Skip to main content

अमेठी लोकसभा क्षेत्र (37) से राहुल गांधी के विरुद्ध चुनौती देगे गोपाल प्रसाद आरटीआई एक्टिविस्ट

सेवा में ,                                       दिनांक : 23.04.2013 
        डा. लक्ष्मीकान्त वाजपेयी
        उत्तरप्रदेश भाजपा अध्यक्ष
        लखनऊ
बिषय : अमेठी लोकसभा क्षेत्र (37) से भाजपा प्रत्याशी बनाए जाने हेतु अनुरोध .
...............................................................................................
महोदय ,
            मैं गोपाल प्रसाद भाजपा का निष्ठावान कार्यकर्ता हूँ . विद्यार्थी जीवन के महाविद्यालय अध्ययन काल (1987-1993) में दरभंगा (बिहार) में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (ABVP) से जुडा रहा हूँ . राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की साहित्यिक आनुषांगिक संगठन "अखिल भारतीय साहित्य परिषद् " से जुडा हूँ . विगत 13 बर्षों से दिल्ली में स्वतंत्र पत्रकारिता करते हुए भ्रष्टाचार के विरुद्ध आधार तैयार करने एवं पारदर्शिता कायम करने हेतु सूचना का अधिकार ( RTI ) का समाजहित एवं राष्ट्रहित में सर्वाधिक प्रयोग करनेवाला आरटीआई एक्टिविस्ट हूँ .
                    भय,भूख और भ्रष्टाचार के विरुद्ध जनमानस को उद्वेलित करना सुशासन के रूप में भाजपा को बेहतर तरीके से प्रस्तुत करने हेतु सतत प्रयत्नशील हूँ .राष्ट्र प्रथम की भावना से समरसता एवं स्वस्थ समाज हेतु चिंतनशील रहते हुए शिक्षा , नैतिकता एवं संस्कार के प्रति उन्मुख होकर जनजागरूकता के माध्यम से संपूर्ण क्रांति का शंखनाद हमारा  प्रमुख उद्देश्य है. व्यवस्था परिवर्तन हेतु चिंतनशील रहकर उससे सम्बंधित लोगों को जोड़ना हमारी प्राथमिकता में है.विशेष रूप से जेपी, लोहिया, आंबेडकर, शास्त्री, विवेकानंद, दयानंद, चाणक्य , शिवाजी, राजीव दीक्षित एवं गरम दल के सभी क्रांतिकारियों का प्रबल समर्थक एवं उनके सिद्धांतों को अपने जीवन में आत्मसात करने की कोशिश करता हूँ  .
                    मात्र समस्या का जिक्र करने के बजाय संवाद एवं समन्वय के सूत्र से समाधान ढूँढने की दिशा में प्रयत्नशील रहता हूँ .समाज एवं राष्ट्र के प्रति सकारात्मक क्रियाकलापों से जुड़कर उनको सशक्त करते हुए अपने भूमिका की संभावना तलाशने का प्रयास करता रहता हूँ . भ्रष्टाचार,शोषण उत्पीडन एवं खामोशी के विरुद्ध प्रतिरोध करना एवं कलम द्वारा आवाज बनाने के लिए संकल्पित हूँ .
                     मेरा मानना है की वर्तमान परिप्रेक्ष्य में स्वस्थ समाज की रचना हेतु राजनीति में स्वच्छ , शालीन एवं निर्भीक लोग आने चाहिए, ताकि हमारी लोकतान्त्रिक व्यवस्था मजबूत व  स्वस्थ हो सके. हमारा विशवास है की इस कसौटी पर खडा उतरूंगा . हम तो विद्यार्थी मात्र हैं एवं आप हमारे परीक्षक . मुझे आशा ही नहीं बल्कि विश्वास है की आपके हर परीक्षा  में हम सर्वाधिक अंकों से उत्तीर्ण होंगे .
                      हम 10 अप्रैल 2013 से आगामी लोकसभा चुनाव तक अमेठी एवं रायबरेली से सूचना का अधिकार ( RTI )प्रशिक्षण का कार्य प्रारंभ कर चुका हूँ , जिसका उत्साहवर्धक एवं सकारात्मक परिणाम मिला है. मुख्य रूप से जनता को उसके अधिकार , कर्तव्य एवं आरटीआई नियमों की सरल तरीके से जानकारी देकर उन्हीं के माध्यम से आरटीआई फाईल करवाकर जनजागरूकता पैदा करते हुए भाजपा की मुख्य धारा से जोड़कर पार्टी को शीर्ष पर पहुंचाने के लिए कटिवद्ध हूँ .
                      वर्तमान कांग्रेस सांसद श्री राहुल गांधी की सच्चाइयों को उजागर करते हुए अमेठी सीट पर प्रतीकात्मक चुनाव लड़ने के बजाय निर्णायक चुनौती देकर सफल होउंगा . आपके सकारात्मक निर्णय अपेक्षित है. सादर धन्यवाद !
                              
                      
                                                  आपका विश्वासी---
                              
                                
                                                गोपाल प्रसाद (आरटीआई एक्टिविस्ट)                                                                                                 मो.: 09289723144, 08743057056 
                                           ईमेल : sampoornkranti@gmail.com
                                                     gopalprasadrtiactivist@gmail.com

                                           www.facebook.com/gopal.prasad.102
                                           Blogs:  http://sampoornkranti.blogspot.in
                                                      http://kavitasekranti.blogspot.in
Note: You may search our  activities on google search by my name
          GOPAL PRASAD RTI ACTIVIST.
....................................................................................................
Lucknow Address :

C/o Shri Brijesh Mishra Saurabh (Ex MLA Gadwara, Pratapgarh)
G-4/2, Papermill Colony, Nishatganj, Lucknow
..............................................................................................
Amethi Address :

C/o Shri Ashish Agrawal, Kakwa Road, Amethi Chowk, Amethi
..............................................................................................
Delhi Address :

House No.--210, Street No.-3, Pal Mohalla,
Near Mohanbaba Mandir, Mandawali , Delhi-110092.
..............................................................................................
प्रतिलिपि प्रेषित :
1. श्री राजनाथ सिंह
2. श्री लालकृष्ण आडवाणी
3. श्रीमती सुषमा स्वराज
4. श्री नरेन्द्र मोदी
5. श्री मुरली मनोहर जोशी
6. श्री शाहनवाज हुसैन
7. श्री नितिन गडकरी
8. श्री धर्मेन्द्र प्रधान
9. श्री जे पी नड्डा
10.श्री हुकुमदेव नारायण यादव
11.श्री मुख्तार अब्बास नकवी
12. सुश्री उमा भारती
13. श्री वरुण गाँधी
14. डा संजय पासवान
15. डा किरीट सोमैय्या 
16. श्रीमती मृदुला सिन्हा
17. डा धीरेन्द्र कुमार झा
18.श्री विजय सोनकर शास्त्री
19.श्री कलराज मिश्र
20.श्री विनय कटियार
21.श्री सूर्य प्रताप शाही  
22.श्री लालजी टंडन
23.श्री ह्रदयनारायण दीक्षित
24.श्री अमित शाह 
25.श्री प्रभात झा 
26.श्री पशुपति शंकर वाजपेयी
27.श्री गोविन्द नारायण शुक्ल
28.श्री दयाशंकर यादव

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…