Skip to main content

हिन्दुस्तान में मानव का अधिकार

सृष्टि का सबसे उन्‍नत जीव मानव है, जिसने प्राकृतिक संसाधनों को अपने श्रम, से नये रूप में ढालकर नई दुनिया की रचना कर डाली । आज उसी मानव के अधिकार की बात हो रही है । विकास के साधन के साथ-साथ मानव ने प्राकृतिक संसाधनों का दुरूपयोग किया, प्रकृति की सीमा रेखा का उल्लंघन भी किया । पृथ्वी की हरियाली का विनाश किया जो सभ्यता को स्थायित्व प्रदान करती है । पशुओं से उनका घर, आश्रम पर मानव कब्जा जमाते जा रहा है । यहां तक कि मानव अपने स्वार्थ में अनेकों पशुओं, जलचरों का शिकार कर रहा है, जिससे अनेक प्रजातियाँ विलुप्त होने की कगार पर हैं । यहाँ तक कि मानव ने ही मानव पर अपने स्वार्थ के लिए उनका दमन शुरू कर दिया है ।
मानवाधिकार की परिभाषा क्या है? प्रकृति ने हर मानव को उसके परिवेश, स्थान के अनुसार इस पृथ्वी के नैसर्गिक अधिकार प्रदान किये हैं । किसी भी सामाजिक या राजनीतिक कारण से उनका ये अधिकार कोई मानव संगठन या सरकार हनन नहीं कर सकती । मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और स्वस्थ समाज अपने बनाये हुए आदर्श आचारसंहिता के आधार पर ही चलता है, चूंकि हम मानव हैं । पशुओं के साथ में प्रकृति प्रदत्त आचारसंहिता है जिसका उल्लंघन पशु समाज भी नहीं कर सकता है ।
ईश्‍वर की सबसे उत्तम रचना मानव है, परन्तु इस कलयुग में किसी तरह दूसरे के अधिकार कर्म के प्रतिफल पर अपना कब्जा जमाना ही सामाजिक असमानता पैदा कर रहा है, जिसमें पूरा विश्‍व त्रस्त है । यहाँ तक कि मानव के कुकर्म से पूरा विश्‍व खतरे के ढर्रे पर खड़ा है । मानवजाति में दो प्रवृत्ति के लोग होते हैं । जैसे सदाचारी, दुराचारी, देवता-राक्षस । प्रकृति के नियम अनुसार किसी एक में मानवजाति की राक्षसी वृत्ति का उत्थान का है । उत्थान है तो पतन भी निश्‍चित है । आज हम मानवाधिकार की बातें उठाते हैं । वह सामाजिक विकास, समानता, प्रेम के लिए जरूरी है ।
अब सभ्यता की पुकार है कि मानव मानव पर अत्याचार बन्द करो । हमारे देश में आम आदमी के मानवाधिकार की रक्षा के लिए पुलिस है, परन्तु पुलिस तो स्वयं ही मानवभक्षी जीव के रूप में बैठी है । भारत के हर हफ्ते थाने में दिन रात नागरिक अधिकार और नागरिक सम्मान के अधिकार का बलात्कार होता है । इस विभाग में सामाजिक प्राणी, सामाजिक आचार भी सिखाया जाना चाहिए । आज हमारे देश में मानवाधिकार की बात होती है, परन्तु हमारे कानून आज भी वही हैं जो अंग्रेजों ने गुलाम भारत की जनता के लिए बनाये थे । मानवाधिकार की दुहाई देने वालों पहले मानवाधिकार के शत्रु पुलिस तंत्र को, कानून को ठीक करो । आजादी के ६२ साल बाद भी वही स्थिति है । हमारे देश के सत्ताधारियों, आलसियों, निकम्मों देश के नागरिकों को उनका अधिकार देने में इतने साल क्यों लग रहे हैं? शायद हमारी सरकार, ईश्‍वर अवतरण का इंतजार कर रही है । कपटी लोगों, नाटक बन्द करो । सत्ताधारियों देश के नागरिक के अधिकार की रक्षा करो मानवाधिकार स्वयं प्राप्त हो जायेगा । मानवाधिकार के लुटेरों पर अंकुश लगाओ । अंग्रेजों के काले कानून को बन्द करो । मानव रूप पुलिसवालों के दानवी मानवाधिकार हनन कानून ठीक करो । ९० दिनों के अन्दर नया कानून बनाओ । आजादी का कानून, स्वतन्त्रता का कानून, मानव के अधिकार का कानून ।
शिक्षा व्यवस्था आज भी हमारे देश में वही चल रही है जो अंग्रेजों ने बनाया यानि हम गुलामों वाली शिक्षा पद्धति पर चल रहे हैं । मानवाधिकार की बात और शिक्षानीति वही, जो मैकाले ने गुलाम भारत के नागरिकों के लिए बनायी थी । अभी तक सत्ताधारियों ने स्वतन्त्र भारत की शिक्षा नीति का निर्धारण करने की जहमत नहीं उठायी है । जब शिक्षा का आधार ही गुलाम भारत है तो मानवाधिकार का ज्ञान हमारे समाज में कहाँ से आयेगा?
- रवि के. पटवा (मुंबई)

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन …