Skip to main content

क्या रावण जल गया ?

अधर्म पर धर्म की विजय के रूप में प्रत्येक वर्ष विजयादशमी का त्यौहार मनाया जाता है । दुर्गा पूजा के अंतिम दिन अर्थात विजयादशमी को रावण का पुतला जलाया जाता है । संपूर्ण भारत में विजयादशमी का यह त्यौहार संपन्‍न हो गया परन्तु जाते-जाते कुछ संदेश भी छोड़ गया जिस पर गहन चिंतन की आवश्यकता है । १९८९ में केन्द्र सरकार के खिलाफ शुरू हुए विद्रोह के बाद पलायन के २० वर्षों तक कश्मीरी पंडितों को दशहरा मनाने का सिलसिला रूक सा गया था, परन्तु इस बार उन्हें कश्मीर में दशहरा मनाने को मंजूरी मिली । आतंकवाद के बावजूद कश्मीर न छोड़नेवाले ३२६५ कश्मीरी पंडितो के हितों के लिए संघर्षरत कश्मीरी पंडित संघर्ष समिति (केपीएसएस) ने इस साल विजयादशमी पर कश्मीर में रावण, मेघनाथ, कुंभकर्ण जलाने का फैसला किया था । राजौरी में रूखसाना नामक लड़की ने शक्‍तिरूपा दुर्गा का रूप धारण कर आतंकवादियों का बहादुरी से मुकाबला किया । साधारण गाँव की इस लड़की के घर में नवमी के रात्रि में तीन आतंकवादी घुस आए थे । इन आतंकवादियों ने रूखसाना के अपहरण करने की कोशिश की थी । रूखसाना दो साल पहले १० वीं में फेल होने के बाद से पढ़ाई छोड़ चुकी थी और साधारण स्थित अपने घर में रहती थी । पुलिस सूत्रों के अनुसार घर में घुसने के बाद आतंकवादियों ने रूखसाना को सौंपने की माँग की । रूखसाना के पिता नूर हुसैन, माँ राशिदा और भाई इजाज ने इसका विरोध करने पर आतंकवादी उन्हें राइफल की बट से मारने लगे । इससे गुस्साई रूखसाना ने कुल्हाड़ी उठाई और एक आतंकवादी को ढेर कर दिया, जो लश्कर-ए-तैबा का अबू ओसामा था । रूखसाना के वार से दूसरा आतंकवादी घायल हो गया । डीजीपी ने रूखसाना को इनाम देने का ऐलान किया है । इस घटना ने साबित कर दिया कि वास्तव में रावण को खत्म करने के लिए साहस और पराक्रम होना चाहिए । सभी नागरिकों में यह भावना जागृत होनी चाहिए । यहाँ एक रावण क्या करोड़ों रावण हैं । क्या सब रावण जल गया ? इंदौर में रावण का पारंपरिक पुतला न बनाकर इसे मुंबई हमलों में पकड़े गए आतंकवादी अजमल कसाब का रूप दिया । दशहरा उत्सव आयोजकों के अनुसार आज आतंकवाद हमारा सबसे बड़ा दुश्मन है । इसलिए हमने फैसला किया कि रावण की जगह पाकिस्तानी आतंकवादी कसाब का पुतला जलाया जाय । सरकार तो कसाब को सजा नहीं दे पाई लेकिन इस तरह हम अपनी भावनाएँ जता रहे हैं । ” कसाब रूपी रावण का पुतला जलाया जाना इस बात का प्रतीक है कि आक्रोशित जनता की अभिव्यक्‍ति क्या रूप ले सकती है । दशहरा के मौके पर हरियाणा के बराड़ा कस्बे में दुनियाँ के सबसे लंबे रावण के १७५ फुट के पुतले को आग लगाई गई जिसे खड़ा करने में ही १२० फुट लंबी क्रेन की मदद लेनी पड़ी । स्थानीय रामलीला क्लब के अध्यक्ष तेजिन्द्र राणा के अनुसार जैसे-जैसे समाज में बुराईयाँ बढ़ रही हैं, वैसे-वैसे रावण का पुतला भी बड़ा किया जा रहा है । इधर कानुपर में दलितों ने रावण का पुतला जलाने के विरोध में रावण मेले का आयोजन किया और रावण की पूजा की । प्रश्न यह उठता है कि दलितों ने रावण को जलाने के बजाय रावण की पूजा क्यों की? यह शोध का विषय है कि अत्याचार, शोषण, भ्रष्टाचार और आतंकवाद के प्रतीक रावण को यहाँ महिमामंडित क्यों किया गया ? देश के रहनुमाओं, चिंतकों, समाजशास्त्रियों एवं इतिहासकारों को रावण के इर्द-गिर्द के तमाम प्रश्नों के हल तलाशने होंगे क्योंकि इन प्रश्नों के उत्तर एवं समाधान का सीधा संबंध हमारे राष्ट्र की एकता, अखंडता एवं संप्रभुता से है । रावण के पुतले को जलाने का सही और सापेक्ष संदेश समाज में अगर नहीं जा रहा है तो यह गंभीर चिंता का विषय है । पद, प्रतिष्ठा और पावर वाले व्यक्‍ति खुद को देश, कानून और उपर समझने लगता है । पावर का दुरूपयोग खबर तब बनती है जब आम जनता या तो बहुत अधिक सताई जाए या फिर पावर बनाम पावर का गेम खुलकर सामने आए । समय दर्पण परिवार की ओर से सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

एक आरटीआई एक्टिविस्ट के संघर्ष की कहानी, उसी की जुबानी

पिताजी गुरु भी थे। गरीबी, प्राइवेट ट्यूशन वगैरह करके आजीविका चलाते; परिवार चलाने के साथ-साथ सारे समाज, देश की चिंता उनका प्रमुख स्वभाव रहा। हमेशा दूसरों से कुछ अलग करने की चाह; सीमित संसाधनों में भी देश, समाज और मित्रों के लिए समय निकालना; शायद उनका यही स्वभाव मेरे मस्तिष्क में रच-बस गया, कार्यशैली का हिस्सा बन गया। छात्र जीवन बहुत फाकाकशी, गरीबी का रहा, लेकिन मेरे पिताजी ने अपने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। हमारे मकान का धरन (कड़ी) लकड़ी का था, जो टूट गया था। उसी पर पूरे छत का लोड था। मकान कब गिर जाय, कुछ ठिकाना नहीं।प्लास्टिक के टेंट लगाकर रहते थे। कभी घर में चूल्हा भी नहीं जलता था। ऐसी ही परिस्थितियों में एक बार गुल्लक तोड़ा, तो पाँच रुपए निकले। उन्हीं से दो किलो चूड़ा लाया था। उसी को भिंगोकर, नमक-मिर्च लगाकर सपरिवार ग्रहण किया। अपनी शादी बिना तिलक-दहेज के की। दो बहनों की शादी आज से बीस साल पहले दिल्ली में मात्र सत्रह हजार की मामूली रकम में ही की। दोनों बहनों की शादी एक ही तिथि में किया। हमारे समाज (अखिल भारतीय खटिक समाज) के जो राष्ट्रीय पदाधिकारी थे, उन्होंने अपना मकान पंद्…