Skip to main content

निजी क्षेत्र में आरटीआई का प्रावधान क्यों नहीं ?--गोपाल प्रसाद

(नई दिल्ली,14 अप्रैल 2011 ) बाबा साहब डा. भीमराव आंबेडकर के जयन्ती के अवसर पर " आरटीआई एक्टिविस्ट एसोसिएशन ऑफ इण्डिया " द्वारा लक्ष्मी नगर में आयोजित "यदि आज आंबेडकर जीवित होते " बिषय पर आयोजित विचार गोष्ठी में संस्था के महासचिव गोपाल प्रसाद (आरटीआई एक्टिविस्ट)ने कहा कि यदि आज आंबेडकर जीवित होते तो वे निश्चित रूप से दलितों को सूचना का अधिकार प्रयोग करने ,आरटीआई एक्ट को सशक्त करने तथा भ्रष्टाचार के खिलाफ कानून में कठोर प्रावधान अवश्य करते. वास्तव में सूचना का अधिकार (RTI) का अधिकाधिक प्रयोग करके ही भ्रष्टाचार एवं अनियमितताओं को उजागर किया जा सकता है. भ्रष्टाचारियों को नकेल डालकर ही कानून का भय बनाया जा सकता है. जब तक भ्रष्टाचार के विरुद्ध जनहित हेतु आरटीआई एक्ट को और अधिक शक्ति नहीं दिया जायेगा तब तक कानून तोड़नेवालों के दिल में कानून के प्रति सम्मान कैसे हो सकता है? वास्तव में कानून का सम्मान ही भारतीय संविधान निर्माता डा. भीमराव आंबेडकर का सम्मान है और यही उनके लिए सच्ची श्रद्धांजली होगी. कालाधन वापस लाने एवं भ्रष्टाचार के विरुद्ध आन्दोलन का सबसे अधिक फायदा दलितों, शोषितों एवं उपेक्षितों को होगा. हमें जनजागृति लानी होगी की आज हमें सूचना का अधिकार, शिक्षा का अधिकार, स्वास्थ्य का अधिकार ,रोजगार का अधिकार आदि प्राप्त है. चिंता का विषय यह है कि इसके बारे में आम जनता को अभी भी जानकारी प्राप्त नहीं है. हमें सरकार पर निर्भर रहने के बजाय स्वैक्षिक स्तर पर जनजागरण के माध्यम से इस आन्दोलन को तेज करना होगा. जब जनता जागेगी तो बदलाब अवश्य आएगा. आन्दोलन और जनजागृति में अन्योनाश्रय सम्बन्ध है अर्थात ये एक दूसरे के पूरक हैं. सन 1942 के भारत छोडो आन्दोलन अभियान में लगभग 5%लोग ही शामिल थे और उसी के बदौलत हमने ब्रिटिश साम्राज्य को उखाड़ फेंका था . आज भी पांच प्रतिशत जनता इस आन्दोलन के सहभागी बन जाएँ तो बदलाव आने में कोई बिलम्ब नहीं होगा. अन्ना हजारे द्वारा लोकपाल विधेयक लागू करने हेतु आमरण अनशन की सफलता इसका प्रत्यक्ष उदहारण है. हमें मौन रहने के बजाय अन्याय ,शोषण, भ्रष्टाचार के विरुद्ध प्रतिकार करने की क्षमता लानी होगी. जब शोषित समाज आवाज उठाएगी तभी हुक्मरान सही कदम उठाने को मजबूर होगा और इसके लिए हमें दूसरों की प्रतीक्षा किए बिना स्वयं पहल करना होगा .दलित भागीदारी के बिना कोई आन्दोलन मानवाधिकार आन्दोलन नहीं हो सकता. इसके लिए बौद्धिकता और तर्क को विकसित करना होगा. आज यदि आंबेडकर जीवित होते तो निश्चित रूप से निजी क्षेत्र में आरटीआई का प्रावधान लागू करने एवं कालाधन जमा करने वालों पर सख्त कानून बनाते. क्या निजी क्षेत्र में भ्रष्टाचार नहीं है? भ्रष्ट नेता, भ्रष्ट नौकरशाह एवं भ्रष्ट उद्योगपतियों कि तिकड़ी ने अपराधियों के बलबूते निर्दोष जनता के हक़ को छीनकर बुनियादी सुविधाओं एवं विकास के मद के सरकारी कोष में हेराफेरी से प्राप्त धन को देश से बाहर एवं देश के अन्दर अन्य नाम से जमा कर रहें हैं . यही कालाधन है. सरकार को इसपर टैक्स लगाने के बजाय बिहार और म.प्र. की तरह पूर्णतः जप्त कर जनहित मद में प्रयोग करने का प्रावधान बनाना चाहिए. अब तक 40 -45 आर्थिक समितियों एवं आयोगों द्वारा किये गए विश्लेषण के बाद भी आज तक कोई भी सरकार इस कालाधन को प्राप्त करने एवं देश की बुनियादी आवश्यकताओं में इसका उपयोग करने कि पहल क्यों नहीं की? हमारे राजनेताओं में इच्छाशक्ति की कमी तथा नीति एवं नीयत में खोट रहने के कारण समस्याएँ घटने के बजाय बढ़ रही है .कालेधन की अर्थव्यवस्था न होती तो आज हम जापान और चीन को पीछे छोड़कर विश्व की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देश का गौरव प्राप्त कर पाते. भ्रष्ट देशों की सूची में हमारे देश का नाम ऊँचे पायदान पर नहीं होता. आज आंबेडकर जीवित होते तो निश्चित रूप से संविधान में संसोधन के बजाय समसामयिक समस्याओं के मद्देनजर नया संविधान लिखते. अपनी बातों के समर्थन में होसंगाबाद (म.प्र.) के सजीवन मयंक के गीत "नया विधान लिखें" का अवश्य जिक्र करना चाहूँगा जो काबिलेगौर है :----- हमने अपने संविधान में इतने संशोधन कर डाले . बेहतर हो हम सब मिलजुलकर अपना नया विधान लिखें.. हर कुटिया को मिले उजाला, हर बचपन को प्यार मिले, सबकी जाति हो हिन्दुस्तानी , जन- जन को अधिकार मिले, हर बच्चे को मिले खिलौना सबके घर हो नरम बिछौना. हर मुखड़े पर भारतवासी स्वाभिमान प्रतिमान लिखें. कल की बातें वर्तमान में , अक्सर छल कर जाती है, परिवर्तित बातें जीवन में , सब कुछ हल कर जाती हैं, अपनी भूलें सुधारें खुद ही औरों से क्या लेना है. हर मंदिर हर भाषा में हम सबका भगवान लिखें.. राजनीति का अर्थ देश को , स्वर्ण सबेरा देना है , आजादी को इस आँगन में, अटल बसेरा देना है, यह माटी हम सबकी जननी इसका नव श्रृंगार करें. सभी जाति के लोग नाम के आगे बस 'इन्सान' लिखें.. ........................................................................................ लखनऊ के प्रो. ओमप्रकाश गुप्त 'मधुर' के गीत "कौन श्रेष्ठ कह सकता है?" में हमारे वक्तव्यों की झलक दीख पड़ती है :-- भारत के इस लोकतंत्र को ,कौन श्रेष्ठ कह सकता है . लोक जहाँ पर लोप हुआ ,क्या तंत्र शेष रह सकता है? नेताओं नौकरशाहों में ऐसी हुई जुगलबंदी , व्यापारी दोनों हाथ से लूट रहे कह कर मंदी , आम नागरिक भूखा नंगा, ठोकर ही सह सकता है. लोक जहाँ पर लोप हुआ ,क्या तंत्र शेष रह सकता है? शासन तो दुष्यंत बना ,जनता बन बैठी शकुंतला , भोग लिया फिर भूल गया ,अपने महलों की और चला , जनता की आँखों के बदव में ,सागर दह सकता है . लोक जहाँ पर लोप हुआ ,क्या तंत्र शेष रह सकता है? वोटों के सौदागर देते जाति-पांति के आरक्षण , प्रतिभा को पीलिया हुआ है ,लकवाग्रस्त हुआ है शिक्षण , एक सुनामी और हुई तो ,तंत्र -मंत्र दह सकता है . लोक जहाँ पर लोप हुआ ,क्या तंत्र शेष रह सकता है? ........................................................................................... अजीत शर्मा 'आकाश' (जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी,इलाहबाद) के गजल में आंबेडकर के सूत्रवाक्य नजर आते हैं :--- नाम अत्याचार का जड़ से मिटाएगी जरूर. देख लेना क्रांति की लहर आएगी जरूर .. राख़ में लिपटी हुई ये आग हवा चलते ही, एक न एक दिन शोषकों का घर जलाएगी जरूर, आज तो सूरत प्याला जहर का पी जाएगा, कल मगर उसको ये दुनिया सर नवाएगी जरूर. रख सकोगे कब तलक वंचित ये जनता एक दिन, तय समझ लो अपना हर अधिकार पाएगी जरूर, एक बेंजामिन मरेगा जन्म लेंगे सैकड़ों , उन्हें सरकार फांसी पर चढ़ाएगी जरूर . अब बगावत पर उतर आओ ,सुनो अहले चमन , ये खिजां वर्ना सितम तुमपर भी ढायेगी जरूर. संगठित होकर दिखा दो ,संगठन में शक्ति है , जो विरोधी शक्ति होगी मुंह की खाएगी जरूर, मांगने से यदि न मिल पाए तो बढ़कर छीन लो , हर सफलता खुद-ब-खुद कदमों में आयेगी जरूर, हौसला तूफान से लड़ने का होना चाहिए , सीना-ए-दरिया पे कश्ती डगमगाएगी जरूर.. .......................................................................... नवलगढ़ (राजस्थान) के ओमप्रकाश व्यास की चार पंक्तियाँ हमारे लिए प्रेरक है :-- देश आतंक से घिरा है , अब तो उसपर ध्यान धर, छेड़ मत फिल्मी तराने , देशभक्ति का गान कर,. मिट रही अपनी विरासत , नष्ट हो रही संस्कृति , इन सभी को बचाना ,राष्ट्रीयता का पान कर..

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन …