजपेयी जी के कृपा से नृपेन्द्र मिश्रा की पहल से राहुल गांधी को छोड़ा गया था। कृपया करके राहुल गांधी जी स्पष्टीकरण दें कि ऐसी घटना हुई थी या नहीं? जब वह खुद दागदार है तो किस दागी की बात करते हैं? जब कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष जी खुद बड़े- बड़े काले कारनामों से दास्तान भर रखे हैं, तो फिर वे कालाधन के संदर्भ में बोलने के हकदार कैसे हैं?
            भाजपा बताए कि किन कारणों से उन्होंने अपराधी राहुल गांधी को छोड़ा था? किस प्रावधान के तहत उन्होंने ऐसा किया था? क्या इसी से यह साबित नहीं होताकि भाजपा और कांग्रेस के बीच में सेटिंग- गेटिंग और मैच-फिक्सिंग है आप बात राष्ट्रवाद की करते हैं, लेकिन महबूबा मुफ्ती के साथ कश्मीर में आप मिलकर सरकारबनाते हैं। महबूबा मुफ्ती के बारे में भी जान लें उनकी छोटी बहन रुबिया सईद का नकली अपहरण करवा करकेआतंकवादियों को पुलिस सुरक्षा मेँ छोड़ दिया गया थाकंधार प्रकरण देश की जनता देख चुकी है, जान चुकी है। किस मुंह से भाजपा राष्ट्रवाद की बात करती है? ऐसे आतंकवादी समर्थक नेताओं के साथ सरकार बनाती है,जिसने कश्मीरी हिंदुओं के साथ बार्बर अत्याचार किए हैं।भाजपा किस मुंह से हिंदुत्व की बात करती है, किस मुंह सेआतंकवाद की बात करती है, किस मुंह से वह राष्ट्रवाद की बात करती है? भ्रष्ट और दागदार कांग्रेसियों, सपाईयों,बसपाईयों को भाजपा शामिल कराकर नवाजा जाता है एवं सारी जिंदगी भाजपा के लिए समर्पित रहनेवाले कार्यकर्ता की उपेक्षा की जाती है। भाजपा में आंतरिक लोकतंत्र का अभाव हो चुका है। पार्टी आज दो व्यक्ति नरेंद्र मोदी एवं अमित शाह पर केन्द्रित हो गई है। सांसदों को तो छोड़िए,मंत्रियों की भी कोई औकात नहीं है। समर्पित पार्टी कार्यकर्ताओं का काम नहीं होता । भाजपा के मंत्रियों द्वारा नेताओं के साथ संपर्क, समन्वय नहीं है।
            मैं यह भी जानना चाहता हूं कि अमेठी में भाजपा सरकार की केंद्रीय कपड़ा मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी नेभाजपा कार्यकर्ताओं को साड़ी दिया था, वह किस म सेदिया? वास्तव मेँ यह सरकारी तंत्र का दुरुपयोग एवंमतदाताओं को लोभ देकर लुभाया जाना है। जनता के टैक्स के पैसे सरकारी कोष में जमा होते हैं, उसका दुरुपयोग स्मृति ईरानी जी ने किया है। इसलिए उनको यह साफ करना चाहिए कि 11000 साड़ियों का भुगतानउन्होंने कपड़ा मंत्रालय के मद से खर्च किया अथवा अपनेमद से किया और इससे संबंधित समस्त सूचनाएं का ऑथेंटिक रिपोर्ट यानी पासबुक से लेकर वाउचर से लेकरउन्हें सार्वजनिक करनी चाहिए, क्योंकि वह स्वयं अमेठी से भाजपा की उम्मीदवार हैं। माननीय स्मृति ईरानी जी ने अभी-अभी हाल फिलहाल ही हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के राजनीति में सन्यास लेने की स्थिति में स्वयं सन्यास लेने की बात कही है। देश की जनता जानना चाहती है कि उन्होने अपना बयान क्यों और किस संदर्भ में दिया है? मेरे विचार से य भाजपा मेँ उनकीअनुशासनहीनता को दर्शाती है। इससे प्रधानमंत्री सरी नरेंद्रमोदी जी की छवि धूमिल हुई है। आने वाले समय में प्रधानमंत्रीजी को अपने छवि बचाने में बचाने हेतु सतर्क रहना चाहिए और इस तरह की बेतुके और चापलूसी वाले बयान दिए जाने वाले लोगों को अपने संगठन से अबिलंब निकालना चाहिए। माननीय ईरानी जी ने अमेठी के भाजपा कार्यकर्ताओं को 11000 गाय और पानी का नल देने का वादा किया था। वह वादा क्यों नहीं पूरा हुआ?
                  कुछ लोग यह कहते हैं कि गोपाल प्रसाद ने भाजपा से विद्रोह कर लिया मैं उन्हें अपनी पीड़ा चंद पंक्तियों में बताना चाहता हूँ-
 कुछ तो मजबूरियां रही होंगी,
              यूं ही कोई बेवफा नहीं होता।“
“चमन में इस चमन को सींचने में
              पत्तियाँ कुछ ड़ गई होंगी
यही इल्जाम है मुझ पर
              लेकिन अपने ही हाथों जिसने बागवां को उजाड़ा हो
वही दावा कर रहे हैं, इस चमन के रहनुमाई का ! ”
              अमेठी में भाजपा के एक प्रमुख नेता की फैक्ट्री में कर्मचारियों को न्यूनतम मजदूरी भी नहीं दिया जाता है। उनकी फैक्ट्री आसपास के इलाके में प्रदूषण बढ़ा रहा है। अमेठी की जनता यह जानना चाहती है कि क्या भाजपाका उसे समर्थन प्राप्त है? भाजपा आज उस मुद्दे पर मूकदर्शक क्यों है? पूरी अमेठी में गोचर की भूमि, ग्राम सभा की भूमि, तालाब की जमीन पर माफियाओं ने,प्रभावशाली लोगों ने, राजनीतिज्ञों ने अतिक्रमण कर लिया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के विभागीय आदेश के बावजूद समय सीमा निर्धारित कर दिए जाने के बावजूद भी कोई कार्रवाई अब तक नहीं की गई। मैंने इस विषय पर अमेठी के डीएम कार्यालय एवं सभी एसडीएम कार्यालय के साथ- साथ नगर पालिका, नगर पंचायत, नगर निगम मैं सूचना का अधिकार का प्रयोग किया लेकिन यह कहते हुए मुझे दुख होता है कि अमेठी जिला प्रशासन द्वारा इस आरटीआई का जवाब नहीं दिया गया। क्या यह साजिश नहीं है? अमेठी की जनता को जान लेना चाहिए कि भाजपा सरकार में आरटीआई कानून की हत्या हो रही है। पारदर्शिता पर अंकुश लगाया जा रहा हैसूचनाओं के स्रोत को सभी विभाग की वेबसाइट पर दिया जाना चाहिए था, वह नहीं हो रहा है। इसके साथ ही जनहित के उन सभी बिंदुओं पर सूचना देने में आनाकानी की जा रही है। यह उदासीन व्यवहार लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत नहीं है। मेरा मानना है कि आज अमेठी की सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी है। आज भाजपा सरकार स्मार्टसिटी की बात करती है पर मैं तो समृद्ध गांव की बात करता हूँ। देश की 70% से अधिक जनता गाँव मेँ वासकरती है तो समृद्ध और सशक्त गांव क्यों नहीं बनाया जाता? गांव का कच्चा माल गांव में ही पक्का माल के रूप में तब्दील क्यों नहीं होता? गांव में रोजगार सृजन, गरीबी उन्मूलन, सशक्तिकरण, स्किल डेवलपमेंट का प्रोग्रामक्रियान्वित क्यों नहीं किया जाता? सरकार का स्किल डेवलपमेंट पूर्णरूपेण सफल नहीं है,  फ्रेंचाइजी के माध्यम से होने वाले स्किल डेवलपमेंट में ज्यादा भला नहीं होने वाला। वास्तव में करने वालों से सीखना पड़ेगा। किसान से,मजदूर से बड़ा ट्रेनर और बड़ा स्किल डेवलपमेंट कराने वाला कोई नहीं हो सकता। मैं देश की जनता को बताना चाहता कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दो प्रमुख संगठन-अखिल भारतीय मजदूर संघ एवं स्वदेशी जागरण मंचकेंद्र सरकार से नाराज क्यों है? मातृ संस्था आरएसएस के एजेंडा को भाजपा अपना चुनावी एजेंडा क्यों नहीं बनाती है? वास्तव में व्यक्ति आगे और पार्टी पीछे हो गई है औरयह भाजपा की सरकार है ही नहीं, भाजपा प्लस सयोगियों की सरकार है। अभी कई सहयोगियों ने भाजपा का साथ छोड़ दिया है। भाजपा का नारा- अबकी बार भाजपा सरकार, अबकी बार मोदी सरकार, अबकी बार400 पार, सबका साथ सबका विकास,मैं हूँ चौकीदार,मोदी है तो मुमकिन है, आदि- आदि हो सकता है परंतु इस तरह के नारे वास्तव में विज्ञापन एजेंसियों द्वारा गढ़ा जाता है। यह पेड़ मीडिया का हाईप क्रिएशन मात्र है।  सोशल मीडिया में राजनीतिक दलों के प्रचार पे माध्यम से किए जा रहे हैं। सोशल मीडिया में अकाउंट के सामने हरा रंग से सही का निशान लगा होता है, जिसका मतलब है यह पेअकाउंट है। मैंने अब तक सोशल मीडिया में कोई पेऑप्शन नहीं लिया है, फिर भी अभी तक गोपाल प्रसाद अनपेड माध्यम से डेढ़ लाख लाइक्स के आंकड़े को पार कर चुका है। मेरा नारा है -मिशन अमेठी और मैं केवल और केवल उसी पर केंद्रित हूँ। जिस तरह अर्जुन से पूछा गया था कि क्या देखते हो? तब अर्जुन ने कहा था कि मुझे मछली की आंख का काला वाला हिस्सा ही मात्र दिखाई देता है और कुछ दिखाई नहीं देता। जबकि अन्य शिष्यों नेअलग-अलग बातें की थी। ठीक उसी तरह मुझे केवल और केवल अमेठी और अमेठी के हक और हुकूक की लड़ाई,जनहित के मुद्दे, अमेठी के अधिकार, अमेठी के विकास की बात याद रहता है, उसके सिवा कुछ नहीं। वास्तव में अमेठी से हमारी जीत यदि होती है तो, यह जीत इंसानियत,ईमानदारी, स्वाभिमान, गरीबी और सम्मान की जीत होगी।लोकसभा चुनाव के चुनावी महाभारत के सारथी कृष्ण के पर्यायवाची के रूप में यह गोपाल प्रसाद आपके समक्ष खड़ा है। हनुमान, जामवंत,सुग्रीव, विभीषण और वानर सेना के माध्यम से धर्म की रक्षा हेतु चुनावी महाभारत कीइस लड़ाई को अवश्य जीतूंगा।
           मैं अमेठी का राजनारायण बनकर दिखाऊंगा। जूता बनाने वाली कंपनी ने ऑस्ट्रेलिया में अपने दो मार्केटिंग मैनेजरों को भेजा था और यह कहा था कि आप जाकर हमारे व्यापार की क्या संभावना है, इसपर रिपोर्ट भेजें।  एक मार्केटिंग मैनेजर ने अपनी रिपोर्ट क्या लिखा यहां के लोग जूता नहीं पहनते इसलिए यहां व्यापार की कोई संभावना नहीं है। वही दूसरे मार्केटिंग मैनेजर ने मेल किया कि चूंकि यहां के लोग जूता नहीं पहनते, इसलिएहमारे जूता कंपनी के व्यापार की प्रबल संभावना है। मैंदूसरे मार्केटिंग मैनेजर के सिद्धांतों में विश्वास करने वालाव्यक्ति हूँ।  दृढ़ विश्वास और संकल्पों से लबरेज होने के अलावे मेरे पास कुछ नहीं है।  मातृ एक संकल्प और दूसरा आप के प्रति विश्वास, मैं इसी दो मूल मंत्र के साथ संपर्क- समन्वय- संवाद और सहयोग के फार्मूले पर इस सैद्धांतिक,सामाजिक और राजनीतिक लड़ाई को जीत कर दिखाऊंगा। मैं कॉंग्रेस की जड़ों को उत्तरप्रदेश के अमेठी सेउखाड़कर मट्ठा डालने आया हूँ। वास्तव में आपके सामने प्रश्न उठ रहा होगा कि मैं ऐसा क्यों करने आया हूं? अमेठी के सांसद राहुल गांधीजी एवं कांग्रेस के अध्यक्ष महोदय ने यह कहा था कि उत्तरप्रदेश और बिहार की जनता कटोरा लेकर भीख मांगती है और उत्तरप्रदेश के युवा नकारे हैं।उन्होंने यह भी कहा था कि मंदिरों में लड़कियों के साथ छेड़छाड़ होता है। मैं इस बयान से बहुत व्यथित हुआ था और मैंने संकल्प लिया था कि मैं इस बयान देने वाले नेताको उसके संसदीय क्षेत्र में चुनौती दूंगा। राहुलजी ने अभी-अभी आटकवादियों को जी शब्द से और माननीयप्रधानमंत्रीजी को चोर कहकर संबोधित किया है। राहुलजी पाकिस्तान जा कर हिंदुस्तान की बुराई करते हैं, क्या यह उचित है? वास्तव में यह राहुल गांधीजी के जन्म स्थान का संस्कार है जो वास्तव में उनके इटली देश में विरासत में मिला है। यह उनका नहीं यह उनके माता के संस्कारों का दोष है।
    अब मैं वर्तमान केंद्र सरकार की बात करते हुए जानना चाहता हूँ कि डिमॉनेटाइजेशन /नोटबंदी के संदर्भ में हमारी वर्तमान सरकार ने चुप्पी क्यों बांध रखी है? उसके आंकड़े,उससे संबंधित सूचनाएं सार्वजनिक क्यों नहीं की गई थी?देश की जनता जानना चाहती है कि कुल कितना काला धन पकड़ा गया? नोटबंदी की प्रक्रिया से देश की आर्थिक क्षमता पर क्या प्रभाव पड़ा? क्या लाभ हुआ या  क्या हानि हुआ और विशेष रूप से लघु उद्योग पर इसका क्या असरहुआ? भुखमरी एवं बेरोजगारी कितनी बढ़ी? अगर हमारी केंद्र सरकार इसे छुपाना चाहती है तो समझ लीजिए मामला गड़बड़ है। अगर इनमें सच्चाई है तो इन से संबंधित सभी समस्त सूचनाएं सरकार द्वारा सार्वजनिक कर दिए जाने चाहिए। अब बात आरक्षण की कर लें- जब नौकरी ही नहीं है तो आरक्षण का क्या करेंगे? 33%महिला आरक्षण का ख्वाब दिखाने वाली कांग्रेस पहलेपार्टी पदों और पार्टी उम्मीदवार के रूप मेँ 33%आरक्षण घोषित कर पहल क्यों नहीं करते? 10%पार्टी पदों पर गांव मेँ निवास करनेवाले को और अपने विद्वान प्रवक्ताओं की सूची में महिला उम्मीदवार 33%घोषित करें। मैं भाजपा कांग्रेस के साथ- साथ समस्त राजनीतिक दलों को चुनौती देता हूं कि गरीबी,कुपोषण, मंहगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार के मुद्दे कोचुनावी घोषणा पत्र का विषय बनाने के बजाय प्रैक्टिकल इंप्लीमेंटेशन करें, जमीनी काम करें। आज जनता आप सभी से हिसाब मांग रही है- “क्या-क्या किया है आपने, आपने क्या-क्या नहीं किया?”
मैं अखिल भारत हिंदू महासभा राजनीतिक दल का राष्ट्रीय उम्मीदवार हूँ।  अमेठी की जनता का राष्ट्रीय कर्तव्य है किदोनों प्रमुख पार्टियों के उम्मीदवारों को हराकर मुझे विजयी बनाए।जिस प्रकार रायबरेली की जनता ने पूर्व प्रधानमंत्री एवं कांग्रेस उम्मीदवार श्रीमती इंदिरा गांधीजी को हराकर राजनारायण जी को जिताया था, उसी प्रकार मुझे जिता कर ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए राष्ट्रीय कर्तव्य पूरा करअपना योगदान दे।
                     “तख्त बदल दो, ताज बदल दो, बेईमानों का राज बदल दो।“
वास्तव में हमारी जीत पूरे देश की सेवा का अनूठा उदाहरण होगा। पैशाचिक शक्तियों का अंत एवं देश को कांग्रेस से मुक्ति मिलेगी। मोदी जी का जो वायदा था कि - कांग्रेस मुक्त भारत होगा और मोदी जी के पदासीनहोते ही मां- बेटा- बेटी और दामाद देश छोड़ कर भाग जाएंगे यह तो हुआ नहीं क्योंकि उन्हीं की सारी नीतियों को उन्होंने लागू किया, जिसे विपक्ष में रहते हुए भाजपा ने राष्ट्र विरोधी बताया था। संसद में प्रधानमंत्री जी सोनिया जी के आगे घिघियाए थे और कहा था कि आपका जो एजेंडा है वही तो लागू कर रहा हूँ। ऐसी स्थिति में यह परिवार मोदी जी के 56 इंच के सीने पर अपना पाव जमा कर बैठा है और मोदी जी देश के समक्ष अपना बार- बार रोना रो रहे हैं । इसीलिए दो प्रमुख पैशाचिक शक्तियों को हराकर मैच फिक्सिंग की तरह प्रहसन कर रहे एवं पीछे की लड़ाई लड़ रहे भाजपा और कांग्रेस से देश को मुक्त कराना हमारा कर्तव्य है।
इसलिए अमेठी से ऐसा संदेश निकले कि हमें कांग्रेस मुक्त एवं भाजपा मुक्त भारत चाहिए। मैं गोपाल प्रसाद आपसे आह्वान करता हूँ कि मुझे आशीर्वाद देकर इस युद्ध में विजयी बनाएं। वास्तव में अमेठी में भाजपा, सपा, बसपाकांग्रेस से लड़ ही नहीं रही है। इनको हराना ही नहीं चाहती और कांग्रेस को वॉकओवर देकर जिता दिया जाता है। कांग्रेस का चुनावी तंत्र अमेठी की जनता को बंधक बनाए हुए है। कांग्रेस द्वारा मैनेजर के माध्यम से पैसा बांटा जाता है। इनके मैनेजरों की गुंडई एवं माफियागिरी है। अन्य उम्मीदवारों को उत्पीड़ित कर गा दिया जाता है, मगर मैं तो खटिक हूं। भाजपा सरकार में भी अपना प्रताप तो मैं दिखा ही चुका हूं। स्मृति ईरानीजी एवं उमा भारतीजी के मंत्रालयों को मोदी जी द्वारा क्यों छीना गया? यह आपके गोपाल प्रसाद ने ही करवाया था। मैंने ही अमेठी जिला प्रशासन से गोचर भूमि, तालाब की भूमि और ग्राम सभा की भूमि के अतिक्रमण के संबंध में आरटीआई द्वारा मांगी है। मैं भी देखता हूँ कब तक छुपाते हैं?  गायत्री प्रसाद प्रजापति जो अमेठी के ही विधायक थे और उत्तर प्रदेश के सपा सरकार के मंत्रिमंडल में खनिज मंत्री बने थे, के भ्रष्टाचार के मामलों को उजागर करवाना एवं श्रीमती नूतन ठाकुर अधिवक्ता, लखनऊ के द्वारा पीआईएल लगवाकर गिरफ्तार करवाने में हमारी भूमिका रही। सपा के सबसे कमाऊ मंत्री श्री प्रजापति के भ्रष्टाचार के खिलाफ शंखनादमौलिक भारत की संरक्षक नूतन ठाकुरजी ने आरटीआईएवं इलाहाबाद हाईकोर्ट में पीआईएल लगवा कर कियाथा। इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद उनकी सारी चल- अचल संपत्ति जप्त कर ली गई है। भ्रष्टाचार की कमाई करनेवालों पर हमने प्रहार करने का संकल्प कियाऔर बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार नोएडा के पूर्व सीईओ यादव सिंह की गिरफ्तारी करवाया था। राष्ट्रीय स्तर पर आरटीआई के क्षेत्र में हमारी खास उपलब्धि रही है। आज तक हमने सारे 6000 से ऊपर आरटीआई आवेदन दायर कर चुका हूँ। यह सभी आरटीआई केंद्र सरकार से संबंधित, जनहित एवं देश की नीति- नियम और सिद्धांतों के विषय से संबंधित थे। नोटबंदी के संदर्भ में मैंनेही यह खुलासे किए थे, कि मोदी सरकार नोटबंदी से संबंधित सूचनाएं नहीं देना चाहती। न्यूनतम मजदूरी के संदर्भ में मैंने ही आरटीआई से जानकारी निकाली थी। आरटीआई के साल के बाद अंततः केंद्र सरकार को अपना निर्णय बदलना पड़ा और न्यूनतम मजदूरी मेंबढ़ोतरी की गई। अर्धसैनिक बलों को शहीद का दर्जा नहीं दिया जाना वाले विषय पर भी मैंने आरटीआई के माध्यम से सूचनाएं उजागर की थी। गंगा मंत्रालय जो उमा भारती जी के नेतृत्व में था, और उमा भारतीजी उनकी मंत्री थी, के समय करोड़ों रुपए ईटिंग- मीटिंग- सीटिंग के नाम परखर्च हो गए। गंगा के शुद्धिकरण के ऊपर वास्तव में लाख रुपए भी खर्च नहीं किए गए। किस मुंह से भाजपा पारदर्शिता कि रक्षा, भ्रष्टाचार पर अंकुश और स्वच्छ शासनकी बात करती है। विशेष रूप से खटीक समाज एवं  समग्र जनता के लिए गर्व का विषय होना चाहिए कि मैं जमीन से उठकर राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने वाला कर्तव्यनिष्ठव्यक्ति हूं। समस्त दलितों, शोषितों एवं किसानों से मैं कहना चाहता हूं कि वह मुझ में अपनी छवि देखते हुए गर्व करें। मैं मिथिला क्षेत्र मेँ मां जानकी की भूमि स्थित जागृत शक्तिपीठ उच्चईठ (जहां से मां भगवती का आशीर्वाद कालिदास जी को प्राप्त हुआ था) स्थल पर साधना करके आशीर्वाद पाया। माँ सीता की नगरी मिथिला का जन्मा यहपुत्र, राम के अवध क्षेत्र मेँ छोटा हनुमान बनकर राम काज करने आया है। आपने हनुमान चालीसा में पढ़ा होगा-“रामकाज करिवे को आतुर” । मैं इस पंक्ति को आपको याद दिलाना चाहता हूं ताकि इसी माध्यम से दोष को मुक्त किया जा सके। देश के बड़े से बड़े बुद्धिजीवी, बड़ा पत्रकार,अफसर एवं राजनेता, न्यायाधीश आज मुझे जानते हैं और मुझे पहचानते हैं। आप से ही सीख कर एवं आपसे मिलकर अमेठी के विकास की योजना मुझे बनानी है। नई अमेठी का निर्माण करना है। अमेठी के अनुपयुक्त एवं बंजर जमीन, नीलगाय की समस्या, ज्यादा उत्पादन के बावजूद अमेठी में पर्याप्त अन्न भंडारण नहीं होना,लघु एवं कुटीर उद्योग तथा स्वदेशी प्रकल्पों का अभाव, खुशहाली नहीं होना आदि विषय का मैं अनुभव प्राप्त कर चुका हूं। मैं मात्र अमेठी के उम्मीदवार के रूप में ही नहीं बल्कि सामने राष्ट्रीय यज्ञ हेतु राष्ट्रीय उम्मीदवार बन कर आया हूँ। हमारीपार्टी अखिल भारत हिंदू महासभा के अध्यक्ष लाला लाजपतराय, पंडित मदन मोहन मालवीय, वीर सावरकरजैसे क्रांतिकारी एवं सेनानी तो रहे हैं इस संगठन एवं राजनीतिक दल की अध्यक्ष आजाद हिंद फौज के प्रणेता सुभाषचंद्र बोस की प्रपौत्री राजेश्री चौधरीजीहैं।  आजाद हिंद फौज में हिंदू मुसलमान साथ-साथ थे,क्योंकि उसने पूरे देश की आजादी की लड़ाई लड़ी थी।जिन लोगों ने षड्यंत्र कर हिंदुस्तान का विभाजन कराया था, वास्तव में नके ऊपर जनोसाइड अर्थात हजारों लोगों की बर्बरता का मुकदमा चलाया जाना चाहिए। भाजपा ने कभी इसका विरोध नहीं किया, भाजपा कभी नहीं कहतीकि उसे अखंड भारत चाहिए। आपने सुना होगा- सौ सुनार की एक लोहार की” मेरा कृत्य इसी तरह का रहा है। आरटीआई का प्रयोग करके 3-राजनेताओं केकारनामों का भंडाफोड़ करके ध्वस्त कर दिया है। आपसे अनुरोध है, विनम्र विनती है कि मेरी योग्यता, कर्म निष्ठा एवं समर्पण के भा को स्वीकार कर अमेठी के इस आसन्नचुनाव में मुझे पूर्ण बहुमत से विजयश्री दिलाकर संसद में जाने का रास्ता प्रशस्त करें ! अमेठी की समस्त जनता एवं देश की जनता को पुनः प्रणाम !  हार्दिक धन्यवाद !      
जय हिंद !             जय श्रीराम !            जय गौमाता!                वंदे मातरम !
आपका - गोपाल प्रसाद (प्रत्याशी अखिल भारत हिंदु महासभा, लोकसभा क्षेत्र अमेठी उ.प्र.)   मोबाइल नंबर-8178949704,वाट्सऐप:9910 34 1785, ई-मेल :sampoornkranti@gmail.com
PRESS RELEASE : 
AMETHI CANDIDATE  GOPAL PRASAD RTI ACTIVIST  APPEAL 
New Delhi ( 22 march, 2019).  
Mr. Gopal Prasad is policy researcher and social workers to push for the governance reform through RTI. He is credited with creating the awareness about public policy and its implications among society through RTI principles for direct democratic citizen governance and is most famous for his speech at the Conference where he implored institution to train officers and youths, calling for transparent and more accountability in the governance field.
He has worked upon awareness of Right to information Act aims at making the government transparent and more accountable, the effective use of it to curb corruption.
He believe and  endorse the freedom of information is an extension of freedom of speech, a fundamental human right recognized in international law, which is today understood more generally as freedom of expression in any medium, be it orally, in writing, print, through the Internet or through art forms.
He believe RTI is a citizenry and democratic tool to find out lack of policy implementation and empower citizen governance and reduce poverty and unemployment, pollution.
He trusts to holistic development of the people including their physical development and mental enlightenment, self-employment and harmony to measure a nation’s progress. That country is developed where its people are educated and are physically fit. He believe that actual education is one in which knowledge enlightens the mind. Such kind of education makes man tolerant, able, successful and polite.
......
New Delhi( 22 march, 2019).
 Dear Friends, Jai Bharat !
 Having been involved in exposing corruption through RTI for last 8 years, I have long worked for positive change in India. Now I feel that the time has come for me to seek elected offices. I want to bring fresh idea and positive change to end the corruption in India through changing political system by running the LokSabha election from “ Amethi” a place in UP . I think India is not a democratic country but a kingdom run by a foreigner and irrigating the corruption. Probably you know that I have always been concerned about corruption which is responsible for all ills in India. I believe that there are workable solutions available that will enhance Indian political system and minimize the corruption. We all would like to see a corruption free India and will do together. In order to serve the people of India I must conduct an aggressive campaign. My opponent in “Amethi” are well known and established corrupt people, who are founder and fostering the corruption in India for last 71 years. They manage to win the election through money and corrupt power system. For these reasons I feel that I must step forward and offer the voters of “Amethi” a choice. For this campaign to be successful, it will require a strong and organized grassroots initiative. I have already started the awareness in Amethi through corruption story of Congress party and their corrupt kings/queens who have converted India virtually in a kingdom country. We are organizing village meetings and RTI training camps in Amethi. But we have to intensify this campaign through brochures, flayers, yard signs, advertising at different places and lot more to canvass. I cannot do it all alone. That is why I am turning to the people who believe  in to end this corrupt kingdom and establish a new clean transparent democratic India. I am inviting them to get involved in my campaign and help in make a difference. Your early contribution will give our race a tremendous boost. You may help through cheque, draft, net payment, counter deposit at bank (Details of bank are given below). You may also support through providing used computers, furnitures, mobiles ,stationary items etc. You can donate old books also for istablishment of Libraries, Vachnalayas, Counselling Centres in different Assembly / Blocks/ areas in Amethi Thanks in advance for your encouragement and support.
" Jay Hind "                                                 “Vande Mataram” 
 Sincerely,
 Gopal Prasad (Upcoming Loksabha Candidate from “Amethi” )
Mob: 09910341785, 8505946059

Address: House No.-210, 2nd Floor, Street No.-3, Pal Mohalla,
Near Mohanbaba Temple, Mandawali, Delhi-110092.
Bank and A/c details : GOPAL PRASAD, SBI Saving Bank Account No.- 20002514197. Mangal Bazaar ,Laxmi Nagar, Dehi Branch. Branch code: 06499
Brief profile of Gopal Prasad (Plz Click on following Google Search link) https://www.google.co.in/#biw=1173&bih=553&sclient=psyab&q=gopal+prasad+rti+activist









SOME MEDIA HEADLINES ON RTI REPORT OF GOPAL PRASAD RTI ACTIVIST
………………………………………………………………………………
……………………………..
BJP aims to defeat Rahul Gandhi in Amethi

RTI ACTIVISTS ARE LIKE INTELLIGENCE AGENCIES
http://thestatesman.com/…/-rti-activists-are-like-intellige… 
Zero transparency: Kejriwal doing nothing to promote RTI
Fighting corruption through RTI
No law to protect RTI activists
3 RTI activists roughed up (BEATEN Incident reported at Satyavati College)
लोकतंत्र के सशक्तिकरण में आरटीआई की भूमिका पर सेमिनार संपन्न
सूचना के अधिकार से लोकतंत्र को मजबूती
आरटीआई से आती है पारदर्शिता
सूचना का अधिकार अमोघ अस्त्र
सूचना का अधिकार वर्तमान स्थिति एवं चुनौतियां : गोपाल प्रसाद
आरटीआई एक्टिविस्ट ने आरटीआई क्रांति का किया शंखनाद
अमेठी व रायबरेली में आरटीआई प्रशिक्षण शिविर चलाएंगे गोपाल प्रसाद अधिकार की तो बात होती है परन्तु कर्तव्य भूल जाते हैं– गोपाल प्रसाद
कैसे करें भ्रष्टाचार का सामना ?आरटीआई के प्रभावी क्रियान्वयन की मांग / सूचना के अधिकार की दशा सुधारने की मांग तेज
सूचना का अधिकार कानून का सही ढंग से क्रियान्वयन न होने के विरोध में धरना
आरटीआई कानून को कमजोर करनेवाली सरकार
Delhi HC charges Rs.50 for RTI info ; Govt rate : Rs. 10
जानकारी देने के लिए कोर्ट दस की बजाय वसूल रही है पचास रूपए
डैमेज कंट्रोल को यूपीए ने पास कराया लोकपाल
पीएम का काम सिर्फ घोषणाएं करनाउनपर अमल नहीं
PMO swoops on air miles for personal use
ASI lodges 300 cases 27 against govt officials
लाल किले से जंतर मंतर तक कब्ज़ा / दिल्ली के स्मारक संकट में कर्ज के लिए ग्राहक से ब्लैंक चेक लेना बैंकों का अपना फैसला
Banking frauds galore, staff often colludes (Employees pass dud cheques, push fake currency)
बड़े बैंकों के बाबूघपलेबाज बड़े(11बैंकों के 250 कर्मचारी रहे धोखाधड़ी में शामिल,आरटीआई का खुलासा)
बैंकों में करोड़ पर डाला डाका” / धोखाधड़ी पर सवाल एक जबाब अलग-अलग
आपके पैसे पर डोल रही बैंक अफसरों की नीयत
सख्ती से वित्त मंत्रालय को हर महीने पौने दो लाख की बचत
BIOMETRIC SYSTEM LEADS TO REDUCTION IN OVERTIME PAY
रेलवे की 2460 एकड़ भूमि पर अवैध कब्ज़ा
दागी पुलिसकर्मी करते हैं राष्ट्रपति की सुरक्षा
President guarded by corrupt cops.
HOME MINISTRY ORDERS PROBE ON POLICEMEN GUARDING PREZ
पुलिस की सुरक्षा शाखा में भ्रष्टाचार की सेंध / गृह मंत्रालय ने माँगी भ्रष्ट पुलिसकर्मियों की रिपोर्ट
सिख विरोधी दंगों में मारे गए थे 2733 लोग
1984 ANTI SIKH RIOTS : Accused in 7 Cases out of 255 Convicted
उप्र में नौ सालों में साम्प्रदायिक हिंसा की 1271 घटनाएं, 336लोगों की मौत
पुलिस आतंकियों का कैसे करेगी मुकाबला
पुलिस वाले भी महिला सहकर्मियों के साथ यौन उत्पीडन में आगे
भ्रष्टाचार से सनी है दिल्ली पुलिस (एसीपी से सिपाही तक आरोपों से घिरे)
भ्रष्ट अधिकारियों की फौज
सजा से बच जाते हैं 42 प्रतिशत आरोपी
दस में से नौ शिकायती टरका देती है पुलिस
खेल है करीब और पुलिस के 1894 पद हैं खाली
22 vacancies for DCPs, AdCPs , 103 for ACPs in Delhi Police
Delhi policemen make a career out of ruining lives
पुलिस अधिकारी ही उड़ा रहे हैं कानून का मखौल
रेप की 69 पीड़ितों को 28 लाख का मुआवजा
70% acquittals in special cell cases (RTI Reply reveals the overall
conviction rate in past 5 years is dismal )
RTI reveals cost of rugby venue went up 200%
राष्ट्रमंडल खेल -2010: भ्रष्टाचार ही भ्रष्टाचार
जजों के चिकित्सा बिलों की जानकारी नहीं मिली
लंच में ताश खेलनेवाले कर्मियों पर होगी कारवाई
पिछले साल अगस्त में 306 यूआरएल प्रतिबंधित हुएकारवाई की सूची गोपनीय सूचना मंत्रालय की सूचना ही सही नहीं.
जांच की गुम’ हुई फाईल पाई(लघुउद्योग मंत्रालय में भ्रष्टाचार की जांच से जुड़ी फाइल गायब होने का मामला)
सीवीसी जांच के बीच ही गायब हो गई फाइल
बिना नीति के चल रहा है दूरदर्शन का डीटीएच
चीन के कब्जे में भारत का 38 हजार वर्ग किमी क्षेत्र
चीन ने कर रखा है भारत की 43,180 वर्ग किमी जमीन पर कब्ज़ा
7,500 Bangladeshi nationals deported from Delhi : RTI
अनुच्छेद 370 को लेकर समय सीमा तय नहीं
नदियों को जोड़ने के काम में पड़ोसी देशों से बाधा
दया याचिका निपटारे की समयसीमा तय नहीं :सरकार
गृह मंत्रालय में अटकी क्षमा याचिका
दया याचिकाओं पर वोट की राजनीति
राष्ट्रपति के पास 18 याचिकाएं लंबित
सात एनजीओ के खिलाफ शिकायततीन आधारहीन पाई गई
EX MPs can take pension along with benefits as EX MLAs: RTI
संसदीय पेंशन प्राप्त करने के हक़दार हैं पूर्व विधायक व पूर्व सांसद सांसद निधि योजना को बंद करने का प्रस्ताव नहीं
बजट खर्च करने में कुछ ने दिखाई दरियादिली तो कुछ रहे फिसड्डी
99 
सांसदों के सरकारी आवास में अवैध निर्माण / कानून तोड़ने में क़ानून निर्माता ही आगे.
750 
सांसदों ने खरीदे जब्त हथियार / देश के कई सांसद हथियारों के शौक़ीन
पिछले 25 साल के दौरान जब्त किए गए हथियार खरीदे नेताओं ने दलों के घोषणा पत्र से चुनाव की शुचिता प्रभावित नहीं हो : ECचुनावी खर्च का झूठ पकड़ने में चुनाव आयोग असहाय
भ्रष्टाचारकालेधन पर संसद में चुप रहीं सोनिया गांधी
Govt. ignores CBI Proof against khurshid NGO
शीला के खिलाफ भ्रष्टाचार के पांच मामलों की जांच कर रहे हैं लोकायुक्त
वीवीआईपी श्रेणी में आते हैं सोनिया के दामादवाड्रा दलाई लामा के समकक्ष/
वाड्रा को भी है हवाई अड्डे पर सुरक्षा जांच से छूट हासिल
Security to Ministers, judges for impartial decision making : Police
संसद में उठेगा बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने का मुद्दा
सात साल से अधर में लटका है भोजपुरी भाषा का मामला
शहीद” शब्द कहीं भी परिभाषित नहीं : गृह मंत्रालय(RTI IMPACT:शहीद का दर्जा देने पर किया जा रहा विचार)
कोई भेद भाव नहीं होता सेना व अर्धसैनिक बालों के जवानों को सम्मान देने में
छुट्टी के दिन कुछ सरकारी कार्यालय खुलने से गृह मंत्रालय बेखबर
हर साल 18 आईएएस अधिकारी ले रहे है स्वैच्छिक सेवानिवृति कंपनियों ने छिपाई 63 हजार करोड़ रूपए की आमदनी
30 
हजार करोड़ की कर चोरी (दो वर्षों में 33000 करोड़ का गलत मूल्य निर्धारण
मरीजों की आफत डॉक्टरों की मौज (दर– दर की ठोकरें खा रहे हैं इलाज के लिए आए मरीज)
हर सवाल का जबाब देने से बच रहा है एम्स
2011 
में तम्बाकू जनित बीमारियों पर खर्च हुए एक लाख करोड़ रूपए
त्योहार में पर्यावरण की उपेक्षा घटक सिद्ध होगी
दस साल में उर्वरक पर 4.77 लाख करोड़ रूपए की सब्सिडी
70 Farmers commit suicide every month
हर महीने 70 किसान कर रहे आत्महत्या,1.25 लाख परिवार सूदखोरों के चंगुल में
आत्महत्या को मजबूर किसान
सविधान निर्माता के नाम पर गरीबों के लिए कोई योजना नहीं.
अपने अधिकारों से महरूम हैं आदिवासी.
पेट्रो कंपनी अधिकारी मौज मेंजनता रोए तो रोए (घाटे का रोना रोनेवाले विभिन्न कंपनियों के ये अधिकारी रहते हैं शाही ठाटबाट से)
तेल कंपनियों को 5.63 लाख करोड़ रूपए का घाटा, 56फीसदी की भरपाई सरकार ने की
80 
करोड़ लोगों के निर्धन रहते देश की प्रगति असंभव : स्ट्रेटेजिक फोरसाईट ग्रुप
आधार” के पक्षधर मोदीफिर शुरू करना चाहते हैं डीबीटी
Surat Incident fallout DGCA Draws up Safty Plan ( Move to Prevent bird and animal Hits )
प्रेस की कार्यप्रणाली में हस्तक्षेप नहींस्वनियमन पर जोर
ट्रांस्जेंडरों पर विशेषग्य समिति की सिफारिशों पर विचार कर रही है सरकार
मदरसा के आधुनिकीकरण की प्रक्रिया स्वैक्षिक : सरकार
वर्तमान चुनौतियों से निपटने के लिए नई शिक्षा नीति तैयार कर रही सरकार
Sangh –backed bid to ‘ indianise’ education
दो वर्षों में यूजीसी को निजी विश्वविद्यालयों के खिलाफ फीस रिफंड संबंधी 124 शिकायतें मिली
UGC APPROVES RSS- BACKED COURSES AS JOB ORIENTED
तुगलक ,लोदीअकबरशाहजहाँडलहौजी रोड का नाम बदलनेकी कोई योजना नहीं बख्तियारपुर रेलवे स्टेशन का नाम के मामले में गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से माँगी अतिरिक्त सूचना
.........................................................................................................................................
“ 
क्या आप राष्ट्र प्रथम की भावना से जलजंगलजमीनजन और जानवर के
हक़ और हित के लिए वास्तव में चिंतित और संघर्षरत हैं ?क्या आप भारतीय संस्कृति के पुनरुत्थान चाहते हैं ?क्या आप भयभूख और भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन द्वारा समाधान हेतु सहभागी बनना चाहते हैं ?क्या आप आरटीआई (सूचना का अधिकार) के माध्यम से गोमाताऔर गंगा के साथ-साथ गाँव के सशक्तिकरण द्वारा वास्तव में सम्पूर्ण क्रांति चाहते हैं ?
“ 
यदि हाँ तो हमसे जुड़ें:--
गोपाल प्रसाद (आरटीआई एक्टिविस्ट) मकान नंबर-210, गली नंबर -3, पाल मोहल्ला,निकट मोहनबाबा मंदिर ,मंडावलीदिल्ली-110092.मोबाईल : 09910341785 , 08178949704 . ईमेल : sampoornkranti@gmail.com , missionmithila@gmail.com फेसबुक : www.facebook.com/gopal.prasad.102ट्विटर : https://twitter.com/gopaleshaktiगूगल प्लस : https://plus.google.com/112899304189028572644लिंक्ड इन : https://www.linkedin.com/…/gopal-prasad-rti-activist-608216…


                                                मेठी की जनता को छलने का ही काम किया है: गोपाल प्रसाद
अमेठी की जनता के साथ- साथ देश की जनता अमेठी के सांसद राहुल गांधी के जाति, धर्म ,उनकी कंपनी के साथ-साथ सांसद आदर्श ग्राम योजना की उपलब्धि, उनके सांसद निधि का ब्यौरा, नेशनल हेराल्ड केस का विवरण,उनके द्वारा बनाए गए सेल्फ हेल्प ग्रुप का विवरण, सेल्फ हेल्प ग्रुप को राजीव गांधी फाउंडेशन द्वारा दिया गया वित्तीय मदद, राजीव गांधी फाउंडेशन को दान देने वाली संस्थाएं (राजीव गांधी फाउंडेशन के डोनर) राजीव गांधी फाउंडेशन को अब तक प्राप्त हुए डोनेशन के बारे मेंजानना चाहती है। इस संबंध मेँ पारदर्शिता क्यों नहीं है?क्या जनता के कर का पैसा भ्रष्टाचार करने वाले अधिकारियों, उससे नेटवर्क से जुड़े लोगों, राजीव गांधी फाउंडेशन के पास जाती रहेगी और देश की जनता मूकदर्शक होकर देखती रहेगी? आजादी की लड़ाई लड़ने का दावा करनेवाली कांग्रेस पार्टी एवं उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से मैं मांग करता हूँ कि सबसे पहले राजीवगांधी फाउंडेशन जितने ऑडिट रिपोर्ट हुए हैं, उसेसार्वजनिक किए जाने चाहिए। राहुल गांधी की माताश्री और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी जी की तमाम विदेशी यात्रा सार्वजनिक क्यों नहीं की जाती? विदेश यात्राका खर्च, विदेश मेँ जहां-हां गई एवं जिसलिए गई, यह अमेठी की जनता के साथ साथ देश की जनता जानना चाहती है॰ सोनिया गांधी को कौन सी बीमारी है, यह  देश की जनता जाना चाहती है। राहुल एवं सोनिया गांधी को दोहरी नागरिकता, राहुल गांधी और राहुल पाउलो में क्या अंतर है, के बारे मेँ जनता को स्पष्ट जानकारी दीजिए।
                    इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी के साथ-साथ राहुल गांधी, प्रियंका वाड्रा, रॉबर्ट वाड्रा के जितने बैंक अकाउंट हैं, उनके बारे में जानकारी सार्वजनिक करें। क्या उनके अकाउंट के अतिरिक्त उनके बैंक अकाउंट विशेष बैंकों में भी है? यह एफिडेविट के माध्यम से सार्वजनिक किया जाना चाहिए। बोफोर्स कांड के संदर्भ में विकिलीक्स द्वारा गांधी परिवार के ऊपर जो रिपोर्ट छपी है,के बारे मेँ राहुल गांधी जी को श्वेत पत्र जारी किए जाने की आवश्यकता है। उनकी सारी सच्चाईयों  का रहस्य देश के सामने में आना चाहिए। रॉबर्ट वाड्रा की आईटी कंपनी स्टरलाइट की धोखाधड़ी को देशहित में जनता के समक्ष आना चाहिए। सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी कहते हैं कि हमारे रॉबर्ट वाड्रा साहब ने कोई नियम नहीं तोड़ा है औरसरकारी नियमों का पालन किया है। तो कृपया करके राहुल गांधी जी विशेष रूप से अमेठी की जनता को यह जरूर बताएं, जिस  सूत्र और फार्मूले के द्वारा रॉबर्ट वाड्रा जी ने अकूत संपत्ति जमा की है। यह राज अमेठी की जनता को यदि बता देते हैं तो अमेठी के बेरोजगार युवकों के ऊपर में यह बहुत बड़ा कृपा होगा मैं इसके साथ- साथयह भी जानना चाहता हूं कि श्रीमती प्रियंका गांधी की जो शिमला वाली कोठी है, उसको डायनामाइट से क्यों उड़ाया गया था? देश के पर्यावरणविद,राजनीतिज्ञ एवं सामाजिक कार्यकर्तागण पर्यावरण की इस आपूरणीय क्षति पर चुप क्यों रहे, इसकी जाच कर कार्यवाही क्यों नहीं की गई?  भाजपा सरकार के समय में राहुल गांधी की विदेश यात्रा के दौरान वहां की इंटेलिजेंस और पुलिस द्वारा राहुल गांधीको से घंटा तक डिटेन करके नहीं छोड़ा जा रहा था,सोनिया गांधी जी के अनुरोध करने पर तत्कालीन प्रधानमंत्री सरी अटलविहारी बाजपेयी जी के कृपा से नृपेन्द्र मिश्रा की पहल से राहुल गांधी को छोड़ा गया था। कृपया करके राहुल गांधी जी स्पष्टीकरण दें कि ऐसी घटना हुई थी या नहीं? जब वह खुद दागदार है तो किस दागी की बात करते हैं? जब कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष जी खुद बड़े- बड़े काले कारनामों से दास्तान भर रखे हैं, तो फिर वे कालाधन के संदर्भ में बोलने के हकदार कैसे हैं?
            भाजपा बताए कि किन कारणों से उन्होंने अपराधी राहुल गांधी को छोड़ा था? किस प्रावधान के तहत उन्होंने ऐसा किया था? क्या इसी से यह साबित नहीं होताकि भाजपा और कांग्रेस के बीच में सेटिंग- गेटिंग और मैच-फिक्सिंग है आप बात राष्ट्रवाद की करते हैं, लेकिन महबूबा मुफ्ती के साथ कश्मीर में आप मिलकर सरकारबनाते हैं। महबूबा मुफ्ती के बारे में भी जान लें उनकी छोटी बहन रुबिया सईद का नकली अपहरण करवा करकेआतंकवादियों को पुलिस सुरक्षा मेँ छोड़ दिया गया थाकंधार प्रकरण देश की जनता देख चुकी है, जान चुकी है। किस मुंह से भाजपा राष्ट्रवाद की बात करती है? ऐसे आतंकवादी समर्थक नेताओं के साथ सरकार बनाती है,जिसने कश्मीरी हिंदुओं के साथ बार्बर अत्याचार किए हैं।भाजपा किस मुंह से हिंदुत्व की बात करती है, किस मुंह सेआतंकवाद की बात करती है, किस मुंह से वह राष्ट्रवाद की बात करती है? भ्रष्ट और दागदार कांग्रेसियों, सपाईयों,बसपाईयों को भाजपा शामिल कराकर नवाजा जाता है एवं सारी जिंदगी भाजपा के लिए समर्पित रहनेवाले कार्यकर्ता की उपेक्षा की जाती है। भाजपा में आंतरिक लोकतंत्र का अभाव हो चुका है। पार्टी आज दो व्यक्ति नरेंद्र मोदी एवं अमित शाह पर केन्द्रित हो गई है। सांसदों को तो छोड़िए,मंत्रियों की भी कोई औकात नहीं है। समर्पित पार्टी कार्यकर्ताओं का काम नहीं होता । भाजपा के मंत्रियों द्वारा नेताओं के साथ संपर्क, समन्वय नहीं है।
            मैं यह भी जानना चाहता हूं कि अमेठी में भाजपा सरकार की केंद्रीय कपड़ा मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी नेभाजपा कार्यकर्ताओं को साड़ी दिया था, वह किस म सेदिया? वास्तव मेँ यह सरकारी तंत्र का दुरुपयोग एवंमतदाताओं को लोभ देकर लुभाया जाना है। जनता के टैक्स के पैसे सरकारी कोष में जमा होते हैं, उसका दुरुपयोग स्मृति ईरानी जी ने किया है। इसलिए उनको यह साफ करना चाहिए कि 11000 साड़ियों का भुगतानउन्होंने कपड़ा मंत्रालय के मद से खर्च किया अथवा अपनेमद से किया और इससे संबंधित समस्त सूचनाएं का ऑथेंटिक रिपोर्ट यानी पासबुक से लेकर वाउचर से लेकरउन्हें सार्वजनिक करनी चाहिए, क्योंकि वह स्वयं अमेठी से भाजपा की उम्मीदवार हैं। माननीय स्मृति ईरानी जी ने अभी-अभी हाल फिलहाल ही हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के राजनीति में सन्यास लेने की स्थिति में स्वयं सन्यास लेने की बात कही है। देश की जनता जानना चाहती है कि उन्होने अपना बयान क्यों और किस संदर्भ में दिया है? मेरे विचार से य भाजपा मेँ उनकीअनुशासनहीनता को दर्शाती है। इससे प्रधानमंत्री सरी नरेंद्रमोदी जी की छवि धूमिल हुई है। आने वाले समय में प्रधानमंत्रीजी को अपने छवि बचाने में बचाने हेतु सतर्क रहना चाहिए और इस तरह की बेतुके और चापलूसी वाले बयान दिए जाने वाले लोगों को अपने संगठन से अबिलंब निकालना चाहिए। माननीय ईरानी जी ने अमेठी के भाजपा कार्यकर्ताओं को 11000 गाय और पानी का नल देने का वादा किया था। वह वादा क्यों नहीं पूरा हुआ?
                  कुछ लोग यह कहते हैं कि गोपाल प्रसाद ने भाजपा से विद्रोह कर लिया मैं उन्हें अपनी पीड़ा चंद पंक्तियों में बताना चाहता हूँ-
 कुछ तो मजबूरियां रही होंगी,
              यूं ही कोई बेवफा नहीं होता।“
“चमन में इस चमन को सींचने में
              पत्तियाँ कुछ ड़ गई होंगी
यही इल्जाम है मुझ पर
              लेकिन अपने ही हाथों जिसने बागवां को उजाड़ा हो
वही दावा कर रहे हैं, इस चमन के रहनुमाई का ! ”
              अमेठी में भाजपा के एक प्रमुख नेता की फैक्ट्री में कर्मचारियों को न्यूनतम मजदूरी भी नहीं दिया जाता है। उनकी फैक्ट्री आसपास के इलाके में प्रदूषण बढ़ा रहा है। अमेठी की जनता यह जानना चाहती है कि क्या भाजपाका उसे समर्थन प्राप्त है? भाजपा आज उस मुद्दे पर मूकदर्शक क्यों है? पूरी अमेठी में गोचर की भूमि, ग्राम सभा की भूमि, तालाब की जमीन पर माफियाओं ने,प्रभावशाली लोगों ने, राजनीतिज्ञों ने अतिक्रमण कर लिया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के विभागीय आदेश के बावजूद समय सीमा निर्धारित कर दिए जाने के बावजूद भी कोई कार्रवाई अब तक नहीं की गई। मैंने इस विषय पर अमेठी के डीएम कार्यालय एवं सभी एसडीएम कार्यालय के साथ- साथ नगर पालिका, नगर पंचायत, नगर निगम मैं सूचना का अधिकार का प्रयोग किया लेकिन यह कहते हुए मुझे दुख होता है कि अमेठी जिला प्रशासन द्वारा इस आरटीआई का जवाब नहीं दिया गया। क्या यह साजिश नहीं है? अमेठी की जनता को जान लेना चाहिए कि भाजपा सरकार में आरटीआई कानून की हत्या हो रही है। पारदर्शिता पर अंकुश लगाया जा रहा हैसूचनाओं के स्रोत को सभी विभाग की वेबसाइट पर दिया जाना चाहिए था, वह नहीं हो रहा है। इसके साथ ही जनहित के उन सभी बिंदुओं पर सूचना देने में आनाकानी की जा रही है। यह उदासीन व्यवहार लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत नहीं है। मेरा मानना है कि आज अमेठी की सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी है। आज भाजपा सरकार स्मार्टसिटी की बात करती है पर मैं तो समृद्ध गांव की बात करता हूँ। देश की 70% से अधिक जनता गाँव मेँ वासकरती है तो समृद्ध और सशक्त गांव क्यों नहीं बनाया जाता? गांव का कच्चा माल गांव में ही पक्का माल के रूप में तब्दील क्यों नहीं होता? गांव में रोजगार सृजन, गरीबी उन्मूलन, सशक्तिकरण, स्किल डेवलपमेंट का प्रोग्रामक्रियान्वित क्यों नहीं किया जाता? सरकार का स्किल डेवलपमेंट पूर्णरूपेण सफल नहीं है,  फ्रेंचाइजी के माध्यम से होने वाले स्किल डेवलपमेंट में ज्यादा भला नहीं होने वाला। वास्तव में करने वालों से सीखना पड़ेगा। किसान से,मजदूर से बड़ा ट्रेनर और बड़ा स्किल डेवलपमेंट कराने वाला कोई नहीं हो सकता। मैं देश की जनता को बताना चाहता कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दो प्रमुख संगठन-अखिल भारतीय मजदूर संघ एवं स्वदेशी जागरण मंचकेंद्र सरकार से नाराज क्यों है? मातृ संस्था आरएसएस के एजेंडा को भाजपा अपना चुनावी एजेंडा क्यों नहीं बनाती है? वास्तव में व्यक्ति आगे और पार्टी पीछे हो गई है औरयह भाजपा की सरकार है ही नहीं, भाजपा प्लस सयोगियों की सरकार है। अभी कई सहयोगियों ने भाजपा का साथ छोड़ दिया है। भाजपा का नारा- अबकी बार भाजपा सरकार, अबकी बार मोदी सरकार, अबकी बार400 पार, सबका साथ सबका विकास,मैं हूँ चौकीदार,मोदी है तो मुमकिन है, आदि- आदि हो सकता है परंतु इस तरह के नारे वास्तव में विज्ञापन एजेंसियों द्वारा गढ़ा जाता है। यह पेड़ मीडिया का हाईप क्रिएशन मात्र है।  सोशल मीडिया में राजनीतिक दलों के प्रचार पे माध्यम से किए जा रहे हैं। सोशल मीडिया में अकाउंट के सामने हरा रंग से सही का निशान लगा होता है, जिसका मतलब है यह पेअकाउंट है। मैंने अब तक सोशल मीडिया में कोई पेऑप्शन नहीं लिया है, फिर भी अभी तक गोपाल प्रसाद अनपेड माध्यम से डेढ़ लाख लाइक्स के आंकड़े को पार कर चुका है। मेरा नारा है -मिशन अमेठी और मैं केवल और केवल उसी पर केंद्रित हूँ। जिस तरह अर्जुन से पूछा गया था कि क्या देखते हो? तब अर्जुन ने कहा था कि मुझे मछली की आंख का काला वाला हिस्सा ही मात्र दिखाई देता है और कुछ दिखाई नहीं देता। जबकि अन्य शिष्यों नेअलग-अलग बातें की थी। ठीक उसी तरह मुझे केवल और केवल अमेठी और अमेठी के हक और हुकूक की लड़ाई,जनहित के मुद्दे, अमेठी के अधिकार, अमेठी के विकास की बात याद रहता है, उसके सिवा कुछ नहीं। वास्तव में अमेठी से हमारी जीत यदि होती है तो, यह जीत इंसानियत,ईमानदारी, स्वाभिमान, गरीबी और सम्मान की जीत होगी।लोकसभा चुनाव के चुनावी महाभारत के सारथी कृष्ण के पर्यायवाची के रूप में यह गोपाल प्रसाद आपके समक्ष खड़ा है। हनुमान, जामवंत,सुग्रीव, विभीषण और वानर सेना के माध्यम से धर्म की रक्षा हेतु चुनावी महाभारत कीइस लड़ाई को अवश्य जीतूंगा।
           मैं अमेठी का राजनारायण बनकर दिखाऊंगा। जूता बनाने वाली कंपनी ने ऑस्ट्रेलिया में अपने दो मार्केटिंग मैनेजरों को भेजा था और यह कहा था कि आप जाकर हमारे व्यापार की क्या संभावना है, इसपर रिपोर्ट भेजें।  एक मार्केटिंग मैनेजर ने अपनी रिपोर्ट क्या लिखा यहां के लोग जूता नहीं पहनते इसलिए यहां व्यापार की कोई संभावना नहीं है। वही दूसरे मार्केटिंग मैनेजर ने मेल किया कि चूंकि यहां के लोग जूता नहीं पहनते, इसलिएहमारे जूता कंपनी के व्यापार की प्रबल संभावना है। मैंदूसरे मार्केटिंग मैनेजर के सिद्धांतों में विश्वास करने वालाव्यक्ति हूँ।  दृढ़ विश्वास और संकल्पों से लबरेज होने के अलावे मेरे पास कुछ नहीं है।  मातृ एक संकल्प और दूसरा आप के प्रति विश्वास, मैं इसी दो मूल मंत्र के साथ संपर्क- समन्वय- संवाद और सहयोग के फार्मूले पर इस सैद्धांतिक,सामाजिक और राजनीतिक लड़ाई को जीत कर दिखाऊंगा। मैं कॉंग्रेस की जड़ों को उत्तरप्रदेश के अमेठी सेउखाड़कर मट्ठा डालने आया हूँ। वास्तव में आपके सामने प्रश्न उठ रहा होगा कि मैं ऐसा क्यों करने आया हूं? अमेठी के सांसद राहुल गांधीजी एवं कांग्रेस के अध्यक्ष महोदय ने यह कहा था कि उत्तरप्रदेश और बिहार की जनता कटोरा लेकर भीख मांगती है और उत्तरप्रदेश के युवा नकारे हैं।उन्होंने यह भी कहा था कि मंदिरों में लड़कियों के साथ छेड़छाड़ होता है। मैं इस बयान से बहुत व्यथित हुआ था और मैंने संकल्प लिया था कि मैं इस बयान देने वाले नेताको उसके संसदीय क्षेत्र में चुनौती दूंगा। राहुलजी ने अभी-अभी आटकवादियों को जी शब्द से और माननीयप्रधानमंत्रीजी को चोर कहकर संबोधित किया है। राहुलजी पाकिस्तान जा कर हिंदुस्तान की बुराई करते हैं, क्या यह उचित है? वास्तव में यह राहुल गांधीजी के जन्म स्थान का संस्कार है जो वास्तव में उनके इटली देश में विरासत में मिला है। यह उनका नहीं यह उनके माता के संस्कारों का दोष है।
    अब मैं वर्तमान केंद्र सरकार की बात करते हुए जानना चाहता हूँ कि डिमॉनेटाइजेशन /नोटबंदी के संदर्भ में हमारी वर्तमान सरकार ने चुप्पी क्यों बांध रखी है? उसके आंकड़े,उससे संबंधित सूचनाएं सार्वजनिक क्यों नहीं की गई थी?देश की जनता जानना चाहती है कि कुल कितना काला धन पकड़ा गया? नोटबंदी की प्रक्रिया से देश की आर्थिक क्षमता पर क्या प्रभाव पड़ा? क्या लाभ हुआ या  क्या हानि हुआ और विशेष रूप से लघु उद्योग पर इसका क्या असरहुआ? भुखमरी एवं बेरोजगारी कितनी बढ़ी? अगर हमारी केंद्र सरकार इसे छुपाना चाहती है तो समझ लीजिए मामला गड़बड़ है। अगर इनमें सच्चाई है तो इन से संबंधित सभी समस्त सूचनाएं सरकार द्वारा सार्वजनिक कर दिए जाने चाहिए। अब बात आरक्षण की कर लें- जब नौकरी ही नहीं है तो आरक्षण का क्या करेंगे? 33%महिला आरक्षण का ख्वाब दिखाने वाली कांग्रेस पहलेपार्टी पदों और पार्टी उम्मीदवार के रूप मेँ 33%आरक्षण घोषित कर पहल क्यों नहीं करते? 10%पार्टी पदों पर गांव मेँ निवास करनेवाले को और अपने विद्वान प्रवक्ताओं की सूची में महिला उम्मीदवार 33%घोषित करें। मैं भाजपा कांग्रेस के साथ- साथ समस्त राजनीतिक दलों को चुनौती देता हूं कि गरीबी,कुपोषण, मंहगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार के मुद्दे कोचुनावी घोषणा पत्र का विषय बनाने के बजाय प्रैक्टिकल इंप्लीमेंटेशन करें, जमीनी काम करें। आज जनता आप सभी से हिसाब मांग रही है- “क्या-क्या किया है आपने, आपने क्या-क्या नहीं किया?”
मैं अखिल भारत हिंदू महासभा राजनीतिक दल का राष्ट्रीय उम्मीदवार हूँ।  अमेठी की जनता का राष्ट्रीय कर्तव्य है किदोनों प्रमुख पार्टियों के उम्मीदवारों को हराकर मुझे विजयी बनाए।जिस प्रकार रायबरेली की जनता ने पूर्व प्रधानमंत्री एवं कांग्रेस उम्मीदवार श्रीमती इंदिरा गांधीजी को हराकर राजनारायण जी को जिताया था, उसी प्रकार मुझे जिता कर ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए राष्ट्रीय कर्तव्य पूरा करअपना योगदान दे।
                     “तख्त बदल दो, ताज बदल दो, बेईमानों का राज बदल दो।“
वास्तव में हमारी जीत पूरे देश की सेवा का अनूठा उदाहरण होगा। पैशाचिक शक्तियों का अंत एवं देश को कांग्रेस से मुक्ति मिलेगी। मोदी जी का जो वायदा था कि - कांग्रेस मुक्त भारत होगा और मोदी जी के पदासीनहोते ही मां- बेटा- बेटी और दामाद देश छोड़ कर भाग जाएंगे यह तो हुआ नहीं क्योंकि उन्हीं की सारी नीतियों को उन्होंने लागू किया, जिसे विपक्ष में रहते हुए भाजपा ने राष्ट्र विरोधी बताया था। संसद में प्रधानमंत्री जी सोनिया जी के आगे घिघियाए थे और कहा था कि आपका जो एजेंडा है वही तो लागू कर रहा हूँ। ऐसी स्थिति में यह परिवार मोदी जी के 56 इंच के सीने पर अपना पाव जमा कर बैठा है और मोदी जी देश के समक्ष अपना बार- बार रोना रो रहे हैं । इसीलिए दो प्रमुख पैशाचिक शक्तियों को हराकर मैच फिक्सिंग की तरह प्रहसन कर रहे एवं पीछे की लड़ाई लड़ रहे भाजपा और कांग्रेस से देश को मुक्त कराना हमारा कर्तव्य है।
इसलिए अमेठी से ऐसा संदेश निकले कि हमें कांग्रेस मुक्त एवं भाजपा मुक्त भारत चाहिए। मैं गोपाल प्रसाद आपसे आह्वान करता हूँ कि मुझे आशीर्वाद देकर इस युद्ध में विजयी बनाएं। वास्तव में अमेठी में भाजपा, सपा, बसपाकांग्रेस से लड़ ही नहीं रही है। इनको हराना ही नहीं चाहती और कांग्रेस को वॉकओवर देकर जिता दिया जाता है। कांग्रेस का चुनावी तंत्र अमेठी की जनता को बंधक बनाए हुए है। कांग्रेस द्वारा मैनेजर के माध्यम से पैसा बांटा जाता है। इनके मैनेजरों की गुंडई एवं माफियागिरी है। अन्य उम्मीदवारों को उत्पीड़ित कर गा दिया जाता है, मगर मैं तो खटिक हूं। भाजपा सरकार में भी अपना प्रताप तो मैं दिखा ही चुका हूं। स्मृति ईरानीजी एवं उमा भारतीजी के मंत्रालयों को मोदी जी द्वारा क्यों छीना गया? यह आपके गोपाल प्रसाद ने ही करवाया था। मैंने ही अमेठी जिला प्रशासन से गोचर भूमि, तालाब की भूमि और ग्राम सभा की भूमि के अतिक्रमण के संबंध में आरटीआई द्वारा मांगी है। मैं भी देखता हूँ कब तक छुपाते हैं?  गायत्री प्रसाद प्रजापति जो अमेठी के ही विधायक थे और उत्तर प्रदेश के सपा सरकार के मंत्रिमंडल में खनिज मंत्री बने थे, के भ्रष्टाचार के मामलों को उजागर करवाना एवं श्रीमती नूतन ठाकुर अधिवक्ता, लखनऊ के द्वारा पीआईएल लगवाकर गिरफ्तार करवाने में हमारी भूमिका रही। सपा के सबसे कमाऊ मंत्री श्री प्रजापति के भ्रष्टाचार के खिलाफ शंखनादमौलिक भारत की संरक्षक नूतन ठाकुरजी ने आरटीआईएवं इलाहाबाद हाईकोर्ट में पीआईएल लगवा कर कियाथा। इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद उनकी सारी चल- अचल संपत्ति जप्त कर ली गई है। भ्रष्टाचार की कमाई करनेवालों पर हमने प्रहार करने का संकल्प कियाऔर बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार नोएडा के पूर्व सीईओ यादव सिंह की गिरफ्तारी करवाया था। राष्ट्रीय स्तर पर आरटीआई के क्षेत्र में हमारी खास उपलब्धि रही है। आज तक हमने सारे 6000 से ऊपर आरटीआई आवेदन दायर कर चुका हूँ। यह सभी आरटीआई केंद्र सरकार से संबंधित, जनहित एवं देश की नीति- नियम और सिद्धांतों के विषय से संबंधित थे। नोटबंदी के संदर्भ में मैंनेही यह खुलासे किए थे, कि मोदी सरकार नोटबंदी से संबंधित सूचनाएं नहीं देना चाहती। न्यूनतम मजदूरी के संदर्भ में मैंने ही आरटीआई से जानकारी निकाली थी। आरटीआई के साल के बाद अंततः केंद्र सरकार को अपना निर्णय बदलना पड़ा और न्यूनतम मजदूरी मेंबढ़ोतरी की गई। अर्धसैनिक बलों को शहीद का दर्जा नहीं दिया जाना वाले विषय पर भी मैंने आरटीआई के माध्यम से सूचनाएं उजागर की थी। गंगा मंत्रालय जो उमा भारती जी के नेतृत्व में था, और उमा भारतीजी उनकी मंत्री थी, के समय करोड़ों रुपए ईटिंग- मीटिंग- सीटिंग के नाम परखर्च हो गए। गंगा के शुद्धिकरण के ऊपर वास्तव में लाख रुपए भी खर्च नहीं किए गए। किस मुंह से भाजपा पारदर्शिता कि रक्षा, भ्रष्टाचार पर अंकुश और स्वच्छ शासनकी बात करती है। विशेष रूप से खटीक समाज एवं  समग्र जनता के लिए गर्व का विषय होना चाहिए कि मैं जमीन से उठकर राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने वाला कर्तव्यनिष्ठव्यक्ति हूं। समस्त दलितों, शोषितों एवं किसानों से मैं कहना चाहता हूं कि वह मुझ में अपनी छवि देखते हुए गर्व करें। मैं मिथिला क्षेत्र मेँ मां जानकी की भूमि स्थित जागृत शक्तिपीठ उच्चईठ (जहां से मां भगवती का आशीर्वाद कालिदास जी को प्राप्त हुआ था) स्थल पर साधना करके आशीर्वाद पाया। माँ सीता की नगरी मिथिला का जन्मा यहपुत्र, राम के अवध क्षेत्र मेँ छोटा हनुमान बनकर राम काज करने आया है। आपने हनुमान चालीसा में पढ़ा होगा-“रामकाज करिवे को आतुर” । मैं इस पंक्ति को आपको याद दिलाना चाहता हूं ताकि इसी माध्यम से दोष को मुक्त किया जा सके। देश के बड़े से बड़े बुद्धिजीवी, बड़ा पत्रकार,अफसर एवं राजनेता, न्यायाधीश आज मुझे जानते हैं और मुझे पहचानते हैं। आप से ही सीख कर एवं आपसे मिलकर अमेठी के विकास की योजना मुझे बनानी है। नई अमेठी का निर्माण करना है। अमेठी के अनुपयुक्त एवं बंजर जमीन, नीलगाय की समस्या, ज्यादा उत्पादन के बावजूद अमेठी में पर्याप्त अन्न भंडारण नहीं होना,लघु एवं कुटीर उद्योग तथा स्वदेशी प्रकल्पों का अभाव, खुशहाली नहीं होना आदि विषय का मैं अनुभव प्राप्त कर चुका हूं। मैं मात्र अमेठी के उम्मीदवार के रूप में ही नहीं बल्कि सामने राष्ट्रीय यज्ञ हेतु राष्ट्रीय उम्मीदवार बन कर आया हूँ। हमारीपार्टी अखिल भारत हिंदू महासभा के अध्यक्ष लाला लाजपतराय, पंडित मदन मोहन मालवीय, वीर सावरकरजैसे क्रांतिकारी एवं सेनानी तो रहे हैं इस संगठन एवं राजनीतिक दल की अध्यक्ष आजाद हिंद फौज के प्रणेता सुभाषचंद्र बोस की प्रपौत्री राजेश्री चौधरीजीहैं।  आजाद हिंद फौज में हिंदू मुसलमान साथ-साथ थे,क्योंकि उसने पूरे देश की आजादी की लड़ाई लड़ी थी।जिन लोगों ने षड्यंत्र कर हिंदुस्तान का विभाजन कराया था, वास्तव में नके ऊपर जनोसाइड अर्थात हजारों लोगों की बर्बरता का मुकदमा चलाया जाना चाहिए। भाजपा ने कभी इसका विरोध नहीं किया, भाजपा कभी नहीं कहतीकि उसे अखंड भारत चाहिए। आपने सुना होगा- सौ सुनार की एक लोहार की” मेरा कृत्य इसी तरह का रहा है। आरटीआई का प्रयोग करके 3-राजनेताओं केकारनामों का भंडाफोड़ करके ध्वस्त कर दिया है। आपसे अनुरोध है, विनम्र विनती है कि मेरी योग्यता, कर्म निष्ठा एवं समर्पण के भा को स्वीकार कर अमेठी के इस आसन्नचुनाव में मुझे पूर्ण बहुमत से विजयश्री दिलाकर संसद में जाने का रास्ता प्रशस्त करें ! अमेठी की समस्त जनता एवं देश की जनता को पुनः प्रणाम !  हार्दिक धन्यवाद !      
जय हिंद !                               जय श्रीराम !                       जय गौमाता!                वंदे मातरम !
आपका - गोपाल प्रसाद ( नेशनल यूथ पार्टी एवम अखिल भारत हिंदु महासभा समर्थित निर्दलीय प्रत्याशी, लोकसभा क्षेत्र,अमेठी,उ.प्र.)मोबाइलनंबर-8178949704,
वाट्सऐप:9910341785, 
ई-मेल :sampoornkranti@gmail.com


AMETHI CANDIDATE  GOPAL PRASAD RTI ACTIVIST  APPEAL 
New Delhi 
 Gopal Prasad is policy researcher and social workers to push for the governance reform through RTI. He is credited with creating the awareness about public policy and its implications among society through RTI principles for direct democratic citizen governance and is most famous for his speech at the Conference where he implored institution to train officers and youths, calling for transparent and more accountability in the governance field.
He has worked upon awareness of Right to information Act aims at making the government transparent and more accountable, the effective use of it to curb corruption.
He believe and  endorse the freedom of information is an extension of freedom of speech, a fundamental human right recognized in international law, which is today understood more generally as freedom of expression in any medium, be it orally, in writing, print, through the Internet or through art forms.
He believe RTI is a citizenry and democratic tool to find out lack of policy implementation and empower citizen governance and reduce poverty and unemployment, pollution.
He trusts to holistic development of the people including their physical development and mental enlightenment, self-employment and harmony to measure a nation’s progress. That country is developed where its people are educated and are physically fit. He believe that actual education is one in which knowledge enlightens the mind. Such kind of education makes man tolerant, able, successful and polite.
......
New Delhi( 22 march, 2019).
 Dear Friends, Jai Bharat !
 Having been involved in exposing corruption through RTI for last 8 years, I have long worked for positive change in India. Now I feel that the time has come for me to seek elected offices. I want to bring fresh idea and positive change to end the corruption in India through changing political system by running the LokSabha election from “ Amethi” a place in UP . I think India is not a democratic country but a kingdom run by a foreigner and irrigating the corruption. Probably you know that I have always been concerned about corruption which is responsible for all ills in India. I believe that there are workable solutions available that will enhance Indian political system and minimize the corruption. We all would like to see a corruption free India and will do together. In order to serve the people of India I must conduct an aggressive campaign. My opponent in “Amethi” are well known and established corrupt people, who are founder and fostering the corruption in India for last 71 years. They manage to win the election through money and corrupt power system. For these reasons I feel that I must step forward and offer the voters of “Amethi” a choice. For this campaign to be successful, it will require a strong and organized grassroots initiative. I have already started the awareness in Amethi through corruption story of Congress party and their corrupt kings/queens who have converted India virtually in a kingdom country. We are organizing village meetings and RTI training camps in Amethi. But we have to intensify this campaign through brochures, flayers, yard signs, advertising at different places and lot more to canvass. I cannot do it all alone. That is why I am turning to the people who believe  in to end this corrupt kingdom and establish a new clean transparent democratic India. I am inviting them to get involved in my campaign and help in make a difference. Your early contribution will give our race a tremendous boost. You may help through cheque, draft, net payment, counter deposit at bank (Details of bank are given below). You may also support through providing used computers, furnitures, mobiles ,stationary items etc. You can donate old books also for istablishment of Libraries, Vachnalayas, Counselling Centres in different Assembly / Blocks/ areas in Amethi Thanks in advance for your encouragement and support.
" Jay Hind "                                                 “Vande Mataram” 
 Sincerely,
 Gopal Prasad (Upcoming Loksabha Candidate from “Amethi” )
Mob: 09910341785, 8505946059

Address: House No.-210, 2nd Floor, Street No.-3, Pal Mohalla,
Near Mohanbaba Temple, Mandawali, Delhi-110092.
Bank and A/c details : GOPAL PRASAD, SBI Saving Bank Account No.- 20002514197. Mangal Bazaar ,Laxmi Nagar, Dehi Branch. Branch code: 06499
Brief profile of Gopal Prasad (Plz Click on following Google Search link) https://www.google.co.in/#biw=1173&bih=553&sclient=psyab&q=gopal+prasad+rti+activist









SOME MEDIA HEADLINES ON RTI REPORT OF GOPAL PRASAD RTI ACTIVIST
………………………………………………………………………………
……………………………..
BJP aims to defeat Rahul Gandhi in Amethi

RTI ACTIVISTS ARE LIKE INTELLIGENCE AGENCIES
http://thestatesman.com/…/-rti-activists-are-like-intellige… 
Zero transparency: Kejriwal doing nothing to promote RTI
Fighting corruption through RTI
No law to protect RTI activists
3 RTI activists roughed up (BEATEN Incident reported at Satyavati College)
लोकतंत्र के सशक्तिकरण में आरटीआई की भूमिका पर सेमिनार संपन्न
सूचना के अधिकार से लोकतंत्र को मजबूती
आरटीआई से आती है पारदर्शिता
सूचना का अधिकार अमोघ अस्त्र
सूचना का अधिकार वर्तमान स्थिति एवं चुनौतियां : गोपाल प्रसाद
आरटीआई एक्टिविस्ट ने आरटीआई क्रांति का किया शंखनाद
अमेठी व रायबरेली में आरटीआई प्रशिक्षण शिविर चलाएंगे गोपाल प्रसाद अधिकार की तो बात होती है परन्तु कर्तव्य भूल जाते हैं– गोपाल प्रसाद
कैसे करें भ्रष्टाचार का सामना ?आरटीआई के प्रभावी क्रियान्वयन की मांग / सूचना के अधिकार की दशा सुधारने की मांग तेज
सूचना का अधिकार कानून का सही ढंग से क्रियान्वयन न होने के विरोध में धरना
आरटीआई कानून को कमजोर करनेवाली सरकार
Delhi HC charges Rs.50 for RTI info ; Govt rate : Rs. 10
जानकारी देने के लिए कोर्ट दस की बजाय वसूल रही है पचास रूपए
डैमेज कंट्रोल को यूपीए ने पास कराया लोकपाल
पीएम का काम सिर्फ घोषणाएं करनाउनपर अमल नहीं
PMO swoops on air miles for personal use
ASI lodges 300 cases 27 against govt officials
लाल किले से जंतर मंतर तक कब्ज़ा / दिल्ली के स्मारक संकट में कर्ज के लिए ग्राहक से ब्लैंक चेक लेना बैंकों का अपना फैसला
Banking frauds galore, staff often colludes (Employees pass dud cheques, push fake currency)
बड़े बैंकों के बाबूघपलेबाज बड़े(11बैंकों के 250 कर्मचारी रहे धोखाधड़ी में शामिल,आरटीआई का खुलासा)
बैंकों में करोड़ पर डाला डाका” / धोखाधड़ी पर सवाल एक जबाब अलग-अलग
आपके पैसे पर डोल रही बैंक अफसरों की नीयत
सख्ती से वित्त मंत्रालय को हर महीने पौने दो लाख की बचत
BIOMETRIC SYSTEM LEADS TO REDUCTION IN OVERTIME PAY
रेलवे की 2460 एकड़ भूमि पर अवैध कब्ज़ा
दागी पुलिसकर्मी करते हैं राष्ट्रपति की सुरक्षा
President guarded by corrupt cops.
HOME MINISTRY ORDERS PROBE ON POLICEMEN GUARDING PREZ
पुलिस की सुरक्षा शाखा में भ्रष्टाचार की सेंध / गृह मंत्रालय ने माँगी भ्रष्ट पुलिसकर्मियों की रिपोर्ट
सिख विरोधी दंगों में मारे गए थे 2733 लोग
1984 ANTI SIKH RIOTS : Accused in 7 Cases out of 255 Convicted
उप्र में नौ सालों में साम्प्रदायिक हिंसा की 1271 घटनाएं, 336लोगों की मौत
पुलिस आतंकियों का कैसे करेगी मुकाबला
पुलिस वाले भी महिला सहकर्मियों के साथ यौन उत्पीडन में आगे
भ्रष्टाचार से सनी है दिल्ली पुलिस (एसीपी से सिपाही तक आरोपों से घिरे)
भ्रष्ट अधिकारियों की फौज
सजा से बच जाते हैं 42 प्रतिशत आरोपी
दस में से नौ शिकायती टरका देती है पुलिस
खेल है करीब और पुलिस के 1894 पद हैं खाली
22 vacancies for DCPs, AdCPs , 103 for ACPs in Delhi Police
Delhi policemen make a career out of ruining lives
पुलिस अधिकारी ही उड़ा रहे हैं कानून का मखौल
रेप की 69 पीड़ितों को 28 लाख का मुआवजा
70% acquittals in special cell cases (RTI Reply reveals the overall
conviction rate in past 5 years is dismal )
RTI reveals cost of rugby venue went up 200%
राष्ट्रमंडल खेल -2010: भ्रष्टाचार ही भ्रष्टाचार
जजों के चिकित्सा बिलों की जानकारी नहीं मिली
लंच में ताश खेलनेवाले कर्मियों पर होगी कारवाई
पिछले साल अगस्त में 306 यूआरएल प्रतिबंधित हुएकारवाई की सूची गोपनीय सूचना मंत्रालय की सूचना ही सही नहीं.
जांच की गुम’ हुई फाईल पाई(लघुउद्योग मंत्रालय में भ्रष्टाचार की जांच से जुड़ी फाइल गायब होने का मामला)
सीवीसी जांच के बीच ही गायब हो गई फाइल
बिना नीति के चल रहा है दूरदर्शन का डीटीएच
चीन के कब्जे में भारत का 38 हजार वर्ग किमी क्षेत्र
चीन ने कर रखा है भारत की 43,180 वर्ग किमी जमीन पर कब्ज़ा
7,500 Bangladeshi nationals deported from Delhi : RTI
अनुच्छेद 370 को लेकर समय सीमा तय नहीं
नदियों को जोड़ने के काम में पड़ोसी देशों से बाधा
दया याचिका निपटारे की समयसीमा तय नहीं :सरकार
गृह मंत्रालय में अटकी क्षमा याचिका
दया याचिकाओं पर वोट की राजनीति
राष्ट्रपति के पास 18 याचिकाएं लंबित
सात एनजीओ के खिलाफ शिकायततीन आधारहीन पाई गई
EX MPs can take pension along with benefits as EX MLAs: RTI
संसदीय पेंशन प्राप्त करने के हक़दार हैं पूर्व विधायक व पूर्व सांसद सांसद निधि योजना को बंद करने का प्रस्ताव नहीं
बजट खर्च करने में कुछ ने दिखाई दरियादिली तो कुछ रहे फिसड्डी
99 
सांसदों के सरकारी आवास में अवैध निर्माण / कानून तोड़ने में क़ानून निर्माता ही आगे.
750 
सांसदों ने खरीदे जब्त हथियार / देश के कई सांसद हथियारों के शौक़ीन
पिछले 25 साल के दौरान जब्त किए गए हथियार खरीदे नेताओं ने दलों के घोषणा पत्र से चुनाव की शुचिता प्रभावित नहीं हो : ECचुनावी खर्च का झूठ पकड़ने में चुनाव आयोग असहाय
भ्रष्टाचारकालेधन पर संसद में चुप रहीं सोनिया गांधी
Govt. ignores CBI Proof against khurshid NGO
शीला के खिलाफ भ्रष्टाचार के पांच मामलों की जांच कर रहे हैं लोकायुक्त
वीवीआईपी श्रेणी में आते हैं सोनिया के दामादवाड्रा दलाई लामा के समकक्ष/
वाड्रा को भी है हवाई अड्डे पर सुरक्षा जांच से छूट हासिल
Security to Ministers, judges for impartial decision making : Police
संसद में उठेगा बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने का मुद्दा
सात साल से अधर में लटका है भोजपुरी भाषा का मामला
शहीद” शब्द कहीं भी परिभाषित नहीं : गृह मंत्रालय(RTI IMPACT:शहीद का दर्जा देने पर किया जा रहा विचार)
कोई भेद भाव नहीं होता सेना व अर्धसैनिक बालों के जवानों को सम्मान देने में
छुट्टी के दिन कुछ सरकारी कार्यालय खुलने से गृह मंत्रालय बेखबर
हर साल 18 आईएएस अधिकारी ले रहे है स्वैच्छिक सेवानिवृति कंपनियों ने छिपाई 63 हजार करोड़ रूपए की आमदनी
30 
हजार करोड़ की कर चोरी (दो वर्षों में 33000 करोड़ का गलत मूल्य निर्धारण
मरीजों की आफत डॉक्टरों की मौज (दर– दर की ठोकरें खा रहे हैं इलाज के लिए आए मरीज)
हर सवाल का जबाब देने से बच रहा है एम्स
2011 
में तम्बाकू जनित बीमारियों पर खर्च हुए एक लाख करोड़ रूपए
त्योहार में पर्यावरण की उपेक्षा घटक सिद्ध होगी
दस साल में उर्वरक पर 4.77 लाख करोड़ रूपए की सब्सिडी
70 Farmers commit suicide every month
हर महीने 70 किसान कर रहे आत्महत्या,1.25 लाख परिवार सूदखोरों के चंगुल में
आत्महत्या को मजबूर किसान
सविधान निर्माता के नाम पर गरीबों के लिए कोई योजना नहीं.
अपने अधिकारों से महरूम हैं आदिवासी.
पेट्रो कंपनी अधिकारी मौज मेंजनता रोए तो रोए (घाटे का रोना रोनेवाले विभिन्न कंपनियों के ये अधिकारी रहते हैं शाही ठाटबाट से)
तेल कंपनियों को 5.63 लाख करोड़ रूपए का घाटा, 56फीसदी की भरपाई सरकार ने की
80 
करोड़ लोगों के निर्धन रहते देश की प्रगति असंभव : स्ट्रेटेजिक फोरसाईट ग्रुप
आधार” के पक्षधर मोदीफिर शुरू करना चाहते हैं डीबीटी
Surat Incident fallout DGCA Draws up Safty Plan ( Move to Prevent bird and animal Hits )
प्रेस की कार्यप्रणाली में हस्तक्षेप नहींस्वनियमन पर जोर
ट्रांस्जेंडरों पर विशेषग्य समिति की सिफारिशों पर विचार कर रही है सरकार
मदरसा के आधुनिकीकरण की प्रक्रिया स्वैक्षिक : सरकार
वर्तमान चुनौतियों से निपटने के लिए नई शिक्षा नीति तैयार कर रही सरकार
Sangh –backed bid to ‘ indianise’ education
दो वर्षों में यूजीसी को निजी विश्वविद्यालयों के खिलाफ फीस रिफंड संबंधी 124 शिकायतें मिली
UGC APPROVES RSS- BACKED COURSES AS JOB ORIENTED
तुगलक ,लोदीअकबरशाहजहाँडलहौजी रोड का नाम बदलनेकी कोई योजना नहीं बख्तियारपुर रेलवे स्टेशन का नाम के मामले में गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से माँगी अतिरिक्त सूचना
.........................................................................................................................................
“ 
क्या आप राष्ट्र प्रथम की भावना से जलजंगलजमीनजन और जानवर के
हक़ और हित के लिए वास्तव में चिंतित और संघर्षरत हैं ?क्या आप भारतीय संस्कृति के पुनरुत्थान चाहते हैं ?क्या आप भयभूख और भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन द्वारा समाधान हेतु सहभागी बनना चाहते हैं ?क्या आप आरटीआई (सूचना का अधिकार) के माध्यम से गोमाताऔर गंगा के साथ-साथ गाँव के सशक्तिकरण द्वारा वास्तव में सम्पूर्ण क्रांति चाहते हैं ?
“ 
यदि हाँ तो हमसे जुड़ें:--
गोपाल प्रसाद (आरटीआई एक्टिविस्ट) मकान नंबर-210, गली नंबर -3, पाल मोहल्ला,निकट मोहनबाबा मंदिर ,मंडावलीदिल्ली-110092.मोबाईल : 09910341785 , 08178949704 . ईमेल : sampoornkranti@gmail.com , missionmithila@gmail.com फेसबुक : www.facebook.com/gopal.prasad.102ट्विटर : https://twitter.com/gopaleshaktiगूगल प्लस : https://plus.google.com/112899304189028572644लिंक्ड इन : https://www.linkedin.com/…/gopal-prasad-rti-activist-608216…

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…