Skip to main content

अमेठी के सांसद एवं कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी राहुल गांधी का नामांकन पत्र रद्द किया जाय : गोपाल प्रसाद

दिनांक: 22.4.2019
सेवा में,
निर्वाचन अधिकारी
लोकसभा क्षेत्र (37)अमेठी
गौरीगंज, जनपद- अमेठी
मोबाईल : 9454418891
ईमेल :
dmamethi-up@nic.in
विषय : अमेठी के सांसद एवं वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी श्री राहुल गांधी जी के शपथ में जानकारी छुपाने के कारण नामांकन रद्द किए जाने की मांग
महोदय,
वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में  मैं गोपाल प्रसाद S/o स्व. वैद्यनाथ प्रसाद , निवासी: मकान नंबर- 210, गली नंबर -3 , पाल मोहल्ला, मंडावली, दिल्ली- 110092 (मोबाईल :9910341785) अमेठी (37) लोकसभा क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार हूं। मैं अमेठी के सांसद एवं वर्ष 2019 के कांग्रेस प्रत्याशी श्री राहुल गांधी के शपथ पत्र में जानकारी छुपाए जाने के कारण उनके नामांकन रद्द किए जाने की मांग करता हूं। इस संदर्भ में आपके अवलोकनार्थ निम्नलिखित महत्वपूर्ण तथ्य है: -

1.उत्तर प्रदेश के अमेठी  निर्वाचन अधिकारी से मेरा निवेदन है कि  राहुल गांधी ने ब्रिटिश नागरिकता ली थी इसलिए उनका नामांकन रद्द किया जाए क्योंकि ब्रिटेन में पंजीकृत एक कंपनी के कागजात  में राहुल गांधी के ब्रिटिश नागरिक होने का जिक्र है ।(प्रतिलिपि संलग्न)

2. देश की जनता जानना चाहती है कि राहुल  गांधी भारतीय  नागरिक हैं या ब्रिटिश नागरिक?

3. 2004 के चुनावी हलफनामे में, राहुल गांधी ने घोषणा की थी कि वह एक ब्रिटिश कंपनी के निदेशक थे, जिसे बैकॉप्स लिमिटेड कहा जाता था। 2005 में कंपनी द्वारा ब्रिटिश अधिकारियों को प्रस्तुत एमओयू में, गांधी की राष्ट्रीयता को ब्रिटिश के रूप में लिखा गया है। नागरिकता अधिनियम 1955 के अनुसार, किसी अन्य देश की नागरिकता प्राप्त करना से भारतीय नागरिकता का हनन करता है। ऐसी स्थिति में वो भारत की किसी भी चुनाव में हिस्सा नहीं ले सकते।

4. देश की जनता राहुल  गांधी जी के शैक्षणिक डिग्री  की सच्चाई जानने का अधिकार रखती है। 2004 के चुनावी हलफनामे में, राहुल गांधी ने उल्लेख किया था कि उन्होंने 1989 में अपनी सीनियर सेकेंडरी की पढ़ाई पूरी की थी, जिसके बाद उन्होंने 1995 में ट्रिनिटी कॉलेज से डेवलपमेंट इकोनॉमिक्स में एम फिल किया, जबकि 2009 और 2014 के एफिडेविट में उन्होंने 1994 में फ्लोरिडा के रोलिंस कॉलेज से आर्ट्स में बैचलर्स की डिग्री का जिक्र किया था। सवाल यह उठता है कि 1994 में राहुल गांधी ने अपने स्नातक करने के एक साल बाद एम फिल की डिग्री कैसे हासिल कर ली। इसके अलावा, हलफनामे में सबजेक्ट के नाम पर अंतर है। 2009 के चुनावी हलफनामे में कहा गया है कि उन्होंने कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के ट्रिनिटी कॉलेज से "डेवलपमेंट इकोनॉमिक्स" में एम. फिल किया, जबकि 2014 और 2019 के चुनावी हलफनामे में उन्होंने कहा कि उनके पास  "ट्रिनिटी कॉलेज, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से "डेवलपमेंट" में एम फिल की डिग्री है।

5.राहुल गांधी जी के डिग्री में नाम को लेकर विवाद हो गया है, ऐसी स्थिति में राहुल गांधी जी द्वारा स्थिति स्पष्ट किया जाना आवश्यक है। वर्ष 1994-05 में फ्लोरिडा के रोलिंस कॉलेज ने बैचलर ऑफ आर्ट्स की डिग्री जारी की थी और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय (ट्रिनिटी कॉलेज) ने वर्ष 2004-05 में "राउल विंसी" के नाम पर डेवलपमेंट स्टडीज में  ए. फिल की डिग्री जारी की थी, ना कि राहुल गांधी को।

6.राहुल गांधी का नाम ब्रिटेन में एक कंपनी से संबंधित दस्तावेजों में ब्रिटिश नागरिक के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। क्या राहुल गांधी ब्रिटिश नागरिक थे?

7.इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नागरिकता को लेकर याचिका दायर करने वाले से कहा कि वह अपनी शिकायत उठाने के लिए केन्द्र सरकार की सक्षम प्राधिकार से संपर्क करें ।न्यायमूर्ति डी. के. अरोड़ा और न्यायमूर्ति मनीष माथुर की पीठ ने आर के सिंह की याचिका पर उक्त निर्देश दिया । पीठ ने एक दिसंबर 2015 के आदेश को भी संज्ञान में रखा, जिसमें निर्देश दिया गया था कि याचिकाकर्ता यह मुददा उठाने के लिए केन्द्र सरकार से संपर्क करे ।याचिका में आरोप है कि एक मामले में राहुल गांधी ने ब्रिटेन में आयकर रिटर्न दाखिल किया है और खुद को ब्रिटेन का नागरिक दर्शाया है ।

8. श्री राहुल गांधी ही राहुल विंसी तथा राउल पाउलो हैं का जिक्र शपथ पत्र में नहीं है। राउल विंसी ब्रिटिश नागरिक है जबकि राउल पाउलो इटेलियन नागरिक है, के जिक्र शपथ पत्र में नहीं है।

9. राहुल गांधी, राउल विंसी , राउल पाउलो के नाम से जितने (एक या अधिक) पासपोर्ट हैं का जिक्र शपथ पत्र में नहीं है। इस संदर्भ में विदेश मंत्रालय की जानकारी अपेक्षित है। क्या राहुल गांधी विभिन्न देशों में विभिन्न नाम से जाने जाते हैैं?

10. श्री राहुल गांधी, उनकी मां श्रीमती सोनिया गांधी की विदेशी यात्राओं का ब्यौरा एवम उस दौरान किए गए खर्च , CAG की ऑडिट रिपोर्ट, CAG द्वारा की गई आपत्तियों की जानकारी शपथ पत्र में नहीं है।

11. श्री राहुल गांधी एवम उनके पारिवारिक सदस्यों यथा उनकी माता श्रीमती सोनिया गांधी उनकी बहन श्रीमती प्रियंका वाड्रा, उनके जीजा श्री रॉबर्ट वाड्रा से संबंधित कंपनियों तथा ट्रस्ट की बैलेंस शीट, ऑडिट रिपोर्ट, फॉरेन एक्सचेंज, लेनदारी, देनदारी, कर्ज, लाभ की जानकारी शपथ पत्र में नहीं है। उदाहरणार्थ :-
a. राजीव गांधी फाउंडेशन
b. बैकप्स सर्विसेज प्रा. लि.
c. एसोसिएट जर्नल्स लि., नेहरू भवन, विशेश्वरनाथ रोड, लखनउ
d. यंग इंडियन प्रा. लि.,N-125, पंचशील पार्क, नई दिल्ली-17 एवम 5A हेराल्ड हाउस, बहादुर शाह जफर मार्ग, नई दिल्ली-110002
e. AICC,24 अकबर रोड, नई दिल्ली

12. राहुल गांधी एवम उनके पारिवारिक सदस्यों पर डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी जी द्वारा लगाए गए गंभीर आरोपों , प्रीवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट, SIT जांच के संदर्भ में अद्यतन स्थिति, राहुल गांधी जी को प्राप्त नोटिस एवम उनके द्वारा दिए गए जबाब जैसी जानकारी शपथ पत्र में छुपाई गई है।


13. श्री राहुल गांधी जी द्वारा अपने शपथ पत्र से यह स्पष्ट नहीं होता है कि उनके तथा उनके परिवार के सदस्य के चल एवम अचल संपत्ति के ब्यौरे के अलावा यदि कोई संपत्ति देश में अथवा विदेश में पाई जाती है तो उसे जप्त करने के साथ साथ गिरफ्तार कर सकती है।

14. श्री राहुल गांधी जी द्वारा अपनी नागरिकता, शैक्षणिक योग्यता, संपत्ति की जानकारी आधी अधूरी देने, जानकारी छुपाने के कारण उनका नामांकन रद्द किया जाना परमावश्यक है।

15. श्री राहुल गांधी जी ने वर्ष 2004,2009,2014,2019 के लोकसभा चुनाव के शपथ पत्रों में मौजूद विसंगतियों का स्पष्टीकरण  भारत निर्वाचन आयोग एवम न्यायालय द्वारा अति आवश्यक है।इसके लिए उनके अब तक के सभी शपथ पत्रों का पुनः अवलोकन किया जाना चाहिए।

16. राहुल गांधी जी ने वर्ष 2019 के अपने शपथ पत्र में ब्रिटिश कंपनी की स्थापना,उससे अर्जित किए गए लाभ का जिक्र नहीं किया है।देश की जनता जानना चाहती है कि राहुल गांधी की कभी ब्रिटिश नागरिक बने थे? इस संदर्भ में श्री राहुल गांधी जी द्वारा स्पष्ट एवम अधिकृत जानकारी दिया जाना आवश्यक है।

17.  कार्यालय जिला निर्वाचन अधिकारी अमेठी के पत्रांक संख्या 782/निर्वा- सू. अधि-2014 ,दिनांक:22 दिसंबर 2014 को जारी किए गए श्री राहुल गांधी जी के वर्ष 2014 के शपथ पत्र  फॉर्म 26 मैंने प्राप्त की थी। जिसमें वर्णन है कि दिनांक: 31.3.2014 को जारी लोकसभा सचिवालय के पत्र के अनुसार- "दिनांक 11.3.2014 तक की स्थिति के अनुसार CPI सेल के RF tag  LMP 0950 पेंडिंग था अर्थात नो ड्यूज क्लियर नहीं था, ऐसी स्थिति में उनके नामांकन (लोकसभा चुनाव वर्ष 2014)की स्वीकृति कैसे दे दी गई, यह जांच का विषय है।

18. बैकअप्स सर्विसेज प्रा. लि. कम्पनी के शेयर कैपिटल में 100 रूपए मूल्य के 25000 शेयर होल्डर (82%) अर्थात 25 लाख के इन्वेस्टर श्री राहुल गांधी द्वारा अर्जित किए गए लाभ का ब्यौरा उनके नामांकन पत्र एवम शपथ पत्र में नहीं है। डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी द्वारा दिए गए बयान एवम सम्बन्धित मीडिया रिपोर्ट्स की प्रति संलग्न है।(पेज संख्या:1-6)

19.भारत निर्वाचन आयोग सचिवालय के प्रिंसिपल सेक्रटरी श्री आर. के. श्रीवास्तव द्वारा दिनांक:15 नवम्बर 2012 को चीफ इलेक्ट्रॉल ऑफिसर उ.प्र.को भेजे गए पत्र जिसमें डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी जी द्वारा श्री राहुल गांधी जी के शपथ पत्र (वर्ष 2009के चुनाव हेतु) में संपत्ति की झूठी जानकारी दी गई थी। इसके संबंध में उ.प्र. निर्वाचन आयोग द्वारा की गई कार्यवाही एवं श्री राहुल गांधी जी द्वारा दिए गए स्पष्टीकरण/जबाव अपेक्षित है, जिससे पता चल सके कि अब तक क्या कार्यवाही हुई अथवा नहीं हुई।पत्र की प्रतिलिपि संलग्न (पेज संख्या-7)

20. श्री राहुल गांधी जी के शपथ पत्र में उनकी बहन श्रीमती प्रियंका वाड्रा (निवासी: 35 लोधी इस्टेट, लोधी कॉलोनी,नई दिल्ली-110003) बैकप्स सर्विसेज प्रा. लि. में एडिशनल डायरेक्टर थीं जिसका DIN नंबर: 01038703 है, का कहीं जिक्र नहीं है।( प्रतिलिपि संलग्न: पेज संख्या -8)

21. दिनांक 11.9.2014 को सूचना का अधिकार के तहत मांगी गई जानकारी के अनुसार बैकप्स सर्विसेज प्रा.लिमिटेड का रजिस्ट्रेशन संख्या: 115559 तथा CIN नंबर : U74140DL 2002PTC 115559 और पंजीकृत पता : 212 दीनदयाल उपाध्याय मार्ग, नई दिल्ली-110002(कांग्रेस पार्टी के दिल्ली प्रदेश कार्यालय का पता) ईमेल: info@back-ops.com  था। यह कंपनी वर्तमान में स्ट्राइक ऑफ है। सबसे पहले राजनैतिक दल के कार्यालय में व्यावसायिक  गतिविधि एवम कार्यालय हो ही नहीं सकता है।राहुल गांधी जी के अन्य कंपनी यंग इंडियन कम्पनी लिमिटेड जिसका रजिस्ट्रेशन नंबर: 210686 तथा CIN नंबर :U74999DL 2010NPL 210686 , जिसका पंजीकृत कार्यालय :5A, हेराल्ड हाउस, बहादुर शाह जफर मार्ग ,नई दिल्ली-110002 है। इस बारे में श्री राहुल गांधी जी ने अपने शपथ पत्र में जानकारी छुपाई है। आरटीआई एवम कंपनियों की विस्तृत जानकारी संलग्न है (पेज संख्या : 8-13)

अतः श्रीमान से निवेदन है कि मेरे द्वारा उठाए गए विषयवस्तु के मद्देनजर श्री राहुल गांधी जी का नामांकन रद्द किया जाना चाहिए क्योंकि इन्होंने भारतीय संविधान की धज्जियां उड़ाई है।
आपका विश्वासी-
गोपाल प्रसाद
निर्दलीय प्रत्याशी अमेठी लोकसभा क्षेत्र
स्थानीय पता : सगरा रोड अमेठी
वाट्सएप :9940341785
ईमेल:sampoornkranti@
gmail.com

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…