Skip to main content

शाबास युगरत्ना, देश को नाज है तुम पर

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से मिलने की युगरत्‍ना श्रीवास्तव की हसरत भले ही पूरी नहीं हो सकी परन्तु उसने अपने पिता डॉ० आलोक श्रीवास्तव को न्यूयॉर्क से लखनऊ फोन करके कहा- “पापा, एक दिन जरूर ऐसा आएगा जब जलवायु परिवर्त्तन की मेरी थ्योरी थीसिस वर्ल्ड के लोग सहमत होंगे । डॉ. श्रीवास्तव ने मोबाईल पर अपनी बिटिया की हौसला आफजाई की । उसके भाषण को सेंट फेडरिल विद्यालय के शिक्षकों और उसके सहपाठियों ने भी सुना । विद्यालय की शिक्षिका डेजी प्रसाद के अनुसार युगरत्‍ना इतनी ज्यादा प्रतिभाशाली है, यह हमें अब मालूम पड़ा । लखनऊ में कई संस्थाओं ने युगरत्‍ना को सम्मानित करने का निर्णय किया है । मात्र १३ साल की उम्र में संयुक्‍त राष्ट्र (यूएन) सम्मेलन को संबोधित करनेवाली युगरत्‍ना को उत्तरप्रदेश सरकार सम्मानित करेगी । राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. राकेशघर त्रिपाठी ने कहा है कि बालिका और उसके माता-पिता को सम्मानित किया जाएगा । उन्होंने कहा कि युगरत्‍ना ने देश, प्रदेश और लखनऊ का गौरव बढ़ाया है । युगरत्‍ना के पिता आलोक श्रीवास्तव लखनऊ के अलीगंज स्थित सुभाष चंद बोस पोस्टगेजुएट कॉलेज में वनस्पतिशास्त्र के रीड़र है । तेरह साल की भारतीय बालिका युगरत्‍ना ने दुनियाँ के तीन अरब बच्चों की ओर से आवाज उठाते हुए विश्‍व नेताओं से जलवायु परिवर्त्तन पर तुरंत कदम उठाने की अपील की है । जूनियर बोर्ड रिप्रेजेन्टेटिव के तौर पर युगरत्‍ना ने न्यूयॉर्क में संयुक्‍त राष्ट्र के सम्मेलन के उद्‌घाटन सत्र को संबोधित कर इतिहास रच दिया । जलवायु परिवर्त्तन के मुद्‌दे पर विचार करने के लिए जुटे दुनियाँ भर के नेताओं को भारत की १३ वर्षीय लड़की युगरत्‍ना श्रीवास्तव ने संबोधित किया । विश्‍व के तीन अरब बच्चों का प्रतिनिधित्व करते हुए युगरत्‍ना ने कहा “वैश्‍विक रूप में एक हरित कार्यकर्त्ता के रूप में जो जलवायु परिवर्त्तन और सतत विकास के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए प्रयासरत हूँ । मैं जलवायु परिवर्त्तन को लेकर बेहद चिंतित हूँ । आज समय आ गया है कि ठोस कदम उठाए जाएँ और कोपेनहेगेन में एक संधि पर सहमत बनाई जाए क्योंकि मैं नहीं चाहती कि आनेवाली पीढ़ी वही प्रश्न पूछे जो आज मैं आपसे कर रही हूँ । युगरत्‍ना के पास विश्‍व के नेताओं से पूछने के लिए कई सवाल थे । उसने कहा, हिमालय की बर्फीली चोटियाँ पिघलती जा रही है । ध्रुवीय भालुओं की जान पर खतरा बढ़ता जा रहा है । हर पाँच में से दो लोगों को पीने का साफ पानी नहीं मिलता । धरती का तापमान बढ़ रहा है । फसलों की उत्पादन क्षमता में लगाकर कमी आ रही है । प्रशांत महासागर के जलस्तर में वृद्धि हो रही है । क्या हम आनेवाली पीढ़ी को ये समस्याएँ भेंट में देना चाहते हैं ? लखनऊ के एक स्कूल में कक्षा नौ की छात्रा युगरत्‍ना ने जोश और आत्मविश्‍वास से भरी जब भाषण दे रही थी तब खचाखच भरे सदन में मौजूद १०० से ज्त्यादा देशों के प्रतिनिधियों में सन्नाटा व्याप्त था । इस मौके पर यूएन महासचिव बान की मून, अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा, चीन के राष्ट्रपति हू जिंताओं, भारत के विदेशमंत्री एस. एम. कृष्णा सहित कई अन्य नेता मौजूद थे ।एस्ट्रोफिजिक्स में कैरियर बनाना चाहती है युगरत्‍ना ः न्यूयॉर्क में संयुक्‍त राष्ट्र महासभा के सम्मेलन में ग्लोबल क्लाइमेंट पर भाषण देनेवाली युगरत्‍ना एस्ट्रोफिजिक्स में कैरियर बनाना चाहती है । उसके पिता डॉ. आलोक श्रीवास्तव को बेटी की इस उपलब्धि पर गर्व है, लेकिन उनका कहना है कि पर्यावरण पर काम करना, भाषण देना यह सब उसकी एकस्ट्रा एक्टिविटी में शामिल है । उसके पसंदीदा विषय है कंप्यूटर और गणित । उन्होंने बताया कि युगरत्ना हमेशा से टॉपर रही है लेकिन न्यूयॉर्क में भाषण देने के लिए जब न्योता आया तो युगरत्‍ना को नवीं कक्षा की पाँच परीक्षाएँ छोड़नी पड़ी । यह अलग बात है कि सेंट फेडलिस स्कूल ने उसके लिए अलग से परीक्षा कराने की छूट दे दी है । वास्तव में युगरत्‍ना ने देश, प्रदेश एवं लखनऊ का ही नहीं बल्कि तमाम युवावर्ग व महिला वर्ग तथा प्रतिभाशाली व्यक्‍तित्व का नेतृत्व किया है । अतः इन सबों की ओर से उन्हें कोटिशः बधाई ।

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…