Skip to main content

मखाने के कारोबार के सरताज हैं सत्यजीत

शक्‍ति सुधा इंडस्ट्रीज के संस्थापक सत्यजीत कुमार सिंह ने एक जबर्दस्त मिसाल कायम की है । सिंह ने पूरे देश का नब्बे प्रतिशत बिहार में उत्पादित होने वाले मखाना के प्रसंस्करण का उद्योग लगाया और आज उनका टर्नओवर ५० करोड़ रूपए का है । यह उद्योग लगाने से पूर्व वह उपभोक्‍ता वस्तुओं का कारोबार करते थे । बिहार जैसे प्रदेश में जहां उद्योग-धंधों का वैसे ही टोटा है और राज्य सरकार की तमाम कोशिशों के बाद भी उद्योग लगाने वाले लोग सामने नहीं आ रहे हैं वहां सत्यजीत ने मेहनत के बल पर जो मुकाम हासिल की है वह जरूर दूसरों को उत्साहित करेगा ।
प्राकृतिक आपदा, सीमित संसाधन और आधारभूत संरचना के अभाव के कारण बिहार आज भी उद्योगों का रेगिस्तान बना हुआ है । चार साल पूर्व सत्ता परिवर्तन के बाद उद्योग नीति में परिवर्तन, तमाम सहूलियतों के प्रावधान और कानून व्यवस्था की स्थिति में सुधार के बूते राज्य ने निवेश आकर्षित करने की मुहिम छेड़ी लेकिन कामयाबी नहीं मिल पायी । ऐसे में कोई उद्योगपति खाद्य संस्करण की इकाई स्थापित कर कामयाबी का अध्याय लिखे तो यह साधारण बात नहीं है । शक्‍ति सुधा इंडस्ट्रीज के संस्थापक सत्यजीत कुमार सिंह ने ऐसी ही मिसाल कायम की है । सिंह ने पूरे देश का नब्बे प्रतिशत बिहार में उत्पादित होने वाले मखाना के प्रसंस्करण का उद्योग लगाया और आज उनका टर्न ओवर ५० करोड़ रूपए है । यह उद्योग लगाने से पूर्व वह उपभोक्‍ता वस्तुओं का कारोबार करते थे । सत्यजीत ने बताया कि वर्ष २००३ में वह एक बैठक के सिलसिले में दिल्ली गए और वहां उनकी मुलाकात आईसीएआर के डॉ. जनार्दन से हुई । डॉ. जनार्दन ने उन्हें बताया कि मखाना का नब्बे प्रतिशत उत्पादन बिहार में होता है । साथ ही, उन्होंने इसकी मांग और खूबियों के बारे में भी उन्हें बताया । सत्यजीत ने बिहार आकर सबसे पहले मखाना उत्पादन वाले इलाके में जाकर इसकी खेती के हर पहलू का अध्ययन किया । इसके बाद २००४ में उद्योग की नींव डाली । उन्होंने बताया कि मखाना की आमद सुनिश्‍चित करने के लिए उन्होंने चार जिलों में पंचायत स्तर पर तीन-तीन किसानों से करार किया और शून्य बैलेंस पर बैंकों में उनके खाते खुलवाए । इस तरह ८ हजार २०० सदस्य उन्होंने जोड़े । वर्ष २००४ में जब मखाना की कीमत उन्होंने ५० से १०० रुपए प्रति किलो थी, उन्होंने किसानों से सौ रूपए प्रति किलो के दर से खरीद कर आज १२५ रूपए प्रति किलो की दर से किसानों को भुगतान कर रहे हैं । सत्यजीत ने जिस तरह खेत से बाजार तक खरीद, ढुलाई और प्रसंस्करण का नेटवर्क तैयार किया है, उसे उत्पादन में क्रांति की संज्ञा दी जा रही है ।
आज शक्‍ति सुधा मखाना की बिक्री देश के १५ राज्यों में हो रही है । इसके अलावा पाकिस्तान, कनाडा समेत कई देशों में इसका निर्यात हो रहा है । सत्यजीत सिंह ने बताया कि अभी प्रति वर्ष उत्पादन ढाई हजार टन और टर्न ओवर ५० करोड़ का है । वर्ष २०१२ तक उनका लक्ष्य टर्न ओवर १०० करोड़ पर पहुंचाने का है और उन्हें भरोसा है कि वह इसे हासिल कर लेंगे । हालांकि आज भी उन्हें कई दिक्‍कतों का सामना करना पड़ता है । मसलन, तालाबों में उत्पादित मखाने की खरीद, उसकी ढुलाई और भंडारण आसान नहीं है । मखाना खरीद के लिए एक-एक किसान के दरवाजे पर दस्तक देनी होती है । वह राज्य सरकार से मंडियों में थोड़ी जगह आवंटित करने की मांग करते रहे हैं । उनका कहना है कि ऐसा होने पर वह मंडियों में एक जगह अनेक किसानों से मखाना की खरीद कर सकेंगे ।
-विनोद बंधु

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन …