Skip to main content

लोहिया ऑटो इंडस्ट्रीज के ‘इलेक्ट्रिक बाईक’ की धूम



लोहिया ऑटो इंडस्ट्रीज (एल ए आई) लोहिया समूह की पर्यावरण-अनुकूल, किफायती बिजली से चलने वाली बाईक- ओमा स्टार को बाजार में उतारा । ये कंपनी भारत में बिजली से चलने वाले दो- पहिए वाहनो का उत्पादन करने वाली औद्योगिक इकाइयों में से एक प्रमुख इकाई है ।
ओमा स्टार, सुरक्षा, स्टाईल और आराम का अद्वितीय सम्मिश्रण है । अप्ने नए रूप के साथ डिजिटल स्पीडोमीटर, एलॉए के स्टाइलिश पहियों, ज्यादा स्टोरेज क्षमता, उच्च ग्राउंड क्लीयरेंस, टेलिस्कोपिक सस्पेंशन, आदि सभी विशेषताएं इस बाइक में मौजूद हैं । हमेशा की तरह ही लोहिया ऑटो इंडस्ट्रीज का ये मॉडल भी अपने संभावित खरीदारों को पैसे की सही कीमत अदा करने में सक्षम है ।
ओम स्टार तीन तरह के रंगों में उपलब्ध है- मैको ब्लैक, फाइरी रीड और स्पीरीटेड सिल्वर । आम आदमी की जरूरतों के मुताबिक दिल्ली में ओमा स्टार की कीमत २५,९९९ रूपए और फेम की कीमत २४,६५० रूपए रखी गई है । २५ किमी/घंटा की रफ्तार के साथ ओ एन ए स्टार हर बार चार्ज करने पर ६० किमी की दूरी तय करती है । ये इलेक्ट्रोनिक बाइक अलाने में आसान और बेहतर है, इसका स्टाईल अनुपम है और इसके जरिए अच्छी खासी बचत की जा सकती है । इस इलेक्ट्रोनिक बाइक ई विशेषताएं और बढाने वाले कुछ अन्य गुण हैं २०ए एच की क्षमता ६ से ८ घंटे का चार्जिग समय ८० मिली मीटर और ११० मीटर के अगले और पिछले ब्रेक ड्रम ।
इस कंपनी ने आई आई टी एफ-२००८ में भी हिस्सा लिया था और अपने २ मॉडल ओमा और फेल बाजार मे उतारे थे । इन दोनों ही इलेक्ट्रोनिक बाइकों के लिए कंपनी को बेहद अच्छी प्रतिक्रिया मिली थी और इस अवधि के दौरान ही कंपनी ने अपने खरीदारों को बेहतर नेटवर्क और बाइकों की उपलब्धता देने के लिए सिर्फ दिल्ली में ही १० डीलरों के माध्यम से बाइकों की बिक्री शुरू कर दी है ।
इस अवसर पर लोहिया ऑटो इंडस्ट्रीज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री आयुश लोहिया ने कहा, “हमारे द्वारा लिए जाने वाले फैसलों में से ज्यादातर के पीछे आखरी उद्देश्य यही होता है कि जीवनस्तर को बेहतर बनाया जाए । पर्यावरण से जुड़ी चिंताओ और घटते संसाधनों की पृष्ठ भूमि में यह अनिवार्य हो गया है कि जो कुछ बचा है उसे संरक्षित करें और अर्थव्यवस्था की वृद्धि के इंजन को चलाने के लिए नए विकल्प ढूंढे । हमारी इलेक्ट्रोनिक बाइकें इन सवालों और चिंताओ का जवाब हैं ।”

कंपनी के बारे में :

लोहिया ऑटो इंडस्ट्रीज (एल.ए.आई.) लोहिया समूह का विद्युतीय वाहन निर्माण विभाग है । सन्‌ १९७६ में मुरादाबाद में स्थापित लोहिया समूह का कारोबार भारत समेत विदेशों में फैला हुआ है, आज इस कंपनी वार्षिक राजस्व ५०० करोड़ रूपयों का है । लोहिया समूह के तहत लोहिया ऑटो इंडस्ट्रीज की शुरूआत वर्ष २००७ में हुई ।
लोहिया ऑटो इंडस्ट्रीज की काशीपुर (उत्तराखंड) में नए जमाने की तकनीकों से युक्‍त निर्माण इकाई है जहाँ पर उच्च तकनीक वाले विद्युतीय दोपहिया एवं तिपहिया वाहनों का निर्माण किया जाता है । जर्मन तकनीक से विकसित इस कारखाने में दो किस्मों के विद्युतीय स्कूटर तैयार किए जाते हैं- फेम और ओमा । ये दोनों स्कूटर देखभाल की आवश्यकता से लगभग मुक्‍त हैं । इनमें कोई गियर, इंजिन, बैल्ट या चेन ड्राइव नहीं है, इनसे कोई उत्सर्जन नहीं होता, प्रदूषण नहीं होता ये इलैक्ट्रॉनिक स्टार्ट व ऐक्सीलिरेटर युक्‍त हैं इन सब खासियतों के अलावा ये स्कूटर केन्द्रीय वाहन पंजीकरण कानून के तहत भी नहीं आते हैं क्योंकि ऑटोमोटिव रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया (ए.आए.ए.आई) ने इस प्रकार के वाहनों को ऐसी आवश्यकताओं से छूट दिलायी है । इन्हें चलाने के लिए किसी पंजीकरण या लाइसेंस की आवश्यकता भी नही होती ।
उत्तराखंड के काशीपुर में स्थित कंपनी की निर्माण इकाई में हर साल २ लाख वाहन उत्पादित करने की क्षमता है । इस वित्तीय वर्ष में कंपनी ने अपने लिए २०,००० से अधिक इलैक्ट्रिक बाइक बेचने का लक्ष्य रखा है और अगले साल इस लक्ष्य को बढ़ाकर एक लाख इकाई कर दिया जाएगा । कंपनी तत्परता के साथ पड़ोसी देशों में अपने उत्पादों को निर्यात करने की संभावनाएं भी तलाश कर‘ रही है ।
- गोपाल प्रसाद

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…