Skip to main content

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन की बातें पढ़कर, सुनकर, और नकली नोटों की बातें अखबारों में पढ़कर और टी.वी. में देख सुनकर, सरकारों की, अर्थशास्त्रियों की चिंता देख सुनकर हमें भी चिंता सताने लगी, लेकिन हमारे हाथ में तो कुछ है नहीं जो कुछ कर सकें । बस कुछ बुद्धिजीवियों के बीच बैठकर चाय-पानी या खाने के समय लोगों से चर्चा कर ली । अपनी बात कह दी और दूसरे की सुन ली और हो ग‌ई अपने कर्तव्य की इतिश्री, लेकिन नहीं यार! अपने में देश-भक्‍ति का कुछ बडा़ ही कीड़ा है, सो लग ग‌ए चिंता में । भले सरकार को हो या ना हो, देशभक्‍त को जरूर चिंता करनी चाहि‌ए और वो भी जरूरत से ज़्यादा । भले अर्थशास्त्री बेफ़िकर हो ग‌ए हों! लेकिन नहीं, अपन को तो देश की चिंता है, काले धन की भी और नकली नोटों की भी, लेकिन किया तो किया क्या जा‌ए. दिन रात इसी चिंता में रहते । चिंता में रहते रहते रात में स्वप्न भी इसी विषय पर आने लगे । कल तो हद ही हो ग‌ई, एक ऐसा स्वप्न आया कि क्या बता‌ऊँ! पूरे विश्व से कालेधन और नकली नोटों की समस्या जैसे जड़ से ही खत्म हो ग‌ई और साथ में भ्रष्टाचार भी समाप्त । आप आश्चर्य करेंगे ऐसा कैसे? आ‌इये विस्तार से बताता हूँ क्या स्वप्न देखा मैने -
मैने देखा कि विश्व की सभी सरकारें इस विषय पर एकमत हो ग‌ईं हैं और सबने मिलकर एक बड़ा महत्वपूर्ण निर्णय लिया है और निर्णय यह कि सभी सरकारें ’करेंसी’ को - सभी छोटे, बड़े नोटों को, सभी पैसों को पूरी तरह से अपने सभी देशवासियों / नागरिकों से वापिस लेकर पूरी तरह से नष्ट कर देंगी और किसी प्रकार के को‌ई नोट या करेंसी छापने की भी बिलकुल जरूरत ही नही है, जिसने जितनी भी रकम सरकार को सौंपी है उसके बदले - एक ऐसा सरकारी मनी कार्ड उनको दिया जायेगा जिसमें उनकी रकम अंकित कर दी जायेगी । सभी नागरिकों को इस मनी कार्ड के साथ साथ एक ऐसा ’डिस्प्ले’ भी दिया जायेगा जिसमें को‌ई भी जब चाहे अपनी उपलब्ध रकम (धनराशि) देख सकता है एवं अपनी रकम का जितना हिस्सा जिसको चाहे ट्रांसफर कर सकता है । भविष्य में सभी नागरिकों का भले वह व्यवसायी हो, नौकर हो, कर्मचारी हो, अधिकारी हो, मजदूर हो, सर्विस करता हो, बिल्डर हो, कांट्रैक्टर हो, कारीगर हो, सब्जी बेचने वाल हो, माली हो, धोबी हो, दुकानदार हो, या जो कुछ भी करता हो, या भले ही बेरोजगार हो, सभी प्रकार का लेन देन उस एक कार्ड के द्वारा ही होगा । पैसों का, नोटों का लेन देन बिलकुल बंद! नोट बाजार में हैं ही नहीं! बस सबके पास एक सरकारी मनी कार्ड!!
भारत सरकार जो अमूमन चुप्पी साध लेती है या जो क‌ई काम भगवान के भरोसे छोड़ देती है या जो सबसे बाद में किसी भी चीज को, नियम को या कानून को कार्यान्वित करती है, लेकिन, इस मामले में तो भारत सरकार ने इतनी मुस्तैदी दिखा‌ई कि पूछिये मत! पता नहीं कि काले धन से सरकार खूब ज्यादा ही परेशान थी, या नकली नोटों के भयंकर दैत्याकार खौफ से या फिर उन राजनीतिज्ञों से जिन्होंने स्विस बैंकों में अरबों करोड़ रुपये काले धन के रूप में जमा कर रखे हैं । खैर बात जो भी हो, भारत सरकार ने तुरंत आनन फानन में कैबिनेट की मीटिंग की! निर्णय लिया और संसद में पेश कर दिया! और पास भी करा लिया, कानून बना दिया, निलेकणी को बुलाया और निर्देश किया कि जो पहचान पत्र आप देश के सभी नागरिकों को बनाकर देने वाले हो - जिसमें व्यक्‍तिगत पहचान होगी, घर का, आफिस का पता होगा, फोटो होगी, बर्थ डेट, ब्लडग्रुप एवं अन्य सभी जरूरी जानकारी होगी उसी में यह सरकारी मनी कार्ड भी हो । अब यह नागरिकों के लिये सरकारी पहचान पत्र ही नहीं बल्कि ’सरकारी पहचान पत्र कम मनी कार्ड’ होना चाहिये । सभी की धनराशि सिर्फ अंकों में (या रुपयों में) दिखा‌ई जायेगी और देश भर में सभी ट्रांजैक्शन और लेन देन - चाहे वह एक रुपये का हो या करोड़ों का! प्रत्येक नागरिक द्वारा इसी के द्वारा किया जायेगा । हर एक नागरिक को इस कार्ड के साथ साथ एक डिस्प्ले भी दिया जायेगा, जिसमें वह जब चाहे अपनी जमा धन राशि देख सकता है और इसके द्वारा जमा धनराशि में से जिसके नाम पर, जब चाहे, जितनी भी चाहे धनराशि ट्रांसफर कर सकता है । निलेकणी जी तो अपनी टीम के साथ पहले ही तैयार बैठे थे, यह एजेंडा भी उसमें जोड़ दिया गया । अगले तीन वर्षों में यह प्रोजेक्ट पूरी तरह से तैयार हो गया । सरकार ने नोटिस निकाल दिये, सभी अखबारों में, टी वी चैनलों में, हर जगह लोग अपनी सारी धनराशि/ कैश अपने बैंक अका‌उंट में जमा कर दें - भले ही देश भर में आपके कितने ही अका‌उंट हों सभी की धनराशि जोड़कर उस सरकारी क्रेडिट कार्ड में इंगित कर दी जायेगी । तीन महीनों के अंदर देश भर में यह व्यवस्था लागू हो ग‌ई । सभी को ’सरकारी पहचान पत्र कम मनी कार्ड’ दे दिये गये ।
सुबह धोबी मेरे पास आया और मैने क्रेडिट कार्ड से डिस्प्ले में डालकर दस रुपये उसके नाम पर ट्रांसफर कर दिये । थोड़ी देर में दूधवाला आया मैने अपने कार्ड से उसके कार्ड में 24 रुपये ट्रांसफर कर दिये । मेरी पत्‍नी हा‌उसवा‌इफ (ग्रहणी) हैं, उसने कहा मार्केट जाना है कुछ पैसे दो! मैने अपने कार्ड से उसके कार्ड में 2 हजार रुपये ट्रांसफर कर दिये । मार्केट जाकर उसने सब्जी खरीदी और सब्जी वाले के कार्ड में 240 रुपये ट्रांसफर कर दिये । कुछ मिठा‌इयां हलवा‌ई के यहां से खरीदीं और 430 रुपये उस दुकान वाले के कार्ड में ट्रांसफर कर दिये । मार्केट में उसने कुछ कपड़े बच्चों के लिये खरीदे और 615 रुपये उसने दुकान के कार्ड में ट्रांसफर कर दिये । ’किराने’ की दुकान से उसने कुछ राशन खरीदा और 315 रुपये उसने उस राशन वाली दुकान के कार्ड में ट्रांसफर कर दिये । कहीं को‌ई कैश / नकदी का लेन देन नही हु‌आ, जरूरत ही नही पड़ी । कैश में लेने-देन हो ही नहीं सकता था, अब किसी के हाथ में को‌ई कैश, रुपया, नोट या पैसा हो, तब ना! सब तो सरकार ने लेकर नष्ट कर दिये । करेंसी की प्रिंटिंग बिलकुल बंद जो कर दी । मेरा दस वर्ष का बेटा मेरे पास आया और कुछ पैसे मांगे मैने अपने कार्ड से 100 रुपये उसके कार्ड में ट्रांसफर कर दिये ।
महीने के अंत में मेरी गाड़ी धोने वाला आया, बर्तन मांजने वाली बा‌ई आयी, घर का काम करने वाली बा‌ई आयी, सबके कार्ड में मैने अपने कार्ड से जरूरत के हिसाब से धनराशि ट्रांसफर कर दी । महीने की शुरु‌आत होते ही मेरे कार्ड में अपने बैंक में दिये निर्देश के अनुसार मेरी तनख्वाह (सेलरी) में से आवश्यक धनराशि मेरे कार्ड में ट्रांसफर हो ग‌ई । बैंक में जाकर पैसे निकलवाने की जरुरत ही नही पड़ी । सारे कार्य यह पहचान पत्र कम मनी कार्ड कर रहा है, और आप चाहें तो भी कैश आप निकलवा ही नहीं सकते, धनराशि को सिर्फ ट्रांसफर करवा सकते हैं क्योंकि बैंक वालों के पास भी रुपये, नोट हैं ही नहीं । उनके पास भी केवल अंकों में रुपये हैं । आप जितने चाहें फिक्स्ड डिपोजिट करवायें जितने चाहें कार्ड में ट्रांसफर करवायें । हर व्यक्‍ति को एक ही कार्ड । कार्ड या डिस्प्ले में को‌ई तकनीकी खराबी आ‌ई तो बस एक फोन किया और आपको दूसरा कार्ड या डिस्प्ले मुफ्त में दे दिया जायेया ।
मुझे घर खरीदना था, बिल्डर से देख कर घर पसंद किया 20 लाख का था । मेरे पास बैंक में जमा धनराशि 5 लाख थी 15 लाख बैंक से लोन लेना है । सारे काम बस उसी पुराने तरीके से हुये, पेपर वगैरह तैयार हुये और बैंक से लोन मिल गया । बिल्डर के कार्ड में 15 लाख बैंक से और मेरे कार्ड/अकांउट से 5 लाख ट्रांसफर हो गये । स्टैंप ड्यूटी, रजिस्ट्रेशन और अन्य ट्रांसफर चार्जेस सभी कुछ कार्ड से कार्ड के द्वारा ट्रांसफर हु‌आ । कहीं को‌ई ब्लैक मनी न उपजी, न बिखरी, न फैली । अरे यह क्या मुझे तो को‌ई अंडर टेबल, या चाय पानी के लिये भी कहीं कुछ पैसा देना नही पड़ा । न ही किसी ने कुछ मांगा । अरे को‌ई मांगे तो भला कैसे? कैश तो है नही किसी के पास । कार्ड में ट्रांसफर करवायेगा तो मरेगा । संभव ही नहीं है । क्या बात है! लगता है भ्रष्टाचार भी खत्म होने को है ।
प्रा‌इवेट एवं सरकारी कंपनियों एवं उद्यमों को भी इसी प्रकार कार्ड जारी किये गये । जो काम जैसा चल रहा था, वैसा ही चलने दिया गया । बस सभी ट्रांजैक्शन (पैसे का लेन देन) एक कार्ड से दूसरे कार्ड पर होने लगा । शाम को आफिस से बाहर आया तो देखा कांट्रैक्टर मजदूरों को उनकी दिहाड़ी का पैसा उनके कार्ड में ट्रांसफर कर रहा था और बिना कम किये या गलती के । अरे एक गलती भी भारी पड़ सकती है ।
मुझे विदेश जाना था, पासपोर्ट वीजा से लेकर धन परिवर्तन (मनी एक्स्चेंज) सभी कुछ कार्ड में धनराशि के ट्रांसफर द्वारा ही किया गया । विदेश जाने पर वहां की जितनी करेंसी मुझे चाहिये थी अपने कार्ड पर ही मुझे परिवर्तित कर दी ग‌ई । वहां पर भी हर जगह बस कार्ड पर ही ट्रांसफर हो रहा था । कहीं को‌ई परेशानी नही हु‌ई ।
किसानों को उनके उत्पाद की पूरी धनराशि बिना किसी कटौती के मिलनी शुरू हो ग‌ई । किसान भा‌ई बहुत खुश हुये । सरकारी आफिसों से भी लोग बहुत खुश हो गये, कहीं को‌ई अपना हिस्सा ही नही मांग रहा । मांगे तो कार्ड में ट्रांसफर करवाना पड़े और करवाये तो तुरंत रिकार्ड में आ जाये, पकड़ा जाये, संभव ही नहीं है ।
सारे काले धन की समस्या! सारे नकली नोटों की समस्या, सब की सब एक झटके में तो ख्त्म हु‌ई हीं । भ्रष्टाचार का भी नामों निशान न रहा । मैने चैन की सांस ली । चलो इस देश-भक्‍त की चिंता तो खत्म हु‌ई । रुपयों से संबंधित सारी समस्या‌एं किस तरह एक झटके में हमेशा के लिये समाप्त हो गयीं । इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की सरदर्दी तो बिलकुल ही खत्म हो ग‌ई । सारे ट्रांजैक्शन वह बहुत ही आसानी से ट्रेस कर पा रहे थे । यहां तक कि उनके अपने लोग ग‌ऊ बन गये थे । पुलिस की हजारों हजार दिक्कतें एक झटके में सुलझ ग‌ई थीं । हर केस को अब वह आसानी से सुलझा पा रहे थे । हर ट्रांजैक्शन अब उनकी नजर में था । अपराधियों को पकड़ना बहुत ही सरल हो गया था । अपराध अपने आप कम से कम होते गये और न के बराबर रह गये । पुलिस के अपने लोग किसी प्रकार की गलत ट्रांजैक्शन कर ही नहीं सकते थे, कर ही नहीं पा रहे थे । सबके सब दूध के धुले हो गये, या कहिये होना पड़ा । आदमी खुद साफ हो तो उसे लगता है सारी दुनिया साफ होनी चाहिये । जब वह खुद कुछ गलत नही कर सकते थे, तो साफ हो गये, जब खुद साफ हो गये तो समाज को साफ करने लग गये । बहुत जल्द परिणाम सामने थे । ट्रैफिक पुलिस वाले अब अपनी जेबें गरम करने के बजाय सिर्फ कानून या सरकार की जेब ही गरम कर सकते थे ।
देश में भ्रष्टाचार पूरी तरह से बंद हो चुका था । न्याय व्यवस्था जोकि पूरी तरह से चरमरा ग‌ई थी! पुनर्जीवित हो उठी । सभी अधिकारी, पुलिस, नेता, जज, सरकारी कर्मचारी, सबके अकांउट्स क्रिस्टल क्लियर हो गये । रह ग‌ई तो बस केवल सुशासन व्यवस्था । यह तो सच ही अपने आप में राम राज्य हो गया । गांधी का सपना सच हो गया ।
मैं बहुत खुश हु‌आ । हंसते हंसते नींद खुली! अखबार में नोटिस ढ़ूंढ़ने लगा, कहीं नहीं मिला, फिर याद आया कि अरे यह तो तीन साल बाद होने वाला है । तो आ‌इये, हम सभी मिल कर तीन साल बाद भारत सरकार द्वारा आने वाले इस नोटिस का इंतजार करें ।

कवि कुलवंत सिंह
मुंब‌ई

Comments

  1. sell your k i d n e y for money, we are looking for k i d n e y d0n0rs with the sum of $500,000.00 USD,apply now via email: (hospitalcarecenter@gmail.com)

    ReplyDelete
  2. सम्मानित साथियों को यथोचित प्यार भरा नमस्कार ! प्रणाम !! व चरण स्पर्श!! बंधुओं मैं बताना चाहता हूँ कि हमारे देश के परम सम्मानित प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी भले ही ईमानदारी से कार्य करने की सलाह देते रहे हों पर क्या इसका असर किसी निचले स्तर से ऊपर तक बैठे चाहे शाशन व प्रशासन के अधिकारी / कर्मचारी हों या ग्राम प्रधान से लेकर ब्लॉक प्रमुख, जिला पंचायत अध्यक्ष, विधायक, सांसद इनके कार्य करने में कुछ सुधार हुआ नही सब भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने में लगे है एक ग्राम प्रधान सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को कैसे चूना लगाता है सब जानते है ग्रामीण क्षेत्रों में जब रहने के लिए सरकार आवास योजना का लाभ देती है तो ये जालिम ग्राम प्रधान उसमे भी अपना हक जमाते है और भोली भाली जनता को बेवकूफ बनाने में सफल होते है अपने चमचो के द्वारा और कहते है कि ये आवास हैम आपको दे रहे है इसमें मेरा हिस्सा मुझको वापस करो नही तो तुम्हारा आवास नही बन पाएगा ऐ सब पहले ही तय कर लेते है और प्रति लाभार्थी से 20 से 25 30 हजार तक उनसे ठग लेते है जिससे मानक विहीन कम एरिया में आवास का निर्माण होता हो रहा है स्वच्छ भारत मिशन योजनान्तर्गत बनाये जा रहे शौचालय के निर्माण का ठेके पर काम कराते है जिसमे भी प्रति शौचालय 3 से 4 हजार रुपए तक ठेकेदार से वापसी ले रहे है किसी भी योजना का लाभ बिना सुविधा शुल्क चुकाए नही मिल पा रहा है और सरकार को गलत रिपोर्टिंग करते हैं अधिकारी कर्मचारी जिनका हिस्सा भी तय होता है करोङो अरबों रुपया तो इनके कमीशन (खुद की जेबों ) में सरकार का चला जाता है बचे खुचे में नाम मात्र का काम भी कराया तो उसमे भी अनियमितता परिलक्षित होती है और अगर कोई शिकायत भी करता है तो बिना किसी जाँच के ऑफिस में ही बैठकर उस शिकायत का निस्तारण कर देते है इसलिये गाँव का गरीब आदमी बेचारा दुबारा शिकायत करने की हिम्मत भी नही जुटा पाता है और इनका काम उसी तरीके से चलता रहता है एक ग्राम प्रधान जिसको जनता विकास के लिए चुनती है और बड़ी उससे लोगों की आशाएं जुड़ी होती है कि मेरे क्षेत्र का शायद अब विकाश होगा हर पाँँच वर्ष बाद यही सपना उनका अधूरा ही रह जाता है क्योंकि हर पंचवर्षीय की भांति फिर बेचारे वो अपने आपको छला सा महसूस करते है और उनका सपना अधूरा ही राह जाता है मैं पूछना चाहता हूँ सरकार से की एक ग्राम प्रधान कैसे पाँच सालो में अपनी आय से अधिक संपत्ति बना लेता है एक पंचायत सेक्रेटरी, लेखपाल कैसे चंद दिनों में अरब पति बन जाता है और एक अवर अभियंता कैसे अरबों का मालिक बन जाता है उसके परिवार वालों के नाम कैसे करोङो की संपत्ति हो जाती है महोदय आप तक शायद सच्चाई न पहुंच पा रही हो जिसके कारण आज तक आप द्वारा कोई इनके खिलाफ सख़्त कानून की कार्यवाही नही हो रही है और बेचारा गरीब लूटा जा रहा है बहुत दर्द होता है जब कोई सरकारी धनराशि को बर्बाद करता है दिल तो करता है की ऐसे भ्रष्ट नेताओं और कर्मचारियों को एक लाइन में खड़ा करके गोली मार दूँ पर कानून मुझको ऐसी इजाजत नहीं देता वरना जब ऐसे 10 5 केस हो जाएंगे साले सब सुधर जाएँगे बहुत व्यथित हूँ ऐ सब देख कर क्योंकि कही पर कोई सुनवाई नहीं हो पा रही है सब भ्रष्टाचार में संलिप्त है नीचे से लेकर ऊपर तक सब के सब कोई भी ईमानदार छवि वाला कर्मचारी नजर नही आ रहा है जो इन कुत्तों पर कार्यवाही करें मैं क्या करूँ अकेला कोई भी मेरा साथ नही देता वर्ना सबको नंगा कर दूं रंगे हाथ घूस लेते पकड़ा दूँ पर ये सब बिना किसी ईमानदार व्यक्ति के सहयोग के सम्भव नहीं है।अंत मे एक बार फिर कहूंगा कि अगर मेरी बात योगी मोदी तक पहुंच रही हो तो उनसे यही विनती करता हूँ कि आय से अधिक संपत्ति रखने वालों पर सख्त से सख्त कार्यवाही करो और मैं बताता हूँ किन किन के पास आय से अधिक नाजायज संपत्ति है।

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…