Skip to main content

समलैंगिता के खिलाफ ज्योतिषी ने खोला मोर्चा

समलैंगिता को अपराध के दायरे से बाहर रखने के उच्च न्यायालय के फैसले पर उच्चतम न्यायालय ने अपना हथौड़ा चला दिया है । सर्वोच्च न्यायालय ने दिल्ली उच्च न्यायालय के उस फैसले को जाँच के दायरे में ला दिया है जिसके तहत उसने समलैंगिकता को अपराध के दायरे से बाहर कर दिया था । मुख्य न्यायाधीश के. जी. बालकृष्णन एवं न्यायाधीश पी. साथशिवम की एक पीठ ने केन्द्र और नाज फाउंडेशन नामक गैर सरकारी संस्था की उस याचिका पर नोटिस जारी किया है जिसके मुताबिक देश में समलैंगिकता को वैध बनाने की माँग की जा रही थी । हालांकि सर्वोच्च न्यायालय ने उस याचिका को खारिज कर दिया जो दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले पर रोक लगान की माँग कर रही थी । उसका कहना है कि केन्द्र और दूसरे पक्ष के विचार जाने बगैर इस पर फैसला लेना मुमकिन नहीं है । इस मामले की अगली सुनवाई २० जुलाई को होगी । सर्वविदित है कि उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ ज्योतिषी एस. के. कौशल ने याचिका दायर की थी । कौशल की तरफ से एडवोकेट प्रवीण अग्रवाल ने कहा कि उच्च न्यायालय आदेश का समाज पर बुरा असर पड़ेगा । उन्होंने देश में हुए सात गे शादियों के बारे में कुछ नहीं कहा है । न्यायालय ने कहा कि फैसले में शादियों के बारे में कोई बात नहीं थी । सिर्फ समलैंगिकता को अपराध के दायरे से बाहर रखा था । न्यायालय ने यह भी कहा कि उच्च न्यायालय का फैसला सिर्फ भारतीय पीनल कोड की धारा ३७७ को लेकर है । यह कानून १८६० से है और कुछ गिने-चुने मामलों में ही इसका इस्तेमाल किया गया है । न्यायालय ने कहा कि पुलिस इस तरह के मामले में कोई शिकायत दर्ज नहीं करती है । बीते १३० से भी ज्यादा वर्षों में बच्चों के साथ दुष्कर्म को छोड़कर कुछ ही मामलों में इसका इस्तेमाल किया गया है । न्यायाधीश बालाकृष्णन के अनुसार मेरी जानकारी के मुताबिक गे मामलों में किसी को सजा नहीं हुई है । एडवोकेट अग्रवाल ने अपनी याचिका में कहा था कि इस तरह की शादियों पर रोक लगनी चाहिए, जिस पर पीठ ने कहा ‘हमलोगों में शादी की परिभाषा नहीं बदली है । परस्पर सहमति से वयस्कों के बीच समलैंगिक यौन संबंधों को दंडनीय अपराध के दायरे से बाहर करने के दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले ने इस अत्यधिक संवेदनशील और विचारोत्तेजक विषय पर एक नई बहस को जन्म दे दिया था । समलैंगिक संबंधों के बारे में हाईकोर्ट की इस क्रांतिकारी व्यवस्था ने स्त्री-पुरूष के संबंधों से इधर उभर रहे वर्ग के लिए सामाजिक मान्यताओं को नए सिरे से लिखने का प्रयास किया है । हाईकोर्ट का यह फैसला अंतिम न्यायिक व्यवस्था नहीं है । यह मामला अंततः सुप्रीम कोर्ट पहुँच चुका है । वैसे तो भारतीय दंड संहिता की धारा ३७७ में अपेक्षित संशोधन होने तक दिल्ली में हाईकोर्ट के इस फैसले को एक नजीर रूप में पेश कर सकेगा क्योंकि इतने अधिक संवेदनशील विषय पर यह पहली न्यायिक व्यवस्था है । समलैंगिकता पर दी गई इस न्यायिक व्यवस्था की विभिन्‍न धार्मिक नेताओं ने तीखी आलोचना की है । धार्मिक नेताओं का मानना है कि इस व्यवस्था से यौन स्वच्छंदता कायम होगी । कुछ धार्मिक नेता समलैंगिकता को एक तरह की मानसिक बीमारी मानकर इसके उपचार के लिए योग और ध्यान जैसे उपाय करने की हिमायत भी करते हैं । ऐसी स्थिति में इस विवादास्पद विषय पर अब सुप्रीम कोर्ट की सुविचारिता व्यवस्था की आवश्यकता है । हाईकोर्ट की इस व्यवस्था को लेकर नैतिकता और सामाजिक मूल्यों की दुहाई देने का सिलसिला भी शुरू हो गया है । परस्पर सहमति से समलैंगिक संबंधों को कानूनी मान्यता देने की न्यायिक व्यवस्था के बाद अब सवाल खड़ा हो गया है कि आने वाले समय में भारतवर्ष में समलैंगिक विवाह को भी क्या मान्यता मिल जाएगी? यदि ऐसा होता है तो अनेक कानूनी समस्याएं और चुनौतियां खड़ी हो सकती हैं और सरकार तथा विधायिकाको कानूनी प्रावधानों पर नए सिरे से गौर करना पड़ सकता है । समलैंगिक संबंधों को अपराध की श्रेणी से बाहर रखने वाले संगठनों का तर्क है कि वे धारा ३७७ को समाप्त करने के पक्षधर नहीं रहे हैं । उनका यही मानना है कि विचारों में हो रहे बदलावों के मद्देनजर १५० साल पुराने इस कानूनी प्रावधान में भी सुधार किया जाए लेकिन जबरन अप्राकृतिक यौनाचार करने या बल यौनाचार को इस धारा के तहत दंडनीय अपराध बनाए रखना चाहिए । दूसरी ओर, समलैंगिकता को कानूनी मान्यता दिए जाने से असहमति रखने वाले वर्ग का मानना है कि चंद पश्‍चिमी देशों की तरह भारत में इसका अनुसरण करना उचित नहीं है। एक अनुमान के अनुसार भारत में इस समय समलैगिक संबंध रखने वालों की संख्या करीब २५ लाख है । कानून के जानकार महसूस करते हैं कि समाज के इस प्रवृत्ति वाले लोगों के हितों की रक्षा करना परम आवश्यक है । हाईकोर्ट ने इस वर्ग के समता के अधिकारों की ही रक्षा की है जिसकी वजह से अब पुलिस अनावश्यक रूप से उन्हें हैरान और परेशान नहीं कर सकेगी । बहरहाल, इस मुद्दे पर अच्छी-खासी बहस छिड़ चुकी है । कई पहलुओं पर विचार जरूरीसमलैंगिक होना एक मनोवैज्ञानिक विकृति है या सहज जैविक स्थिति, इस बहस ने पश्‍चिमी समाजों में पिछले कुछ दशकों में जोर पकड़ा है । संसार का कोई भी समाज समलैंगिक प्रवृत्तियों से मुक्‍त नहीं है, लेकिन संतानोत्पत्ति से कोई संबंध न होने के कारण इसे प्राकृतिक मानने के बजाय हर जगह एक तरह की विकृति के तौर पर ही देखा जाता रहा है । भारत में अंग्रेजी कानून से पहले इसे आपराधिक कृत्य भले न माना जाता रहा हो लेकिन अनैतिक तो इसे समझा ही जाता था । दर‍असल, समलैंगिक यौन व्यवहार काफी बड़े दायरे की चीज है, जिसमें यह तय करना कठिन है कि कौन लोग इसमें अपनी जैविक मजबूरियों के कारण शामिल हैं और कौन शौकिया तौर पर या किसी मजबूरी में इसमें शामिल हो गए हैं । ज्यादातर समलैंगिकों के अतीत में झांकने पर पता चलता है कि बचपन में वे किसी यौन दुष्कर्म के शिकार हुए थे और फिर उनके लिए सामान्य यौन व्यवहार के दायरे में आना कठिन होता चला गया । इसी तरह समलैंगिक व्यवहार से जुड़े कई लोगों का दखल विपरीत लिंगी यौन व्यवहार में भी बराबर का ही होता है । इससे एक खतरनाक स्थिति बनती है, जहां समलैंगिकता को अपराध के दायरे से बाहर करते ही अपराधों का एक बड़ा दायरा खुल जाता है । दो वयस्क लोग यदि परस्पर सुविचारित सहमति से आपस में यौन संबंध बनाते हैं तो इसके लिए उन्हें अपराधी करार देना एक नजर में न्याय शास्त्र की कसौटी पर खरा उतरता नहीं मालूम पड़ता । लेकिन अगर सहमति को ही एकमात्र आधार माना जाए तो दुनिया के सारे आपराधिक कानूनों के दायरे से सबसे पहले परस्त्रीगमन या एडल्टरी को बाहर किया जाना चाहिए । ऐसा नहीं किया जाता तो इसका कारण यही है कि समाज का एक न्यूनतम ढांचा बनाए रखने के लिए यौन संबंधों के मामले में केवल दो व्यक्‍तियों की आपसी सहमति ही काफी नहीं है । आपराधिक कानून में समलैंगिकता के लिए जगह तय करते वक्‍त सिर्फ डाई हार्ड समलैंगिकों को मजबूतियों का ही नहीं, समाज पर पड़ने वाले इसके असर का भी आकलन किया जाना चाहिए ताकि यह समाज में यौन विकृतियां बढ़ाने का बहाना न बन जाए । राजनीतिक दलों के लिए विकट स्थितिसमलैंगिकता कोअपराध बताए जाने वाली आईपीसी की धारा ३७७ को खत्म करने का फैसला लेना केंद्र सरकार के लिए आसान नहीं है । उदार विचारों के माने जाने वाले केंद्रीय कानून मंत्री वीरप्पा मोइली ने कहा है कि सरकार जल्दबाजी में नही है । स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद ने कहा कि इस मामले पर में चर्चा होना चाहिए । अदालत में इस धारा के अंतर्गत गिरफ्तार लोगों ने अपनी गिरफ्तारी को चुनौती देते हुए याचिकाएं दाखिल कर रखी हैं । पिछली बार इस मामले में तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री शिवराज पाटिल और स्वास्थ्य मंत्री ए. रामदास के विचार अलग-अलग थे । पुराने खयालात के पाटिल ३७७ हटाए जाने के विरोधी थे, जबकि रामोदास इस धारा को आउटडेटेड मानते थे । अब प्रधानमंत्री ने संबंधित मंत्रालयों से कहा है कि वे इस मामले में आमराय बनाकर अदालत को मांगी हुई जानकारी उपलब्ध करवाएं । राजनीतिक दल इस विवादास्पद मुद्दे पर बहुत सावधानी बरत रहे हैं । सत्ताधारी कांग्रेस और मुख्य विपक्षी दल बीजेपी के नेता समलैंगिकता के सवाल पर अपनी राय जाहिर करने से बचना चाह रहे हैं । कांग्रेस के प्रवक्‍ता डॉ. शकील अहमद ने कहा कि इस मामले में पार्टी की कोई राय नहीं है । उन्होंने गेंद सरकार के पाले में डालते हुए कहा कि फैसला सरकार को ही करना है । डॉ. शकील ने कहा कि सरकार की तरफ से कहा जा चुका वह समाज के विभिन्‍न वर्गों और धार्मिक नेताओं से बात करके इस मामले में कोई फैसला लेंगे । एक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने कहा कि हमें वोट तो दोनों के चाहिए । मगर समाज का बड़ा हिस्सा और भारत के सभी प्रमुख धर्मों के नेता इसे अनैतिक बताते हुए ३७७ को बनाए रखने के पक्ष में माहौल बनाने में लग गए हैं । जो भी नेता मुंह खोलेगा उसे मुश्किल हालात का सामना करना पड़ेगा । इस विषय पर बात करते हुए हर नेता ने कहा कि प्लीज उसकी पहचान छिपाई जाए । हाल ही मेंलोकसभा जीतकर आए एक सांसद ने कहा कि अगर हम समलैंगिकता को कानूनी दर्जा देने की बात कहते हैं तो देहात में लोग हमें मारेंगे । गांवों में जबर्दस्त सेंस ऑफ ह्यूमर (हास्य बोध) होता है । वहां हम पर ऐसे-ऐसे कटाक्ष किए जाएंगे कि आप सोच नहीं सकते । गांव के लोग हंसकर कहेंगे कि भाई साहब आप भी? और अगर हम ३७७ को बनाए को बनाए रखने की बात कहते हैं तो यहां शहरों में लोग हमे दकियानूसी कहेंगे । केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद ने कहा कि धारा ३७७ को खत्म करने का मुद्दा सिर्फ कानून या स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ ही है, बल्कि हमारी संस्कृति से भी जुड़ा हुआ है । ऐसे में इस पर सड़क से लेकर संसद तक बहस होनी चाहिए । इसके सभी सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं पर चर्चा के बाद ही कोई फैसला लिया जा सकता है । कॉन्फ्रेंस के दौरान उस समय पूरा हॉल हंसी से गूंज उठा जब आजाद से यह पूछा गया कि समलैंगिकता पर उनकी अपनी क्या राय है, उन्होंने हल्के फुल्के अंदाज में कहा कि मैं समलैंगिक नहीं हूं । मोइली अपने बयान से पलटेकानून मंत्री वीरप्पा मोइली आईपीसी की धारा ३७७ पर अपने पिछले बयान से पलट गए हैं । पहले उन्होंने कहा था कि सरकार समलैंगिकता को प्रतिबंधित करने वाले कानूनों में सुधार लाने के बारे में सोच रही है । अब उनका कहना है कि मेरे बयान का गलत मतलब निकाला गया । यह पूछे जाने पर कि क्या उन्होंने जल्दबाजी में बयान दे दिया, मोइली का कहना था, मैंने आईपीसी की कुछ धाराओं में सुधार की बात कही थी । देवबंद भी समलैंगिकता के खिलाफइस्लामिक शिक्षण संस्था दारूलुलूम देवबंद ने केंद्र द्वारा धारा ३७७ के तहत समलैंगिकता पर लगी रोक को हटाने के प्रस्ताव का कड़ा विरोध किया है । दारूल उलूम का कहना है कि अप्राकृतिक सेक्स इस्लाम सिद्धांत के खिलाफ है । दारूल उलूम देवबंद के डिप्टी वाइस चांसलर मौलाना अब्दुल खालिक मद्रासी ने कहा, समलैंगिकता शरीयत कानून के तहत अपराध है और इस्लाम में इसे हराम माना जाता है । मद्रासी ने केंद्र से आईपीसी की धारा ३७७ न हटाने को कहा है । इसके तहत समलैंगिकता को आपराधिक दर्जा दिया गया है । दारूल उलूम का यह ऐतराज केंद्रीय कानून मंत्री वीरप्पा मोइली के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था आईपीसी की धारा ३०७ को खत्म करने का फैसला समाज के सभी वर्गों के विचार जानने के बाद लिया जाएगा । इनमें चर्च जैसे धार्मिक ग्रुप भी शामिल होंगे । ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के अध्यक्ष मौलाना सालिम कासमी ने भी समलैंगिक संबंधों को अपराध करार देते, हुए कहा, समलैंगिकता इस्लामिक कानून और आईपीसी की धारा ३७७ के तहत दंडनीय है । इसके साथ छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए । बोर्ड के एक और सदस्य मौलाना मोहम्मद सूफियान कासमी और उत्तर प्रदेश इमाम संगठन के प्रेजिडेंट मुफ्ती जुल्फिकार ने भी इसी तरह की बातें कही । कासमी का कहना था कि समलैंगिकता को कानूनी घोषित करने से समाज को नुकसान हो सकता है । मंदिरों व गुरूद्वारों में नहीं होने देंगेधार्मिक संस्थाओं ने फैसला किया है कि मंदिरों और गुरूद्वारों में कोई भी समलैंगिक शादी नहीं होने दी जाएगी । विश्‍व हिन्दू परिषद के मीडीया प्रभारी विनोद बंसल ने बताया कि विभिन्‍न धार्मिक संस्थाओं की बैठक में मंदिर और गुरूद्वारों में समलैंगिक शादियां न होने देने का फैसला किया गया है । उन्होंने कहा कि दिल्ली हाईकोर्ट के हाल के फैसले के बाद सात समलैंगिक जोड़ों के शादी करने के मद्देनजर धार्मिक संस्थाओं को यह फैसला करना पड़ा । चंडीगढ़ में तीन समलैंगिक जोड़ों ने मंदिर अथवा गुरूद्वारे में शादी की । बैठक में सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी, राष्ट्रीय सिख संगत, आर्य समाज, जैन और बौद्ध समाज के प्रतिनिधियों ने भाग लिया । इसमें मांग की गई कि केंद्र सरकार को इस मामले में तुरंत हस्तक्षेप कर अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए । सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष स्वामी रावानंद , केंद्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य, दिल्ली गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के रवींद्र खुराना तथा जैन और बौद्ध समाज के प्रतिनिधि शामिल हुए । बैठक में पारित प्रस्ताव में समलैंगिकता को प्रकृति के खिलाफ घोर अपराध बताया गया और कहा गया कि इसे वैध किए जाने से पारिवारिक व्यवस्था चरमरा जाएगी । धार्मिक प्रतिनिधियों ने कहा कि समलैंगिकता को कानूनी वैधता प्रदान करने से वंश परंपरा पर प्रतिकूल असर पडेगा और इससे सामाजिक ताना बाना बिखर जाएगा । बैठक में कहा गया कि दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में लड़ाई लड़ी जाएगी । ओनिर अनिर्बनयह वाकई एक बड़ा फैसला है और मुझे लगता है के पूरा देश दिल्ली हाई कोर्ट के फैसले से सहमत होगा कि देश में सभी को बराबर के अधिकार मिलने चाहिए । हालांकि यह एक छोटा कदम है, लेकिन उम्मीद है कि यह एक बड़ा बदलाव लेकर आएगा । कह सकते हैं कि यह तो बस सफर की शुरूआत है । कानूनी मान्यता मिलने का मतलब सामाजिक मान्यता मिलना तो नहीं होता, लेकिन इससे इतनी मदद मिलेगी कि अलग सेक्सुअल प्रिफरेंस रखने वाले लोगों को अब समाज में अपराधी नहीं समझा जाएगा । जहां तक फिल्मों की बात है, तो सेंसर बोर्ड को इस मामले में स्वतंत्रता से काम करना चाहिए । होमोसेक्सुअलिटी का मुद्दा दिखाने वाली मेरी फिल्म ‘माई ब्रदर निखिल’ को यू सर्टिफिकेट दिया गया था । कोर्ट की मान्यता से इतना तो फर्क पड़ता है कि आने वाले समय में गे-करैक्टर्स बस हंसी के पात्र नहीं बनेंगे। सेलीना जेटली के अनुसार“मेरी पूरी हमदर्दी और सपोर्ट गे वे लेस्बियन कम्युनिटी के साथ है । होमोसेक्सुएलिटी को अपने देश में कानूनी मान्यता मिल चुकी है । लंबे समय से हम एक लड़ाई लड़ रहे थे और इसे अब हम जीत चुके हैं । यह कम्युनिटी भी अब समाज में अपना सिर ऊंचा करके जी सकती है । ”अमृता अरोड़ा ने कहा“मुझे लगता है कि लोगों को गे कपल्स को नॉर्मल तरीके से लेना चाहिए । मेरे कई फ्रेंड्‌स गे हैं और उनको मिलने जा रहे अधिकारों को लेकर में बेहद खुश हूं । वैसे, हमारे यहां कानूनी मान्यता मिलना ही काफी नहीं है, क्योंकि जब तक समाज किसी चीज को नहीं स्वीकारता, तब तक बात बनती नहीं है । उम्मीद कीजिए कि समाज भी नहीं है । उम्मीद कीजिए कि समाज भी इन्हें स्वीकार कर लेगा ” । तनुश्री दत्ता के अनुसार“एक बार कानून से जिस बात को स्वीकार कर लिया, समाज भी उसे स्वीकार लेता है । हालांकि इसमें वक्‍त खासा लग सकता है । वैसे कानून द्वारा होमोसेक्युअलिटी को मान्यता दिया जाना वाकई एक बड़ा कदम है और इसके अच्छे नतीजे होंगे । ”शेखर सुमन ने कहा“मेरे हिसाब से यह सही समय है जब लोगों को होमोसेक्सुअलिटी को खुलकर स्वीकार करना चाहिए । लोगों को अपनी सेक्सुअल प्रिफरेंस तय करने की छूट होनी चाहिए और मुझे लगता है कि यह तो फंडामेंटल राइट है । वैसे कई देशों में तो पहले ही उन्हें उनके अधिकार दिए जा चुके हैं और मुझे खुशी है कि अब हमारे देश में भी उनके बारे में सोचा जा रहा है । ”इस सबके बावजूद भले ही समाज होमोसेक्सुअल लोगों को स्वीकार करने में हिचकिचा रहा हो लेकिन उन्हें मनोरंजन जगत का खासा समर्थन मिला है । अब जबकि गे व लेस्बियंस को कानूनी मान्यता मिल चुकी है, तमाम सिलेब्रिटीज को उम्मीद है कि समाज भी अंततः इसे स्वीकार कर ही लेगा ।
-गोपाल प्रसाद

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…