Skip to main content

फिएट द्वारा दिल्ली ऑटो एक्सपो में नवीनतम स्टाइल एवं तकनीक का प्रदर्शन

* फिएट ५०० बाइ डीजल’द डेनिम थीम शो कार का भारत में पहली बार हंगामीखेज प्रदर्शन
* कंपनी द्वारा लीनिया ड्‌यूएलॉजिक ट्रांसमिशन, ग्रैंड पंटो तथा अन्य दिलकश भविष्यगामी वाहनों की प्रस्तुति
* इन नये वाहनों के प्रदर्शन के माध्यम से फिएट की प्रौद्योगिक, खोजपरक, युवा केन्द्रित एवं पर्यावरणीय प्रतिबद्धता उजागर हुयी ।

भारतीय ऑटो सेक्टर में वर्ष २००९ की अपरिमित सफलता के उपरान्त फिएट ने ऑटो एक्सपो २०१० में आज अपने नये वैरिएंट्‌‍स का शानदार अंदाज में प्रदर्शन किया । ऑटो एक्सपो २००८ में स्थापित उच्च स्तरीय मानदंडों के समान ही फिएट ने इस वर्ष भी अपने प्रशंसकों को निराश नहीं किया और फिएट ५०० बाइ डीजल, लीनिया ड्‌यूएलॉजिक ट्रांसमिशन, लीनिया टी-जेट, ग्रैंड पंटो नेचुरल पावर, ग्रैंड पंटो स्पोर्ट्‌स तथा ग्रैंड पंटो ट्रेंन्ड्‌ज जैसे उम्दा मॉडलों का प्रदर्शन किया ।
पहली बार भारतीय उपभोक्‍ताओं को नवीन फिएट ५०० बाइ डीजल को बेहद नजदीक से देखने का अवसर मिला, यह डेनिम ब्रांड की एक शैलीबद्ध शो कार है । सभी के आकर्षण का केंद्र यह कार उच्च स्तरीय फैशन एवं ठोस परफार्मेस का प्रतीक है । इटली के अग्रणी हॉट-कॉचर डिजाइनर रेन्जो रूसो द्वारा डिजाइनर की गयी फिएट ५०० बाइ डीजल लोगों के आंखों को लुभाती हुयी प्रतीत हो रही है । यह कार अग्रणी यूरोपीय फैशन ब्रांड- ‘डीजल’ से प्रेरित है तथा डीजल ग्रीन, डीजल ब्लैक एवं डीजल ब्रॉन्ज जैसे तीन आकर्षण रंगों में उपलब्ध है । इसके अतिरिक्‍त इस नयनाभिराम कार में १६ इंच के अनूठे डीजल लोगो एलॉय व्हील्स, यलो ब्रेक कैलीपर्स, डीजल साइट मोल्डिंग्स रियर व्यू मिरर्स तथा बेहद आकर्षण फ्रंड ‘व्हिस्कर्स’ की व्यवस्था है ।
इस कार के वाह्‌य लुक के साथ ही इसका आंतरिक लुक भी अत्यंत सुदर्शन है, जो डीजल ब्रांड डेनिम परिधान के गुणों (पीले रंग की सिलाई के साथ) सुसज्जित है । इसके बेसिक स्पोर्ट्‌स वर्जन के डैशबोर्ड तथा गियर लीवर नॉब पर भी एक डीजल लोगो लगा हुआ है । फिएट ५०० बाइ डीजल तीन आकारों में ५- स्पीड अथवा ६ स्पीड मैन्युअल ट्रांसमिशन के साथ उपलब्ध है, ये तीन आकार हैं- १.२ लीटर ६९ एचपी, डीपीएफ के साथ १.३ लीटर मल्टीजेट ७५ एचपी और १.४ लीटर १६ वी १०० एचपी ।
फिएट ५०० बाइ डीजल के साथ फिएट के अन्य संभावित भविष्यगामी मॉडलों को काफी बेहतर प्रतिसाद प्राप्त हो रहा है । भारत का विशालतम ऑटो शो, ऑटो एक्सपो सदैव ही कंपनी के आगामी उत्पादों एवं योजनाओं के प्रदर्शन का शानदार मंच रहा है । इस तथ्य का पूर्ण लाभ उठाते हुए फिएट ने अपने विविध ब्रांडो का सफलतापूर्वक प्रदर्शन किया है तथा उपभोक्‍ताओं की रूचि के अनुरूप कंपनी की भावी योजनाओं को सम्बल प्रदान किया है ।
ऑटो एक्सपो २०१० में विविध प्रकार के वाहनों के प्रदर्शन के उपलक्ष्य में फिएट इंडिया के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री राजीव कपूर ने कहा कि, “फिएट इंडिया ने संख्यात्मक दृष्टि से अपने विविध प्रकार के मॉडलों की अतिशय बिक्री की है और वर्ष २००९ में असाधारण सफलता का स्वाद चखाअ है । अपने नवीन उत्पादों के प्रदर्शन के साथ हम अपने उपभोक्‍ताओं को एक अभिनव अनुभव प्रदान करने का संदेश प्रेषित करना चाहते हैं । हमारे उत्पादों की श्रृंखला के ये नवीनतम वैरिएंट्‌स हमारी तकनीकी निपुणता के प्रतीक के प्रतीक है तथा नवोन्मेषी, युवा एवं पर्यावरणीय मापदंडों पर खरे उतरने की कंपनी की प्रतिबद्धता को रेखांकित करते हैं । हम इन उत्कृष्ट एवं नवीनतम वैरिएंट्‌स को प्रदर्शित कर बेहद रोमांचित महसूस कर रहे हैं तथा उपभोक्‍ताओं से भी इसी प्रकार के रोमांच और उत्साह की आशा कर रहे हैं । ”
पिछले वर्ष जनवरी में लॉन्च की गयी लीनिया भारतीय ऑटो बाजार में महानतम सफलता का झंडा गाड़ चुकी है । एक वर्ष के अंदर इस क्लासी सेडान की १३,००० से अधिक इकाइयों की बिक्री हो चुकी है तथा इसकी विक्रय संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है । लोकप्रिय मौजूदा मॉडल के साथ अब भारतीय उपभोक्‍ता लीनिया ड्‌यूएलॉजिक ट्रांसमिशन तथा लीनिया टी-जेट भी हासिल कर सकते हैं ।
लीनिया ड्‌यूएलॉजिक ट्रांसमिशन के निर्माण में ट्रांसमिशन सिस्टम का इस्तेमाल किया गया है, जो उपभोक्‍ताओं को ऑटोमेटिक एवं मैन्युअल मोड के बीच सरलता से परिवर्तन करने की सुविधा प्रदान करता है तथा इसमें ऑटोमेटिक और मैन्युअल मोड दोनों के एक साथ प्रयोग का विकल्प भी उपलब्ध है । यह वैरिएंट एक परंपरागत ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन की अपेक्षा लगभग १० प्रतिशत अधिक माइलेज का प्रस्ताव करता है तथा मैन्युअल ट्रांसमिशन में लगभग ३-५ प्रतिशत माइलेज के सुधार की गुंजाइश भी पैदा करता है । दूसरी तरफ लीनिया टी-जेट फि‍एट फिएट स्टैबल के पेट्रोल इंजन का नवीनतम स्वरूप है । यह वैरिएंट मौजूदा मॉडल की तुलना में उच्च शक्‍ति से परिपूर्ण है तथा इसमें ११० पीएस टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजिन विद्यमान है । इस उच्च शक्‍ति से संपन्‍न लीनिया के गुणों में चार चांद लगाते हुये टी-जेट ‘रेड-पर्पल’ रंग में उपलब्ध होगी, जो निश्‍चित रूप से आगंतुकों को रूकने के लिये विवश कर देगी ।
पिछले वर्ष जून में लॉन्च की गयी ग्रैंड पंटो को भी काफी बेहतर प्रतिसाद प्राप्त हुआ है और यह अपने लॉन्च से अब तक १० हजार से अधिक की संख्या में बिक चुकी है । अब ग्रैंड पंटो तीन भिन्‍न प्रकारों- ग्रैंड पंटो नेचुरल पावर, ग्रैंड पंटो स्पोर्ट्‌स तथा ग्रैंड पंटो ट्रेंड्‌स में उपलब्ध होगी ।
ग्रैंड पंटो नेचुरल पावर के साथ फिएट बिना पर्यावरण को छति पहुंचाये एक विशिष्ट एवं शैलीबद्ध वाहन को पेश कर रहा है, फिएट के नवीन ड्‌यूएल फ्यूल वर्जन ग्रैंड पंटो नेचुरल पावर में बाइ-फ्यूल इंजन (पेट्रोल/सीएनजी) मौजूद है, जो न्यूनतम कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन करता है । चूंकि परंपरागत ईधन की अपेक्षा सीएनजी का इस्तेमाल काफी सस्ता तथा पर्यावरण के हित में होता है, इसलिए यह कार सही मायनों में धन क अबचत करने वाली साबित होगी । यह फिएट की उत्तम तकनीकी विशेषता है कि एक उपभोक्‍ता बिना ईधन को पुनः भरवाये पंटो नेचुरल पावर के साथ १००० किलोमीटर से अधिक दूरी तय कर सकेगा । फिएट स्टैबल की यह युंगांतकारी तकनीक बेहतर परफार्मेस के साथ-साथ उपभोक्‍ता की सुरक्षा को भी सुनिश्‍चित करती है । इस कार में बूट स्पेस के साथ कोई समझौत नहीं किया गया है, क्योंकि इसमें सीएनजी सिलेंडर को बूट के नीचे एक खोजपरक पैंकेजिंग के साथ स्थापित किया गया है । वर्तमान समय में फिएट वर्ष २००९ में लगभग २,००,००० कारों की बिक्री के साथ यूरोप की सबसे बड़ी सीएनजी कार विक्रेता कंपनी बन गयी है । इस तकनीक के भारत में लॉन्च से उपभोक्‍ता निश्‍चित रूप से बाइ फ्यूल इंजन से आकर्षित होंगे ।
पंटो नेचुरल पावर शुद्ध पर्यावरण की स्थापना के महत्वपूर्ण सरोकार को पेषित करता है, जबकि ग्रैंड पंटो स्पोर्ट्‌स और ग्रैंड पंटो ट्रेंन्ड्‌ज आधुनिक भारतीय युवाओं के लिये एक दिलकश उपहार है ।
मुख्य रूप से युवा पीढ़ी को लक्षित ग्रैंड पंटो स्पोर्ट्‌स निश्‍चित रूप से उपभोक्‍ताओं के बीच चर्चा का विषय होगी । यह वैरिएंट ग्रैंड पंटो रेंज का सर्वोत्तम मॉडल है, जिसमें ९० एचपी पावर आउटपुट के साथ १.३ मल्टीजेट इंजन विद्यमान है । भारतीय युवाओं के बीच इसे और अधिक आकर्षित करने के लिये इसमें एक सुंदर इलेक्ट्रिक सनरूफ, एक रियर स्प्वायलर, स्पोर्ट्‌स रेड डीकाल्स तथा ड्‌युएल इंटीरियर लेदर सीट की व्यवस्था की गयी है । इन अतिरिक्‍त सुविधाओं से उपभोक्‍ता निश्‍चित रूप से उत्साहित महसूस करेंगे और दुनिया को अपने कदमों के नीचे महसूस करेंगे । ग्रैंड पंटो ट्रेन्ड्‌ज एक सीमित संस्करणों वाला वाहन है, जिसमें शक्‍तिशाली १.२ फायर पेट्रोल इंजिन लगाया गया है । इस कार का एक्टिव प्लस विकल्प स्पोर्टी डीकाल्स के साथ चमकदार एवं विविध वाह्‌य रंगों में उपलब्ध है । इस कार की आंतरिक सज्जा प्रभावशाली वाह्‌य सज्जा की पूरक है और इस समायोजन को उत्कृष्टता तथा सौन्दर्य से पूरित करने के लिये इसमें हाइटेक सीडी/एमपी३/एफएम ऑडियो सिस्टम का ट्रेन्डी मिक्स किया गया है ।
फिएट के सभी नये वाहन निकट भविष्य में उपभोक्‍ताओं के लिये उपलब्ध होंगे । कंपनी अपने नये वाहनों को भारतीय बाजार में उतारने के लिये सही समय का इंतजार कर रही है । इन नये वाहनों से फिएट एक टेक्नोलॉजिकल पावर हाऊस के रूप में स्वयं की स्थिति को और सुदृढ़ बना लेगी, इसके साथ ही कंपनी खोजपरक तकनीकी, युवा एवं पर्यावरण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता भी प्रदर्शित करेगी ।
नये वाहनों का प्रदर्शन फिएट इंडिया की एक वर्ष की मेहनत का नतीजा है । पिछले वर्ष कंपनी ने अपने अग्रणी कारों में से दो द लीनिया एवं ग्रैंड पंटों को भव्य तरीके से लॉन्च किया था । इन कारों के लॉन्च किये जाने के बाद बाजार में फिएट ब्रांड एक अलग मुकाम बना पाने में सफल रहा है, जो उच्च स्तरीय एवं स्टाइलिश है । इसके अतिरिक्‍त देखने में सुंदर तथा उपयोग में आसान इन कारों को न सिर्फ ऑटो विशेषज्ञों का, बल्कि ग्राहकों का भी बेहतर प्रतिसाद प्राप्त हुआ है ।
इन कारों के लॉन्च किये जाने के बाद कंपनी ने फिएट के उपभोक्‍ताओं के लिये ‘फिएट फर्स्ट’- एक समेकित विश्‍व स्तरीय कार्यक्रम लॉन्च किया । ‘फिएट फर्स्ट’ को लॉन्च किये जाने के बाद उपभोक्‍ता कभी भी किसी भी समय सड़क पर वाहन संबंधित समस्याओं के लिये सहायता प्राप्त कर सकते हैं, जिससे उनकी जिन्दगी काफी आसान हो जायेगी । इस कार्यक्रम को लॉन्च करने से उपभोक्‍ता अब सड़कों पर विश्‍व स्तरीय सहायता प्राप्त कर सकेंगे ।
फिएट इंडिया के लिये यह कार्यक्रम एक महत्वपूर्ण उपलब्धि रही है । इस कार्यक्रम के माध्यम से कंपनी को अपने डीलरों के व्यापक नेटवर्क से भी उपभोक्‍ताओं को रू-ब-रू कराने का अवसर प्राप्त होगा । वर्तमान समय में देश के ७७ शहरों में कंपनी के ९९ डीलर हैं जो १०५ स्थानों पर अपनी सेवायें प्रदान कर रहे हैं ।
बीते वर्ष में फिएट इंडिया ने फिएट डीजल ड्राइव्स इंडिया का आयोजन किया । यह एक वृहद आयोजन था, जिसमें यात्रियों ने १६ राज्यों से गुजरते हुये १०,००० किमी की यात्रा पूरी की । ‘फिएट डीजल ड्राइव्स इंडिया’ की शुरूआत २७ अक्टूबर २००९ को राजनगांव संयंत्र से प्रारंभ हुई थी । इस ड्राइव में ऑटो उद्योग की शीर्ष पत्रिकाओं के पत्रकारों के साथ-साथ समाचार पत्र-पत्रिकाओं के पत्रकार, चैनल एवं ऑनलाइन मीडिया के पत्रकार भी शमैल हुये । इस यात्र अके दौरान यात्रियों ने फिएट के ४ मल्टीजेट डीजल प्रस्तावों- द लीनिया, ग्रैंड पंटो, पालियो और द फिएट ५०० में सवारी का आनंद उठाया । इस यात्रा का आयोजन डीजल तकनीक से सुसज्जित फिएट के समृद्ध इतिहास के विषय में जागरूकता फैलाना तथा देशव्यापी स्तर पर फैले कंपनी के डीलरों के नेटवर्क से अवगत कराना था ।
फिएट इंडिया ने वर्ष २००९ में अपने नये उत्पादों से लोगों को रू-ब-रू कराया । आने वाले समय के लिये कंपनी महत्वाकांक्षी योजनाओं पर कार्य कर रही है । भारतीय उपभोक्‍ता अब तैयार हो जायें अत्याधुनिक स्टाइल और तकनीकी के स्वागत के लिये !
फिएट इंडिया ऑटोमोबाइल्स लिमिटेड के विषय में
फिएट इंडिया ऑटोमोबाइल्स लिमिटेड (एफ‍आइए‍एल) फिएट ग्रुप ऑटोमोबाइल्स एस. पी. ए. (फिएट) एवं टाटा मोटर्स लिमिटेड (टाटा) के बीच की एक ५०-५० संयुक्‍त औद्योगिक उपक्रम है, जिसकी मौलिक रूप से २ जनवरी १९९७ में स्थापना की गयी थी । कंपनी ने २७७५ ब्लू एंड ह्‌वाइट कॉलर कर्मचारियों की नियुक्‍ति की है और यह महाराष्ट्र के पुणे जिले के रांजनगांव में स्थित है । संयुक्‍त उपक्रम का निश्‍चयात्मक समझौता ११ अक्टूबर २००७ को हस्ताक्षरित हुआ था । इस कंपनी के बोर्द ऑफ डारेक्टर्स में फिएट एवं टाटा में से ५-५ नामितों को शामिल किया गया ।
रांजनगांव की आधुनिकतम सुविधा, जिसका स्वामित्व एफ‍आइए‍एल के पास है और यह एक संयुक्‍त उपक्रम कंपनी है, में ३००,००० पुर्जों एवं एसेसरीज के अलावा २००.००० कारों तथा ३००,००० इंजनों के उत्पादन की क्षमता है । यहाँ पर वर्तमान समय में पलैयो टाइल १.१, १.६ माडल्स, लीनिया एवं अब ग्रैंड पंटो का उत्पादन हो रहा है । यहां पर फिएट के सफल १.३ लीटर मल्टीजेट डीजल इंजन्स एवं १.२ व १.४ लीटर फायर गैसोलीन इंजन का उत्पादन भी किया जाता है । फिएट कारों के अलावा यहां पर ६५० मिलियन यूरो के वृद्धिकारी निवेश के साथ टाटा पेसेंजर एवं नयी पीढ़ी की कारों क औत्पादन किया जायेगा । यह संयंत्र प्रत्यक्ष तथा परोक्ष रूप से ४००० से अधिक लोगों को रोजगार उपलब्ध करा रहा है ।
फिएट समूह के विषय में ः
१८९९ में स्थापित फिएट विश्‍व के महत्वपूर्ण औद्योगिक समूहों में से एक है । १९० देशों में परिचालन के साथ इस समूह के २०३ संयंत्र, ११८ अनुसंधान केंद्र, ६३३ कंपनियां तथा १९८, ००० कर्मचारी कार्यरत हैं । वैश्‍विक ऑटोमोटिव उद्योग के संस्थापकों में से एक फिएट ने अपनी शुरूआत से ही दो प्रकार की विकास रणनीति का पालन किया है विदेशी बाजारों में घुसपैठ तथा खोजपरकता पर फोकस का प्रमआण इसके उत्पादों की तकनीकी गुणवत्ता तथा आधुनिकतम औद्योगिक एवं सांगठनिक प्रणाली की स्वीकृति में दिखाई देता है ।
इस समूह का व्यवसाय अनेक परिचालन क्षेत्रों के माध्यम से संचालित होता हैः फिएट ग्रुप ऑटोमोबाइल्स (फिएट लैंसिया, अल्फा रोमियो एवं अबर्थ ब्रांड्‌स), मासेराती व फेरारी (लक्जरी स्पोर्ट्‌स कार
) सीएनएच (एग्रिकल्चरल एंड कांस्ट्रक्शन इक्विपमेंट), इवेको (ट्रक्स एंड कामर्शियल व्हीकल्स), फिएट पावरट्रेन टेक्नोलॉजीज (इंजन एंड ट्रांसैशन्स), मैग्नैटी मरेली (ऑटोमोटिव कंपोनेंट्‌स), टेक्सिड (इंजन ब्लाक्स, सिलेंडर हेड्‌स एवं अन्य कंपोनेंट्‌स) कोमाऊ (ऑटोमेटेड प्रोडक्शन सिस्टम्स) एवं इटेडी (पब्लिशिंग एंड कम्युनिकेशंस)
टाटा मोटर्स लिमिटेड के विषय में ः
इस संयुक्‍त उपक्रम का अन्य पार्टनर टाटा मोटर्स लिमिटेड भारत की विशालतम आटोमोबाइल कंपनी है, वर्ष २००७-०८ में इसका राजस्व ८.८ बिलियन अमरीकी डॉलर था । अनुषंगिक एवं सहयोगी कंपनी के माध्यम से टाटा मोटर्स यूके, दक्षिण कोरिया, थाइलैंड एवं स्पेन में अपना परिचालन करती है । इसमें जगुआर लैंड रोवर शामिल है, इसके व्यवसाय में दो प्रसिद्ध ब्रांण्ड्‌स सम्मिलित हैं । इसने फिएट के साथ एक रणनीतिक गठबंधन भी कर रखा है । भारत में ४ मिलियन से अधिक टाटा वाहनों के परिचालन के साथ टाटा मोटर्स व्यावसायिक वाहनों के क्षेत्र में मार्केट लीडर है तथा यात्री वाहनों की श्रेणी में शीर्ष तीन निर्माताओं में से एक है । यह विश्‍व में ट्रकों का चौथा विशालतम तथा बसों का दूसरा विशालतम निर्माता है । टाटा की कारों, बसों एवं ट्रकों का यूरोप, अफ्रीका, मध्य पूर्व, दक्षिण एशिया, दक्षिण पूर्व एशिया तथा दक्षिणी अमेरिका में विपणन किया जाता है ।

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…