Skip to main content

धर्म, प्रेम और संवेदना का महत्व

जिन नियमों के आचरण एवं अनुष्ठान से इस लोक और परलोक में अभीष्ट सिद्धियाँ प्राप्त होती हैं, वही धर्म है । देवताओं के पूजन-अर्चन में मन की पवित्रता का भी विशेष महत्व है । कर्मपुराण में स्नान के बारे में कहा गया है कि यह दृष्ट और अदृष्ट फल प्रदान करनेवाला है । प्रातः स्नान करने से निःसंदेह अलक्ष्मी, बुरे स्वप्न और बुरे विचार तथा अन्य पाप नष्ट हो जाते हैं । सत्संग का मतलब है सत्य की संगति । सत्य की संगति परमात्मा के नाम और उनकी कथा के कहने और सुनने में होती है । सत्संग में भगवान की कथा कहने और सुनने वालों का मन एवं शरीर दिव्य तेज से प्रकाशित हो उठता है । कथा श्रवण से प्रभु की कृपा सहज सुलभ हो जाती है । श्रीमद्‌भागवत में कहा गया है कि नियमित सत्संग और कथा श्रवण करने से भगवान अपने भक्‍तों के हदय में समा जाते हैं । धर्मशास्त्रों में भगवद कथाओं को आधिभौतिक, आधिदैविक और आधिदैहिक तापों को नष्ट करनेवाली कहा गया है । इन कथाओं का पुण्य फल मृत्यु के बाद ही नहीं बल्कि अगले जीवन में भी मिलता है । कथा श्रवण से निराश जीवन में भी आशा का संचार होता है ।
प्रख्यात आध्यात्मिक गुरू श्री रविशंकर कहते हैं- “जो संवेदनशील होते हैं, प्रायः वे कमजोर होते हैं । जो स्वयं को सबल समझते हैं वे प्रायः असंवेदनशील होते हैं । कुछ व्यक्‍ति स्वयं के प्रगति संवेदनशील होते हैं, पर औरों के प्रति नहीं । वहीं दूसरी ओर कुछ लोग दूसरों के प्रति संवेदनशील होते हैं, वे प्रायः दूसरों को दोष देते हैं । जो केवल अपने प्रति संवेदनशील होते हैं, वे स्वयं को असहाय और दीन समझते हैं । कुछ व्यक्‍ति इस निष्कर्ष पर पहुँचते हैं कि संवेदनशील होना ही नहीं चाहिए क्योंकि संवेदनशीलता पीड़ा लाती है । वे अपने आपको औरों से दूर रखने लगते हैं, परन्तु यदि तुम संवेदनशील नहीं हो तो तुम जीवन के अनेक सूक्ष्म अनुभवों को खो दोगे, जैसे अंतर्ज्ञान, सौन्दर्य और प्रेम का उल्लास । यह पथ और यह ज्ञान तुम्हें सबल और संवेदनशील बनाता है । असंवेदनशील व्यक्‍ति प्रायः अपनी कमजोरियों को नहीं पहचानते । दूसरी ओर जो संवेदनशील हैं, वे अपनी ताकत को नहीं पहचानते । उनकी संवेदनशीलता ही उनकी ताकत है । संवेदनशीलता अंतर्ज्ञान है, अनुकंपा है, प्रेम है । ”
रैलन कीलर के अनुसार- “प्रेम एक सुंदर और खुशबूदार फूल की तरह है जिसे हम ना छुएँ, तो भी उसकी खुशबू सारे वातावरण को सुंगधित बना देती है । ” किसी भी धर्म में हिंसा का स्थान नहीं है । आज सभी को संयुक्‍त प्रयास कर जीवन में समरसता, समृद्धि तथा भाईचारा बढ़ाने का बीड़ा उठाना चाहिए । आज हर व्यक्‍ति सुख चाहता है फिर भी उसे सुख शांति नहीं मिलती । एक आमधारणा है कि अच्छे काम क्यों करें? ईमानदारी से धन नहीं मिल सकता । हम चाहते हैं कि समाज में इस धारणा को बदला जाय तथा लोगों में यह जागृति फैले कि ईमानदारी से भी पैसा कमाया जा सकता है और सुख की प्राप्ति हो सकती है । हमारा हर व्यक्‍ति से भावनात्मक जुड़ाव हो तथा लोग समाज की प्रगति और आर्थिक उत्थान में काम करें । आपमें विश्‍वास हो और अच्छा सोचें तो आपसी रिश्ते खुद ब खुद सुधर जाएंगे । ईमानदार होने का एक फायदा यह भी है कि इससे व्यक्‍ति दुखी नहीं होता । ऐसी धारणा है कि अक्सर ईमानदार व्यक्‍ति दुखी और गरीब देखे जाते हैं और बेईमानी सुखी और धनवान । हमें इस धारणा को बदलना है और समाज में संदेश फैलाना है कि हमेशा सच्चाई और अच्छाई की राह पर चलने वालोंको ही सुख मिलता है ।
विश्‍व इतिहास में सबसे भयानक आर्थिक संकट के बाद इंटरनेशनल असोसिएशन फॉर ह्‍यूमैन वैल्यूज ने ‘बिजनेस में नैतिकता’ और मूल्यों की प्रासंगिकता पर विचार किया, जिसमें वर्ल्ड बैंक, माइक्रोसॉफ्ट कॉरपोरेशन, आध्यात्मिक नेता और दुनिया के शीर्षस्थ विद्वानों ने शिरकत की । श्री श्री रविशंकर जोर देते रहे हैं कि विकास के केन्द्र में मानवीय मूल्यों और नैतिकता को रखने की जरूरत है । हमने कम्युनिज्म की कमियाँ देख लीं, हम बेलगाम कैपिटलिज्म की नाकामी देख चुके हैं । अब समय एक नए इज्म- ह्‍यूमनिज्म या मानवतावाद का है । इस कॉन्फ्रैंस के जरिए दुनिया के युवाओं को स्थायित्व मुहैया कराने के बारे में अपना नजरिया बनाने का मौका मिला । खबर है कि सम्मेलन में १० देशों के २५ युवाओं ने हिस्सा लिया था । सम्मेलन को कॉरपोरेट में आध्यामिकता और सामाजिक जिम्मेदारी का भाव भरने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है । ऐसे आयोजन देश के हर कोने में होने की परम आवश्यकता है ।
- गोपाल प्रसाद

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…