Skip to main content

संविधान के मन्दिर में भारत के गरिमा पर थप्पड़

९ नवंम्बर को महाराष्ट्र विधान सभा में बारहवें सत्र की शुरूआत विधायकों के शपथग्रहण समारोह के साथ शुरू होनी थी । यही होता है, होता आया है, और होता रहेगा । परन्तु महाराष्ट्र विधानसभा में उस दिन ऐसा कुछ नहीं हुआ बल्कि गुंडई का नंगा नाच विधानसभा के भीतर किया गया । दर‍असल अबुआजमी जो कि सपा विधायक के तौर पर महाराष्ट्र विधानसभा में चुनकर आये थे, इन्होंने हिंदी में शपथ ग्रहण करना शुरू किया । अब संविधान द्वारा हमें अधिकार प्राप्त है कि भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में जितनी भाषाएं हैं हम उन सब में शपथ ग्रहण कर सकते हैं, तो हिंदी तो हमारी राष्ट्रभाषा है, तो आजमी साहब ने हिंदी में शपथ लेना शुरू ही किया था कि राज ठाकरे की मंडली (४ विधायक) ने उनपर इस बात के लिए हमला बोल दिया कि, इसने विधासभा में हिंदी में शपथ लेना कैसे शुरू कर दिया ।
अगर हमें ठीक से याद है तो हम शायद हिंदुस्तान में ही रह रहे हैं और हिंदी में शपथ ग्रहण करना हमारा संवैधानिक अधिकार है, लेकिन शायद ये बातें अपना महत्व खो देती हैं, मनसे जैसी ओछी राजनीति करने वाली पार्टियों के आगे । आजमी को हिंदी में शपथ ग्रहण करने के कारण अपमानित तो होना ही पड़ा साथ ही साथ उनका माईक तोड़ दिया गया और मनसे विधायक राम कदम के उन्हें एक थप्पड़ तक जड़ दिया । राम कदम के साथ उसके चरित्रहीन साथियों ने मिलकर आजमी की बीच विधानसभा में जो तौहीन की वो भारत जैसे महान देश की संप्रभुतापर चोट है । जब संविधान ने हमें अधिकार दिये हैं तो हम संविधान द्वारा स्वीकृत २२ में से किसी भी भाषा में शपथ ग्रहण करने के अधिकारी हैं ।
राज ठाकरे और उनकी मनसे पार्टी भारतीय राजनीति की परिभाषा को बदलने की ओर अग्रसर है । संविधान को चुनौती देते हुए उनके और उनकी पार्टी के लोगों के कृत्य दिनों-दिन घटिया से घटिया स्तर तक जा पहुँचे हैं । देश को भाषाई आधार पर तोड़ने के प्रयास किये जा रहे हैं । मनसे ने पिछले कई सालों से नाक में दम कर रखा है । सवाल उठता है एक राज ठाकरे जो कभी सदी के महान अभिनेता अमिताभ बच्चन को धमका देते हैं तो, कभी उनकी पत्‍नी जया बच्चन को “गुड़िया अब बुढ़िया हो गयी है, इसलिए इलाहाबाद चली जा” कहकर उनका भारी अपमान कर देते हैं, कभी बिहार और उत्तर-प्रदेश जैसे देश के दो बड़े राज्यों के लोगों को परीक्षा देने आने पर भगा- भगा कर महाराष्ट्र से भगा देता है, कभी बिहार (आबादी ८.५० करोड़ के करीब) उत्तर प्रदेश (आबादी १७ करोड़ के करीब) के लोगों को एक बिहारी सौ बिमारी कहकर चिढ़ाया है । इन राज्यों के लोगों पर हमले करवाते हैं, आखिर ये है कौन? ये कौन है जो एक व्यापक जनसमूह रखने वाले प्रदेश के लोगों को इस तरह से अपमानित करता रहता है । ये कोई नहीं है, बस एक छोटी सी क्षेत्रीय पार्टी का छोटा सा नेता है । फिर करन जौहर, अमिताभ बच्चन, राजनीतिक दलों के बड़े-बड़े नेता उसके आगे नतमस्तक कैसे हो जाते हैं? क्योंकि इनमें दृढ़ इच्छाशक्‍ति की कमी होती है । इन्हें याद रखना चाहिए कि कोई भी जन्मजात आतातायी नहीं है, बल्कि हम उसे शह देकर ऐसा बनाते हैं ।
याद कीजिए २७ अक्टूबर का वो दिन जब एक २५ साल का पटना से आया युवक राज ठाकरे की इसी क्रिया-कलापों से परेशान होकर उसे अपने ढंग से समझाने मुंबई आया था लेकिन पुलिस ने उसे बस में ही गोलियों से भून दिया । पूरे देश में इस घटना के घटने के आस-पास ही दिवाली मनाई जाने वाली थी, देशवासियों ने मनाया भी, लेकिन पटना में जहाँ वह लड़का रहता था उस जगह पर उस पावन घड़ी में श्राद्ध क्रियाओं जैसे वातावरण का आवरण चढ़ा हुआ था । आखिर क्यों? इतनी सस्ती लोकप्रियता हासिल कर के कोई क्या कर लेगा । राज ठाकरे को समझाना चाहिए कि इकबाल ने अपने गीत में लिखा है हिंदी है हम वतन हैं हिंदुस्तान हमारा । सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा । आखिर क्यों हमारा हिदुंस्तान सारे जहाँ से अच्छा है? क्योंकि हिंदुस्तान में वो कटुता और आपसी तकरार नहीं है जो दूसरे देशों में होती है । आखिर हम सभी भारतवासी चाहें पूर्व हो पश्‍चिम हो, उत्तर हो, दक्षिण हो, एक ही तो हैं आपस में फिर ये हिंदी-मराठी आपसी तकरार क्यों । क्या ये थप्पड़ सिर्फ अबु आजमी पर था या भारत की गरिमा, उसके सम्मान उसके इतिहास पर था । हम भारत को माँ कहते हैं क्या ये माँ का अपमान नहीं था ।

धनु मिश्रा

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…