Skip to main content

पूर्वी दिल्ली के वाहन व्यवसाय पर एक नजर

वाहन व्यवसाय से जुड़े लोगों की जुबानी, ग्राहकों के हित में एक खोज-पड़ताल

पूर्वी दिल्ली में प्रतिष्ठित प्राईम होडा कार शोरूम के प्रबंधक शाहजी जॉर्ज के अनुसार “जापानी कंपनी इतोबो कॉरपोरेशन की सहभागी कंपनी प्राईम होंडा की मुख्य शाखा वैशाली में डाबर के पीछे है तथा दूसरी पटपड़गंज में है । वे बताते हैं कि होंडा कार में सबसे लक्जरी सेगमेंट कहलाता है । पहले हुंडई के उत्पाद ज्यादा बिकते थे परन्तु अब स्थिति बदल चुकी है । पूर्वी दिल्ली के पॉश कॉलनी आई.पी.एक्स., मयूर विहार इलाके में सबसे ज्यादा बिजनेसमैन और एमएनसी में काम करने वाले लोगों की पसंद होंडा सिटी मॉडल है । गाड़ी खरीदने में ग्राहकों का मुख्य रूप से ध्यान हमारी कंपनी के उत्पादों के प्रति ज्यादा इसलिए है क्योंकि इसका फ्यूल एफिसिएंसी १६+ का ऐवरेज देता है । इसका रीसेल वैल्यू अच्छा है । मेंटनेंस कॉस्ट बहुत कम है । वे ग्राहकों से गाड़ी खरीदने के पूर्व “टोटल कॉस्ट ऑफ ऑनरशिप” कितने साल गाड़ी रखेंगे आदि प्रश्न पूछने के बाद अपनी सलाह देते हैं ।
ड्रीजल गाड़ी में मेंटनेस का खर्चा पेट्रोल गाड़ी के बनिस्पत ज्यादा होता है । पेट्रोल गाड़ी का पिक‍अप ज्यादा है । होंडा जैज सबसे छोटी गाड़ी है । जिसकी शोरूम प्राईस ७ लाख ९८ हजार रूपए है । वे कहते हैं कि होंडा के उत्पाद सुरक्षा पर आधारित है । हमें ग्राहकों के रेफरेंस का काफी लाभ मिलता है । हमलोग कॉरपोरेट कल्चर के विकास हेतु प्रतिबद्ध है । इस हेतु हमें सीधे कंपनी से दिशानिर्देश मिलता है । हमारे यहाँ फरीदाबाद, गुड़गॉव से भी लोग आते हैं क्योंकि उन्हें हमारे उपर सौ फीसदी भरोसा है ।
एक ही छत के नीचे सभी गाड़ियों की रिपेयरिंग हेतु “कारनेशन” के कंसेप्ट के बारे में उनका विचार है कि ग्राहक के दृष्टिकोण से यह अच्छा है । मगर होंडा के तकनीशियन की विशेषता की संभावना हम होने से यह पूर्णरूपेण उपयुक्‍त नहीं । यह विदेशी कंसेप्ट है जो भारत में नया है । इसे पनपने में काफी वक्‍त लगेगा । आर्थिक मंदी का असर खत्म हो चुका है । हमारी गाड़ियों की बिक्री में सितंबर २००९ से ही उत्तरोत्तर वृद्धि हो रही है । नई गाड़ियाँ बाजार में आ रही है । छोटी गाड़ियों के प्रति ग्राहकों का रूझान ज्यादा है । यहाँ ४-६ लाख तक की गाड़ियों के खरीददार ज्यादा हैं । इस बार का ऑटो एक्सपो दूसरा सबसे बड़ा ऑटो शो रहा । इसके माध्यम से लोगों को ज्यादा से ज्यादा ज्ञान मिला तथा व्यवसाय में वृद्धि हुई । नैनो के आइडिया को देखकर अन्य कंपनियों में प्रतिस्पर्धा के भावना जगी । सर्वप्रथम हम ग्राहक बनकर सोचते हैं । हम ग्राहकों को गाड़ियों के फीचर्स लाभ और उदाहरण के माध्यम से संतुष्ट करते हैं । “इकॉनोमिक टाईम्स, टाईम्स ऑफ इंडिया का बिजनेस पेज, ऑटो कार पत्रिका पढ़ने वाले शाहजी जॉर्ज ऑटो पत्रिका से अपेक्षा रखते हैं कि नई-नई चीजों की जानकारियाँ तकनीक, कीमत, प्रतिस्पर्धा और छूट, एक ही जगह सभी कुछ मिल जाए । ” ग्राहकों से दोस्ताना संबंध एवं कुशल व्यवहार का फायदा आगे आनेवाले समय में अवश्य मिलता है । थ्योरी जरूरी है पर एक्सपेरियंस बेस्ट है । दोनों में संतुलन परमावश्यक है ।
दिल्ली के अलग-अलग क्षेत्रों के ग्राहकों की अलग-अलग पसंद
ऑटो नीड्‌स, पआंडव नगर के प्रबंधक सुमित पॉल हीरो होंडा मोटरसाईकिल का अधिकृत केन्द्र है । वे कहते हैं कि उनका सर्विस सेंटर पटपड़गंज इंडस्ट्रियल एरिया में है, यहाँ केवल बिक्री होती है । दिल्ली में हीरो होंडा नंबर वन है । उसके बाद ही बजाज का नाम आता है । इनके अनुसार दिल्ली के अलग-अलग पसंद है । मध्य दिल्ली में हेवी मॉडल यथा करिज्मा, सीवीजी, हंक की माँग है । पूर्वी दिल्ली के ग्राहक को ये दो तरह से वगीकृत करते हैं- इंट्री सेगमेंट और डिलक्स सेगमेंट कस्टमर क्लास जो ४०-५० हजार के बाईक खरीदना ज्यादा पसंद करते हैं । ग्राहकों की जिज्ञासा ऐवरेज, रखरखाव खर्च तथा कीमत को लेकर होत अहै । हीरो होंडा का “पेशन प्रो “मॉडल ज्यादा लोकप्रिय है । बिक्री हमारी प्राथमिकता है । ग्राहक की जो जरूरत है उसे समझकर उसे सलाह देना ही हमारा मुख्य मकसद है । अच्छी सेवा तथा पारिवारिक वातावरण के बदौलत पिछले १५ वर्ष से हम बाजार में अग्रणी है । हमारे बाइकों के मॉडल काफी बदलते रहते हैं । हमारे उत्पाद ऐसे हैं जिसपर ऑख मूँदकर विश्‍वास किया जा सकता है । अन्य कंपनियों में लोकल पार्ट्‌स इस्तेमाल होते हैं पर हमारे कंपनी के बाइकों में अपने ब्रांड के जेनविन पार्ट्‌स द्वारा ही मेंटनेंस होता है । इसलिए हीरो होंडा की लाईफ अन्य के बनिस्पत ज्यादा है । फिल्मस्टार रितिक रोशन रोशन के ब्रांड एम्बेसडर होने का भी हमें लाभ मिला है ।
पूर्वी दिल्ली के ग्राहकों की मानसिकता और पसंद समझने हेतु हिंदी परमावश्यक है । इस इलाके में हिंदी प्रभावी होने के कारण ही हम पर्चे, पोस्टर तथा विज्ञापन हिंदी में ही देते हैं ।

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन …