Skip to main content

दलित हित के बगैर सामाजिक समरसता असंभव : गोपाल प्रसाद



दलितों पर अत्याचार कोई नई बात नहीं है. आए दिन ऐसी घटनाएँ पढने/ सुनने  को मिलती रहती है की दलित दूल्हे को घोड़ी पर नहीं चढने दिया गया, इसके अतिरिक्त नाबालिग दलित बालिकाओं के साथ छेड़छाड़ या बलात्कार की घटनाएँ भी होती रहती है . इस तरह की घटनाओं पर तब तक अंकुश नहीं लग सकता जब तक की समाज की दलित समुदाय के प्रति मानसिकता नहीं बदलती . पढाई  लिखाई से अनुसूचित जाति समाज में जाग्रति आई है , पहले जहाँ अत्याचार को अपनी नियति मानकर चुप बैठ जाते थे , वहीं अब इसके खिलाफ आवाज उठाई जाने लगी है. मुकदमों की बढती संख्या यही दर्शाती है. समाज में यह चेतना किसी हद तक नकारात्मक भी है. कई लोगों ने दलित अत्याचार रोकने के नाम पर धंधा शुरू कर दिया है. कई बार तो यह देखने में आया है कि लोगों को धमकाने , प्रताड़ित  करने के लिए भी एट्रोसिटी के मुकदमे दर्ज करवा दी जाते हैं . कुछ शातिर दिमाग लोगों ने इसको अपने विरोधियों को निपटाने  का हथियार बना लिया है . छिटफुट मारपीट में भी एट्रोसिटी का मुक़दमा दर्ज करवा दिया जाता है. कई ऐसे उदहारण हैं,जिसमें लोगों ने तरह-तरह के खेल खेले . कई लोगों के तो वारे-न्यारे हो गए, कई लोग रातों- रात  स्टार हो गए. जिन लोगों ने उस स्थिति को भोगा , उनको कोई पूछनेवाला नहीं है. 
इसमें कोई शक नहीं की राजस्थान के गांव में आज भी सामंतवादी सोंच कायम है. दलितों को मूल मानवीय अधिकार प्राप्त नहीं है. सदियों से जो व्यवस्था कायम है उसमें रतीभर भी बदलाव नहीं आ सका है.फिल्म " गुलामी " में इसको सही रूप से चित्रित किया गया है.  कुंआरी या ब्याही दलित स्त्रियों को विपरीत परिस्थितियों में जीवन जीना  पड़ रहा है. यदि परिवार में लठैत है तो उनकी अस्मत बची रह सकती है . गांव में एक घर है तो उनके साथ बदतमीजी होना स्वाभाविक है. कई बार अपराधी प्रवृति के दबंग इनके साथ बलात्कार कर देते हैं. अपने साथ हुए अन्याय के खिलाफ ये यदि आवाज उठाती हैं तो न्यायलय की लंबी और थका देनेवाली प्रक्रिया से इतनी हताश हो जाती है कि वह इससे पिंड छुड़ाने की कोशिश करती है, नतीजा यह होता है की वह खुद यह स्वीकार कर लेती है की उसके साथ कुछ नहीं हुआ. बलात्कार के ज्यादातर मामलों में गांव और प्रभावशाली लोगों का इतना दबाब होता है की समझौता करना पड़ता है.मजबूरी यह होती है की गांव में ही रहना है और यदि अपने बयान पर कायम रहना है तो गांव छोड़ना पड़ेगा. ऐसे हालत में अत्याचारियों को सजा नहीं मिल पाती है . इस तरह के मामलों में यह देखा गया है की पुलिस का रवैया भी रफा- दफा करने का होता है. पुलिस भी प्रायः लंबी कानूनी प्रक्रिया का हवाला देते हुए समझौता की ही सलाह देती है. 
                             यहाँ एक चीज देखने में आती है वह यह है कि दलित समुदाय में भाईयों में खून खराबा हो जाने पर उतना हल्ला नहीं होता , जितना किसी सवर्ण द्वारा दलित को भला -बुरा कहने का . किसी से तू-तू, मैं-मैं हो जाने पर भी एट्रोसिटी का मुक़दमा दर्ज करा दिया जाता है. दलित समुदाय को भी इस मानसिकता में बदलाव करना होगा . समाज में रहते हुए छोटे -मोटे झगड़े आम बात है. घर -परिवार के झगड़े भी ज्यादा नहीं खीचे जाते तो इन  सवर्ण समुदाय के लोगों के साथ हुए झगड़े को भी ज्यादा नहीं खींचा जाना चाहिए . दलित इस बात पर बड़ा गर्व करते हैं की उनके समुदाय में कई महापुरुष पैदा हुए जिस पर वे गर्व कर सकते हैं . दलितों में वही नेता माना  जाता है जो सवर्णों को ऊँची आवाज में गाली देता हो . दलित वर्ग पर अत्याचार हुए हैं , इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता लेकिन दूसरे समुदाय को गाली देते रहने से तो किसी का भला नहीं हो सकता. दलित समुदाय को चाहिए की वह अपनी मानसिकता का विस्तार करे और सवर्ण समुदाय को चाहिए की अपना दिल बड़ा करे. समय बदल रहा है , यदि अभी नहीं बदले तो समय बदल देगा. देश, समाज एवं समुदाय का हित इसी में है की समाज में सामाजिक समरसता कायम रहे , सभी वर्ग एक दूसरे से जुड़े रहें और महसूस करें की दलितों का भी अपना सम्मान  है. आज यह  पहल समय की सबसे बड़ी आवश्यकता है. 
(लेखक आर. ती आई एक्टिविस्ट हैं.)

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन …