Skip to main content

दलित महिला आंदोलन की प्रेरणास्त्रोत थीं शांताबाई दाणी

‘दलित स्त्रियों की यातना, उनका संघर्ष और उनकी उपलब्धियाँ इतिहास में अपनी दस्तक देती रही हैं । उगते हुए सूरज की किरणों की तरह अपनी आभा बिखेर कर वे समाज को ऊर्जावान बनाती रही हैं । संघर्षशील दलित नायिकाएँ कीचड़ में कमल और धूसरित पगडंडी के किनारे पड़े चमकते मोती की तरह बरबस अपनी ओर सबका ध्यान खींच लेती हैं ।
बाबासाहब डॉ. भीमराव अंबेडकर के नेतृत्व में दलित आंदोलन समानता के आंदोलन का प्रतीक बना, अतः ऊँची-नीच, जात-पाँत और और लैंगिक असमानता के विरूद्ध इसका मुखर आह्वान रहा है । दलित समाज तीन हजार साल से अधिक अपनी गुलामी से मुक्‍ति की मशाल जलाए ब्राह्मणवाद को ललकारता रहा है । वह ब्राह्मणवाद के विरूद्ध अपने संघर्ष में अपने पुस्तैनी धंधे छोड़ रहा था तो नई दुनिया में नए-नए आदर्श स्थापित कर रहा था । दलित स्त्रियाँ भी कंधे से कंधा मिलाकर इन संघर्षों को नेतृत्व दे रही थीं ।
डॉ. अंबेडकर के नेतृत्व में दलित आंदोलन ने भूखी-प्यासी, गरीबी से त्रस्त दलित जनता में अपने अधिकारों के लिए लड़ने की जान फूँकी । मंदिरों में घुसकर देवताओं के दर्शन का अधिकार, सार्वजनिक स्थलों पर आने-जाने और उन्हें इस्तेमाल करने के समान अधिकार को हासिल करने के लिए सड़क पर उतर कर लड़ने में दलित पुरूषों के साथ-साथ स्त्रियों ने भी सक्रिय भूमिका अदा की । १९४२ में नागपुर में दलित महिलाओं का ऐतिहासिक अधिवेशन इसी बात की ओर इशारा करता है । अनेक अंबेडकरवादी स्त्रियाँ गाँव-गाँव जाकर अंबेडकर की आवाज अन्य स्त्रियों तक पहुँचा रही थीं । वे भाषण देने से लेकर स्कूल खोलने के अभियान में जुट गई थीं । उनमें शांताबाई दाणी का नाम और उनके कार्य समाज में अपना विशेष स्थान रखते हैं । महाराष्ट्र की राजनीति और रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के नेताओं की सूची ताई शांताबाई दाणी के नाम के बिना अधूरी है ।
शांताबाई दाणी का जन्म महाराष्ट्र के नासिक जिले के खड़कली गाँव की एक झोंपड़ी में हुआ । महाराष्ट्र के प्रख्यात कविवर वि. वा. शिरवाडकर शांताबाई के सम्मान में कहते हैं, “महार जाति में जन्मी, उच्च शिक्षित कुशल नेतृत्व की क्षमता से ओत-प्रोत, युवावस्था में बाबासाहब के भाषण और कार्यों से प्रेरित हो अपना समस्त जीवन विद्रोही दलित आंदोलन को समर्पित करने वाली शान्ताबाई एकमात्र कार्यकर्ता थीं । उसके हृदय में कभी न अस्त होने वाला सूर्य था जिसका प्रकाश आज तक चमक रहा है । ” शांताबाई का जन्म एक महार परिवार में हुआ था । शांता के जन्म से पूर्व उनके परिवार को खासतौर से उनके पिता और दादी को घर में एक लड़का होने की उम्मीद थी और जन्म लिया लड़की ने । लड़की के जन्म से उन्हें बेहद तकलीफ हुई ।
पिता ने अपनी इस तकलीफ के बावजूद शांता को खूब प्यार किया । वह उसे अपने पास बिठाकर पढ़ाते, अपने साथ-साथ लेकर घूमते । उनका दूध बेचने का धंधा था । अचानक शांता के एक भाई की मृत्यु से उन्हें इतना सदमा हुआ कि उन्होंने उसकी क्षतिपूर्ति शराब पीकर की । उनके इस भटकाव से घर बुरी तरह से गरीबी और तंगहाली में आ गया । शांता का बड़ा भाई अण्णा, जो उनका सौतेला भाई था, अब घर की जिम्मेवारी निभाने लगा । शांता की माँ की बड़ी इच्छा थी कि शांता पढ़े । शायद इसलिए कि उनकी बड़ी बेटी की गृहस्थी बहुत खराब चल रही थी । इसकी एक वजह वो अपनी बेटी के पाँव पर खड़ा न होना भी मानती थीं । इसलिए उसने शांता को खूब पढ़ा-लिखाकर पाँव पर खड़ा करने का संकल्प कर लिया था । चौथी कक्षा तक इनकी पढ़ाई गाँव में हुई, पांचवीं के लिए इन्हें गाँव से दूर जाना पड़ा जहाँ इन्हें एक अध्यापक दाणी मिले जिन्होंने इनकी पढ़ाई-लिखाई और व्यक्‍तित्व विकास में बहुत सहयोग दिया । जागरूक माँ बच्ची की पढ़ाई के बारे में पूछने जाती । दाणी मास्टरजी ने पढ़ाई के प्रति उनकी जागरूकता और महत्वाकांक्षा को पहचान कर शांता को ७वीं कक्षा में पूना के सरकारी विद्यालय में दाखिला दिया ।
इस तरह वे घर से बाहर छात्रावास में रहकर १०वीं की पढ़ाई तक आ पहुँची । इसी दौरान उनकी मुलाकात डॉ. लोंढे से हुई जिनसे इन्हें बड़ी बहन का प्यार व आगे पढ़ने की प्रेरणा मिली । दसवीं के रिजल्ट से पूर्व की इनकी माँ का देहांत हो गया । अब शांता के जीवन ने एक नया मोड़ ले लिया । इन्होंने आगे की पढ़ाई जारी रखी । जब बीए की छात्रा थीं तो इनकी मुलाकात दादासाहब गायकवाड़ से हुई । दादासाहब गायकवाड़ डॉ. भीमराव अंबेडकर के साथ मिलकर छुआछूत के भेदभाव से त्रस्त दलित समाज में विद्रोह के स्वर भर रहे थे । उन्होंने शांता को इन सब बातों की जानकारी दी और बाबासाहब डॉ. अंबेडकर से उनका परिचय कराया । पढ़ी-लिखी दलित युवती दलित आंदोलन की जिम्मेवारी अपने कंधों पर उठाए इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है ।
एक बार कार्यकर्ताओं की बैठक में बाबासाहब बोल रहे थे तो उनकी आवाज भर्रा गई । स्वयं को संभालते हुए उन्होंने कहा, “मुम्बई जैसे शहर के बंधुओं की शिक्षा के लिए मैंने बहुत कुछ किया है, परन्तु गाँव में रहने वाले अपने बंधुओं और खासतौर अपनी लड़कियों के लिए मैं कुछ न कर सका, इसका मुझे बेहद दुःख है । ”
शांता इस सभा में उपस्थित थीं । शायद डॉ. अंबेडकर की भर्राई आवाज ने उन्हें जीवन भर ग्रामीण दलित भाई-बहनों के लिए काम करने का संकल्प लेने को प्रेरित किया । शांता ने ताउम्र शादी न करके मिशन का काम करने का संकल्प ले लिया । सार्वजनिक कामों के लिए शांता ने पढ़ाई बीच में छोड़ दी । एक कार्यकर्ता और महिला नेता के रूप में से उन्हें काफी सम्मान मिला । वे नासिक जिले की शेड्‌यूल्ड कास्ट फेडरेशन की अध्यक्ष मनोनीत कर दी गईं । उनके ओजस्वी भाषण महिलाओं के लिए विशेष आकर्षण थे ।
शांता ने महाराष्ट्र के गाँव-गाँव जाकर दलितों खासकर दलित स्त्रियों को जगाने में अपना जीवन लगा दिया । अपनी सहेली उजागरे बाई की देखरेख में स्कूल खोला । सरकार से उनके कार्यों के लिए जब उन्हें दलित मित्र अवार्ड मिला तो अवार्ड की राशि को उन्होंने डॉ. अंबेडकर शताब्दी के लिए दान कर दिया ।
रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के नेता दादासाहब गायकवाड़ के साथ मिलकर इनके प्रयासों से भूमि सुधार आंदोलन में तेजी आई । दादासाहब गायकवाड़ के बीमार हो जाने पर पार्टी के नेतृत्व में बंदरबाँट व षड्‌यंत्र को रोकने में उन्होंने अपने कुशल नेतृत्व का परिचय देते हुए उसे सुलझाने की पहलकदमी की । शांताबाई दाणी ने आरपीआई में टूट-फूट व गुटबंदी को रोकने और एकता लाने के कई बार प्रयास किए ।
आज शांताबाई दाणी हमारे बीच में नहीं हैं परन्तु दलित राजनीति में तथाकथित दिग्गजों की महत्वाकाँक्षा से उभरे विवादों को उन्होंने जिस तरह उन्हें एक साथ लाकर सुलझाने के प्रयास किए वे आज भी हमारे लिए मार्गदर्शक हैं ।
शांताबाई का व्यक्‍तित्व व उनके कार्यों को उत्तर भारत में लाने का यह प्रथम प्रयास सेंटर फॉर आल्टरनेटिव दलित मीडिया(कदम) कर रहा है ।
शांताबाई दाणी के व्यक्‍तित्व और कार्यों से भारत के पाठकों का परिचय कराने के पीछे हमारा उद्देश्य है दलित राजनीति में दलित महिला नेत्रियों के जीवन पर प्रकाश डालने के साथ-साथ तत्कालीन आंदोलन में पितृसत्तात्मक रूझानों को स्पष्ट करना । आरपीआई के अनेक नेताओं में शांताबाई दाणी का नाम अग्रणी है । परन्तु हमारे आंदोलन के कर्णधारों ने स्त्रियों के नेतृत्व व योगदान को जाने-अनजाने में पर्दे के पीछे खिसका देने की भूमिका अदा की है ।
- रजनी तिलक

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन …