Skip to main content

पद्मभूषण डॉ. दिनेशनंदिनी डालमिया पर लोकसभाध्यक्ष द्वारा डाक टिकट जारी


हिंदी साहित्य को पद्मभूषण डॉ. श्रीमती दिनेशनंदिनी डालमिया के उल्लेखनीय योगदान को मान्यता देने के लिए आज एक डाक टिकट जारी किया गया । पांच रूपये का यह डाक टिकट लोकसभा अध्यक्ष माननीया श्रीमती मीरा कुमार ने जारी किया । इस मौके पर संचार एवं सूचना राज्यमंत्री सचिन पायलट, लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष डॉ बलराम जाखड़ और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव श्री जनार्दन द्विवेदी मौजूद थे । जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा चीफ पोस्टमास्टर जनरल पी.के. गोपीनाथ तथा पद्‌मभूषण डॉ. श्रीमती दिनेशनंदिनी डालमिया की सुपुत्री अर्चना डालमिया पद्मभूषण डॉ. श्रीमती दिनेशनंदिनी डालमिया की उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए महिला सशक्‍तिकरण की प्रतीक लोकसभाध्यक्ष श्रीमती मीरा कुमार ने कहा, “डॉ. डालमिया के योगदान के बराबरी की और मिसाल नहीं मिलती । उनका काव्य प्रेरणादायी मोहक और मन को भीतरी शक्‍ति प्रदान करने वाला है । मैं उनके लेखन की बहुत अनन्य प्रशंसक रही हूँ । उन्होंने कहा इस कार्यक्रम में उनका आना इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह एक मौका है साहित्य से जुड़ने का, इसकी मुझे खुशी है । हिंदी की एक सेविका की स्मृति में शामिल होना, जिन्होंने साहित्य पक्ष को जागृत रखने के लिए अपना ऐशो-आराम त्याग दिया । जब देश अग्निपरीक्षा से गुजर रहा था । हमारा स्वतंत्रता आंदोलन बहुत सारे झंझावतों से गुजर रहा था । वे कम उम्र में ही गाँधी-नेहरू से पत्राचार करती थी जो परिपक्‍वता को परिलक्षित करता है । हिंदी की अग्निपरीक्षा अभी समाप्त नहीं हुई है । उसके लिए वे लगी हुई थीं । विशेष रूप से उनमें कवियित्रियों द्वारा मर्म को उजागर करने का विद्रोह था । उनकी रचना पढ़ने के दौरान महादेवी वर्मा की “मैं नीर भरी दुख की बदली" की याद आ जाती थी । उनके क्रांतिकारी भाव से हमें सीखना चाहिए । नारी आंदोलन से बहुत कुछ सीखना चाहिए । बेबाकी के साथ सशक्‍त स्वर, निर्भीकता, शौर्य, माधुर्य और लालित्य इनके कविता में था । इनके नाम पर डाक टिकट जारी करके भारत सरकार ने साहित्य जगत को प्रतीक दिया है, जो समय-समय पर बहुआयामी प्रेरणा देता रहेगा ।
डॉ. बलराम जाखड़ ने कहा “ मैं आना चाहती हूँ बार-बार धरा पर जिंदगी और मौत को सौतन नहीं सहेली मानती आई हूँ” जैसी पंक्‍तियाँ हमारे अंतर्मन को हमेशा झकझोरती रहती हैं । इस कार्यक्रम का जब हमें बुलावा आया तो हम इतने खुश हुए कि नींद में चलने लगे । दिनेशनंदिनी जी यथा नामा ततः गुणाः अर्थात दिनेश (सूर्य) की नंदिनी (बेटी) थी । उनके रचनाओं में जागृति, भावना, आध्यात्मिक लगाव और अथाह प्रवाह था । उनकी हर कृतियाँ अपने आप में एक धरोहर हैं । प्रथम प्रधानमंत्री स्व. जवाहरलाल नेहरू कहते थे कि- “जब मैं दिनेशनंदिनी की किताब को पढ़ना शुरू करता था तो बिना खत्म किए नहीं छोड़ता था । ” उनकी रचनाओं को पढ़ने से नया जीवन तथा दृष्टिकोण मिलता है । उनकी कृति और जिंदगी पदचिन्ह है, सबों के लिए ।
पद्मभूषण डॉ. श्रीमती दिनेशनंदिनी डालमिया की पुत्री अर्चना डालमिया के लिए यह विशेष गौरवशाली क्षण था । उन्होंने इस मौके पर कहा, “मेरी मां मेरे लिए नायिका रही हैं । वह कालीतात और शाश्‍वत थीं, बढ़ती उम्र और जड़ता को उन्होंने दृढ़ता से परे रखा । कठिन समय में भी वह सुख एवं स्नेह बांटती थीं और इसके लिए मैं उनकी कायल हूं । उनके लेखन की ताजगी ने हरिवंश राय बच्चन जैसे दिग्गज को अपनी आत्मकथा में उनके लिए प्रशंसा के शब्द लिखने को विवश किया तथा पंडित जवाहर लाल नेहरू ने भी उनकी कृतियों की प्रशंसा करते हुए पत्र लिखे । ”
पद्मभूषण डॉ. श्रीमती दिनेशनंदिनी डालमिया के बारे में
पद्मभूषण डॉ. श्रीमती दिनेशनंदिनी डालमिया की निजी और साहित्य यात्रा उनके समकालीन चलन से लीक छोड़कर चलती हैं । उनकी जीवन कथा एवं कथात्मक आभामंडल लिए है जो उनकी साहित्यिक कृतियों में परिलक्षित हुआ है ।
उदयपुर में पैदा हुई दिनेशनंदिनी ने १३ वर्ष से ही लेखन शुरू कर दिया था और उस समय उन्होंने दिनेश नंदिनी चोर्ड़िया नाम अंगीकार किया था । उनका विवाह उस समय के औद्योगिक मुगल घराने में राम कृष्ण डालमिया से हुआ और उन्होंने इसके बाद दिनेशनंदिनी डालमिया नाम से लेखन का सफर जारी रखा । शुरुआती वर्षों में उनकी निराश आशा जब प्रकाशित हुई तो उस पर सुभद्रा कुमारी चौहान और महादेवी वर्मा तक की नजर गयी । उनकी पहली पुस्तक शबनम ने गहरा प्रभाव छोड़ा जिसके लिए उन्हें साक्षरिया पुरस्कार से सम्मानित किया गया । अनेक काव्य संग्रहों लघु-कथाओं के कथादेश में प्रवेश किया और उपन्यास लेखन भी आरंभ किया । उन्हें २००६ में पद्मभूषण से अलंकृत किया गया ।
भारतीय समाज में नारी मन की संवदेनाओं के बाहरी और भीतरी संसार की गहरी समझ ने उन्हें हिंदी साहित्य में असाधारण स्थान दिया । करीब ३५ उपन्यासों और इतने ही काव्य संग्रहों के माध्यम से उन्होंने एक के बाद एक कई पीढ़ियों को साहित्य में जीवंत किया और हिंदी साहित्य में उन्हें अपने मुहावरों में प्रकट किया ।
उन्हें राजस्थान की पहली स्नातकोत्‍तर महिला होने का भी गर्व प्राप्त है । उन्होंने पर्दा प्रथा के खिलाफ बगावत की और लैंगिक भेदभाव का भी जोरदार ढंग से मुकाबला किया । वह अपने लेखन में तीखे बाण चलाने के लिए ख्यात थीं और नारी मन के उद्वेलन को भी उन्होंने बेबाक ढंग से प्रकट किया । उनकी पुस्तकों में निजी सफर, रोमांचक दास्तानें और महिलाओं को परम्परागत लीक से हटकर नए रास्ते पर ले जाने की कवायद भी खूब देखने को मिलती है ।
आजीवन पर्यंत वह विविध गतिविधियों में संलग्न रहीं । वह इंस्टीट्‌यूट ऑफ कम्प्रेटिव रिलीजन एंड लिट्रेचर, इंडो चाइना फ्रेंडशिप सोसायटी, लेखिका संघ रिचा की संस्थापक सदस्य एवं अध्यक्ष रहीं । वह रिचा पत्रिका की मुख्य सम्पादक थीं । वह कई धारावाहिकों के लिए साहित्य सलाहकार बनीं और उनके उपन्यास ‘फूल का दर्द’ पर एक मशहूर टेलीफिल्म बनी ।
वह रहस्यवादी और छायावादी थीं और अपने तरह की समाज सुधारक थीं । उनकी कृतियां जीवन, मृत्यु, प्रेम, मनुष्य जो साकार होकर शाश्‍वत हो जाते थे ।

वह लिखती हैं :

“अब समय मेरे जीवन का तलपट देखने के लिए कर रहा है मुझे तलब !
क्यों? मैं क्यों देखने दूं उसे मेरे बहीखाते?
मैं तो नहीं जन्मी थी अपनी शर्तों पर
मुझे नहीं पता कौन और क्यों मुझे यहां ले आया !
तो फिर क्यों समय नहीं खोलता अपने बहीखाते और क्यों नहीं आता मेरे पास?
वह क्यों नहीं सौंप देता मुझे अपना तलपट
और क्यों नहीं देता मेरे सवालों के जवाब?


- गोपाल प्रसाद

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…