Skip to main content

वोल्वो ट्र्क्स इंडिया ने उतारा उच्च तकनीक वाली शक्‍तिशाली ट्रक

विश्‍व में हैवी ड्‌यूटी ट्रकों के अग्रणी उत्पादक एवं सम्पूर्ण कमर्शियल समाधान देने वाली कम्पनी वोल्वो ट्रक्स ने भारतीय सड़कों के लिए अपना सबसे शक्‍तिशाली और टैक्नोलॉजी की दृष्टि से बेहद उन्‍नत ट्रक एफएच ५२० पावरट्रॉनिक भारत में अब तक का सबसे ताकतवर और टैक्नोलॉजी के लिहाज से सबसे उन्‍नत ट्रक है और यह बेहद भारी परिवहन जरूरतों को पूरा करत है ।
वोल्वो एफएच ५२० पावरट्रॉनिक में वोल्वो पीटी ६०६ गियर बॉक्स है जिसमें पूरी तरह ऑटोमेटिक एवं बिल्ट इन हाइड्रॉलिक टॉर्क कन्वर्टर है । इससे गियर लीवर बटन के जरिये मैनुअल गियर परिवर्तन की सम्भावना सामने आयी है । पीटी ६०६ भारी परिवहन के लिए उपयोगी २६०० एनएम का ईजन टॉर्क देता है । इसमें वोल्वो ट्र्क्स इंडिया ने उतारा उच्च तकनीक वाली शक्‍तिशाली ट्रक गियर आसानी से बदले जा सकते हैं और गियर बदलते समय शक्‍ति और डिलीवरी में कोई परिवर्तन नहीं आता । इससे कठिन परिस्थिति में भी सुरक्षित स्टार्ट मिलती है ।
पीटी ६०६ को ईजन टॉर्क से मेल खाते हुए डिजाइन किया गया है और इससे शानदार पुलिंग पावर और चढ़ाई की क्षमता मिलती है । इसमें बिना लदी हुई हालत में ५९ किलोमीटर प्रति घंटा तथा लदी हुई हालत में ३८ किलोमीटर प्रति घंटा की अधिकतम गियर स्पीड मिलती है । इस तरह एफएच ५२० पावरट्रॉनिक तकनीकी रूप से २०० टन जीसीडब्ल्यू (ग्रॉस कम्बिनेशन वेट) वजन निजी सड़कों पर और भूतल परिवहन मंत्रालय की स्वीकृति से सावर्जनिक सड़कों पर ले जाने में सक्षम है ।
इस ट्रक से प्रीकॉस्ट स्ट्रक्चर, रिएक्टर बॉडी, उ़च्च क्षमता के टरबाइन ट्रांसफॉर्मर तथा विंडमिल टरबाइनें ले जायी जा सकती हैं ।
गौरतलब है कि इस साल के शुरू में वोल्वो ग्रुप ने दुनिया का सबसे शक्‍तिशाली ट्रक एफएच १६ लॉन्च किया गया था । यूरोपीय बाजार के लिए उतारे गए इस ट्रक की क्षमता ७०० एचपी और ३१५० एनएम की टॉर्क थी ।
एफएच ५२० पावरट्रॉनिक क आनावरण करते हुए वोल्वो ट्रक्स इंडिया के अध्यक्ष श्री सोमनाथ भट्‌टाचार्य ने कहा, “पिछले एक दशक से वोल्वो ट्रक्स भारत में हैवी-ड्‌यूटी ट्रकिंग उद्योग का चेहरा बदलने लगे है और वे इस क्षेत्र में अपनी भूमिका को लेकर काफी सतर्क है । पिछले दस सालों में हम टैक्नोलॉजी, क्षमता और सुरक्षा तथ औत्सर्जन मानकों को लेकर भारतीय ट्रकिंग उद्योग को आधुनिक बनाने में जुटे हैं । आज भारत में प्रीमियम यूरोपीय हैवी-ड्‌यूटी बाजार में वोल्वो ट्रक्स के पास ७०% हिस्सेदारी है और एफएच ५२० पावरट्रॉनिक के लॉन्च के साथ ही हमने हैवी कॉलेज वर्ग में विस्तार किया है । उल्लेखनीय है कि इस ट्रक में ऐसी कई अभूतपूर्व खूबियों को जोड़ा गया है जो बेहद भारी और परिवहन की ऊंची मांगों की कसौटियों पर खरा उतरता है । ”
“वोल्वो ट्रक्स हमारे ग्राहकों के लिए स्वामित्व संबंधी कीमतों में सुधार लाने पर मुख्य रूप से ध्यान जमाते हैं और ये लगातार ग्राहकों तथा उद्योग की ओर से उच्च प्रदर्शन की अपेक्षाओं पर खरा उतरने की चुनौती से जूझते हैं । इस प्रक्रिया में ग्राहकों को मिलता है अधिक लाभ और साथ ही पर्यावरण पर भी कम से कम प्रभाव पड़ता है । साथ ही, अपने बुनियादी मूल्यों पर टिके रहते हुए हम अपने उत्पादों को गुणवत्ता मानकों, सर्वोच्च सुरक्षा तथा न्यूनतम उत्सर्जन स्तरों के हिसाब से अपने वर्ग में सर्वश्रेष्ठ बनाने के लिए प्रयासरत रहते हैं । ”
“फिलहाल भारतीय सड़कों पर करीब ६००० वोल्वो ट्रक दौड़ रहे हैं । भारत में २००९ में वोल्वो ट्रकों की घरेलू बिक्री के मोर्चे पर हमें २०१० में २०-२५% वृद्धि की उम्मीद है । देशभर में विश्‍वस्तरीय आफ्टर-सेल्स नेटवर्क में ९० से ज्यादा सपोर्ट प्वाइंट्‌स, बेहद प्रतिस्पर्धी प्रदर्शन स्तर सुनिश्‍चित करने वाले सॉफ्ट उत्पादों की रेंज और ९०% से ज्यादा ऑफ-द-शैल्फ उत्पादों की उपलब्धता, समर्पित 24x7 ग्राहकोन्मुख सेवा तंत्र की बदौलत वोल्वो ट्रक्स एप्लीकेशन की चुनौतीपूर्ण मांगों को पूरा करने के साथ साथ बेहद भरोसेमंद और कुशल तथा अपनी श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ हैं । ”
वोल्वो ट्रक्स इंडिया के बारे में
वोल्वो ट्रक्स इंडिया दर‍असल, वीई कमर्शियल व्हीकल्स लिमिटेड (वोल्वो ग्रुप तथा आयशर मोटर्स का संयुक्‍त उपक्रम) का व्यावसायिक उपक्रम है । इसकी उत्पाद रेंज में एफएम रेंज में एफएम रेंज के टिपर्स और विशेष एप्लीकेशनों जैसे फायर टेंडर्स, स्काई लिफ्ट, बूम पंप्स, कंकीट मिक्स आदि के लिए रिजिड ट्रक्स, और अलग अलग कंफीग्योरेशन वाले एफएम/एफएच रेंज के ट्रैक्टर्स शामिल हैं । वोल्वो एफएम ट्रैक्टर सीरीज का इस्तेमाल कार्गो, पट्रोलियम तथा रसायन, बल्क कार्गो, निर्माण क्षेत्रों और यहां तक कि विशेष कार्गो क्षेत्रों में किया जाता है । एफएच सीरीज का इस्तेमाल लॉन्ग-हॉलेज ओडीसी (ओवर-डाइमेंशन कार्गो) परिवहन प्रयोजनों के लिए जाता है ।

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन …